शादी के रात एक खूबसूरत पारी की चुत मिला चोदने के लिए – Shadi Ke Raat Ek Khubsurat PariKi Chut Mila Chodne Ke Liye

ek khubsurat ladki ka chudai ki - hindi sex story
ek khubsurat ladki ka chudai ki - hindi sex story
Submit Your Story to Us!

भाउज में आज एक नयी हिंदी सेक्स स्टोरी के साथ आप सब के पास मैं सुनीता | उमीद हे की हमारी कहानी आपको पसंद अति होगी फिर भी किसी भी प्रकार की चाहत यानि कोई भी फीडबैक आप देना चाहते हे तो हमें निच्चे कमेंट बॉक्स पर लिखके दीजिये हम आपकी बात को जरूर गुरुत्व देंगे | अभी इसी गन्दी कहानी का मजा लीजिये…

प्रिय भाइयो, मेरा नाम अजय है लोग मुझे आर.जे. के नाम से जानते हैं। मेरी उम्र 23 साल है। रंग गेहुंआ है, मेरे बाल और आंखें भी हल्की भूरी हैं। मेरा कद 5’5” है और ऊपर वाले ने शक्ल भी ऐसी बनाई है कि लड़कियां जल्दी पट जाती हैं।

यह मेरी बहुत ही खास कहानी है.. जो कि एकदम सच्ची है। मैंने लड़कियां बहुत सी पटाईं.. पर इस घटना की बात ही अलग है।

मैं कुछ दिन पहले एक शादी में गया था। मेरी मुलाकात एक लड़की से हुई.. उसका नाम इशा था।
मेरे लिए तो वो एक हूर की परी जैसी थी।
उसका रंग एकदम दूध सा गोरा था।
आँखें एकदम हिरनी के जैसी..
उसके गाल गुलाब के पंखुड़ियों जैसे..
होंठ एकदम तरगुलाबी..
उसके नागिन से लहराते हुए बाल..
कमर तक आते थे।

उसकी बलखाती हुई कमर 30 इंच की होगी जबकि उसकी उम्र अभी कुल 19 साल के लगभग की रही थी।

उसने आधुनिक कपड़े पहने हुए थे, टी-शर्ट और घुटनों से थोड़ा नीचे आने वाली स्कर्ट पहने हुई थी।
उसकी टी-शर्ट शॉर्ट थी.. जिसकी वजह से उसकी गोरी कमर दिख रही थी।

यह देख कर तो मुझसे रहा नहीं गया और मैं एक बार टॉयलेट जाकर हस्तमैथुन कर आया।

अब मुझसे उसे पटाए बिना रहा नहीं जा रहा था।
तभी मैंने देखा कि वो खाना खाने गई.. मुझसे रहा नहीं गया और मैं भी उसके पीछे चला गया।

उसे लगा कि मैं उसका पीछा कर रहा हूँ.. तो उसने मेरी तरफ़ घूर कर देखा।

मैंने उसकी तरफ से नजरें हटा लीं, मैं इधर-उधर देखने लगा।

फिर वो खाना खाने लगी, मैं भी खाना लेकर वहीं उसे देखते हुए खाना खाने लगा।

उस खाने का स्वाद आज भी मुझे याद है।
इतना बेकार था कि बता नहीं सकता.. पर कहते हैं ना कि मजबूरी में आकर हर चीज करनी पड़ती है।

मेरी नजरें तो उसी पर थीं.. और वो भी मुझे देख कर गुस्सा होने का नाटक कर रही थी।
उसके मदमस्त फिगर को देख कर मैं पागल हुए जा रहा था।

फिर न जाने क्या हुआ कि उसकी स्कर्ट पर सब्जी गिर गई.. जिस पर उसका ध्यान नहीं था। वो वहाँ से जा रही थी तो मैंने उसके नजदीक जाते हुए कहा- एक मिनट रुको।

वो नहीं रुकी.. तो मैंने दौड़ कर उसका हाथ पकड़ लिया।

उसने कहा- मेरा हाथ छोड़ो.. वर्ना भैया को बता दूंगी।

मैंने जेब से रुमाल निकाला और उसकी स्कर्ट को साफ़ करने लगा।

वो यह देख कर थोड़ा शान्त हुई और ‘सॉरी’ बोलकर चली गई।

उसने जाते समय पलट कर स्माईल दी।
मैं उसका पीछा करते हुए गया.. तो देखा कि वो एक कमरे में घुस गई थी.. शायद अपने कपड़े ठीक करने गई थी।

मेरा मन नहीं माना.. तो बाजू वाली खिड़की थोड़ी सी खोल कर उसे देखने लगा, देखा.. तो वो अपने कपड़े बदल रही थी।

उसने अपने सारे कपड़े उतार दिए.. इस वक्त वो केवल गुलाबी कलर की ब्रा और पैन्टी पहने हुए खड़ी थी।

कसम से यार यूं लगा कि उसी वक्त उसको पकड़ कर चोद दूँ।
पर मेरे मन ने गवाही नहीं दी।

मैं इधर-उधर देख रहा था कि मुझे यहाँ कोई देख न ले।

तभी मुझे ऐसा लगा कि उसने मुझे देख लिया, तो मैं खिड़की के पीछे छुप गया।
फ़िर कुछ पल बाद मैं वहाँ से चला गया।

अब मैं बाहर पंडाल में शादी के स्टेज के पास जाकर बैठ गया और उसका इन्तजार करने लगा।
कुछ देर बाद मैंने नजर उठा कर देखा तो वो अपनी किसी सहेली के साथ आ रही थी।

यार उसे देख कर तो मेरे होश ही उड़ गए।
मैं उसको देखता ही रह गया। ऐसा लग रहा था जैसे कोई परी हो..

वो परपल कलर का लांचा पहन कर आई थी।

थोड़ी देर के लिए तो मानो में था ही नहीं.. उसने मुझे देखा तो मुझे लगा कि वो शर्मा रही थी। मैं समझ गया कि उसने मुझे कपड़े बदलते समय देख लिया।

मैं जिस दोस्त के यहाँ शादी में आया था, मैंने उससे पूछा- वो लड़की कौन है?
उसने कहा- मेरी बुआ की लड़की है।

मैंने आगे कुछ नहीं कहा।

जब जयमाला हो रही थी.. तो सब दूल्हा-दुल्हन के ऊपर चावल के दाने फेंक रहे थे। मैं उसके पीछे खड़े होकर उसके सिर में चावल के दाने फेंक रहा था।
वो बार-बार पीछे मुड़ कर देखती तो मैं इधर-उधर देखने लगता।

शादी होने के बाद सभी बैठे हुए थे.. तो मैं उसके सामने कुर्सी लगा कर बैठ गया और उसको एकटक देखने लगा।
वो जैसे-जैसे कर रही थी.. मैं उसकी नकल करने लगा।

यह देख कर वो बार-बार हँस रही थी।
फिर वो पानी पीने गई.. तो एक जग में पानी लाई।

उसने आस-पास बैठे सभी से पानी के लिये पूछा पर मुझसे नहीं पूछा।
पानी मुझे नहीं मिला तो मैं गुस्सा हो गया और वहाँ से उठ कर चला गया।

बाहर जाकर मैं सिगरेट पीने लगा।

वो उधर से पानी लेकर आई, उसने मुझे देखा और मेरे होंठ से सिगरेट छुड़ाकर फेंक दी और मुझे पानी का गिलास देकर चली गई।

मैं फिर अन्दर गया.. वहाँ सब अन्ताक्षरी खेल रहे थे मगर वो वहाँ नहीं थी।

मैं वहीं बैठ गया और सबके साथ में खेलने लगा।
कुछ देर बाद वो मेरे पास आकर बैठ गई।
फिर मैंने अपने पैरों से उसके पैरों को छूना शुरू किया.. तो उसने अपने पैर हटा लिए।

मैंने उसकी तरफ़ देखा तो उसने कुछ नहीं कहा।
मैं फिर से उसके पैरों को छूने लगा।
इस बार उसने भी मेरे पैरों को छूना चालू कर दिया।

shadi ke raat chodi ek khubsurat chut

फिर खेल में होने वाले गानों ही गानों में हमने अपने प्यार का इजहार किया। कुछ देर बाद वो वहाँ से उठ कर जाने लगी और जाते हुए उसने मुझे इशारा कर दिया।

मैं भी उसके पीछे गया.. वो मुझे छत पर ले कर गई।
छत पर ऊपर जाना मना था इसलिए हम दोनों को किसी के आने की कोई टेन्शन नहीं थी।

बस फिर क्या था.. मैंने उसके करीब जाते ही उसको अपनी ओर खींच लिया और पागलों की तरह उसको किस करने लगा।
उसके मम्मों को दबाने लगा।

मैंने उसके ऊपर के कपड़ों को उतार दिया और उसके दूध पीने लगा। मैंने नीचे हाथ लगाया तो उसने नीचे का लांचा नहीं निकालने दिया।

अब वो मेरे लण्ड को हिलाने लगी थी, मैं भी उसके मम्मे पी रहा था और दबा भी रहा था।
उसके चूचों का साइज मेरे हाथ से भी बड़ा था।
मैंने उसकी चूची में काट लिया, तो वो आहें भरने लगी ‘उम्ह आह.. जानू उम्ह आह.. मत तड़पाओ मुझे.. और मेरी प्यास बुझा दो।’

मेरे लंड का साइज भी कम नहीं था।
मेरा हथियार घुसवा कर भी किधर सहन करने वाली थी।

बस फिर क्या था.. मुझे पता था कि इसकी चूत की सील कैसे खोलनी है।

उसके सब्र का बान्ध टूट गया और बोली- जानू.. मैं मर जाऊँगी.. अब मत तड़पाओ.. प्लीज़ चोद दो मुझे।

मैंने उसको छत पर ही लिटा दिया और लांचा ऊपर उठा कर पैन्टी निकाल दी।
अब उसकी चूत में अपना लौड़ा टिका कर थोड़ा सा धक्का दिया।

उसने लौड़े की ठोकर लगते ही चीख मार दी।

मैंने उसके होंठों को अपने होंठों से दबाया और फ़िर धीरे से पूरा डंडा चूत के अन्दर उतार दिया। वो दर्द से रो रही थी.. पर धीरे-धीरे ऊपर-नीचे करता रहा।
उसका दर्द कम हुआ तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी।

तभी उसने भी अपने चूतड़ों को नीचे से उठाया।
बस फिर क्या था.. जम के धक्के मारे।
उसके मुँह से निकल रहा था- चोद दो मुझे.. और जोर से.. और दम से.. इस कुंवारी चूत को सुहागन बना दो.. आह.. ऊह.. मम्मी.. मर गई.. चोद दो.. और जमके जानू.. मैं झड़ने वाली हूँ।

वो ये सब चिल्लाती हुई झड़ गई।
उसकी चूत के पानी की गर्मी से मैं भी झड़ गया।
मैंने पूरा माल उसकी चूत में ही भर दिया।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*