Now registration is open for all

Archives

Antarvasna भाभी मैक्सी की जिप बन्द करते हुए बोलीं- तुम्हें भी मौज करा दूंगी परसों की छुट्टी ले लो परसों मौसी को अस्पताल जाना है, मैं घर मैं अकेली रहूंगी।
मैंने कहा- समझो मैंने छुट्टी ले ली।
तभी मौसी के ऊपर आने की आहट हुई, भाभी ने जाकर दरवाज़ा खोल दिया।
मौसी ऊपर आ गई, हम सब लोगों ने साथ नाश्ता किया।
उसके बाद मैंने नीचे कमरे मैं जाकर सुलगते हुए लंड की मुठ मारी और कपड़े पहन कर ऑफिस चला गया।
ऑफिस जाकर मैंने एक दिन बाद की छुट्टी ले ली और बड़ी बेचैनी से परसों का इंतज़ार करने …
कुछ समय पहले मेरी सरकारी नौकरी लखनऊ से 200 किलोमीटर दूर एक शहर में लगी तो मैं वहाँ अपने रिश्ते की एक मौसी के यहाँ रह रहा हूँ।
मौसी के एक बेटे, बहू घर में ऊपर, मैं और मौसी नीचे रहते हैं।
भैया सुबह आठ बजे नौकरी को चले जाते, सविता भाभी मौसी के साथ काम कराती रहती हैं।
लड़कियों को घूरना, मुठ मारना, ये सब और लड़कों की तरह मैं भी करता हूँ। मैंने किसी औरत या लड़की के बदन को हाथ नहीं लगाया था। ऊपर वाली सविता भाभी से एक दो बार मेरी हल्की फुलकी बात हुई थी …
ମୋ ରୁମକୁ ଯିବା ବାଟରେ ମୁଁ କାହାର କାନ୍ଦିବା ଶବ୍ଦ ଶୁଣିଲି । କାନ୍ଦିବା ଶବ୍ଦ ମୋ ବୋହୂ ରୁମରୁ ଆସୁଥିଲା । ମୁଁ ଅଟକି ଗଲି । ଡୋର ଦେଇ ଭିତରକୁ ଚାହିଁଲି । ଦେଖିଲି ବୋହୂ ବେଡ଼ରେ ପେଟେଇ ଶୋଇ କାନ୍ଦୁଚି । ଭାବିଲି, ମୁଁ ଭିତରକୁ ଯାଇ ପଚାରିବି କି? ମୋର ଏହା କରିବା ଠିକ୍ ହେବ ତ?
ମୋ ନାଆଁ ହରିରାମ । ମୋ ବୟସ ୬୨ ବର୍ଷ । ମୁଁ ମୋ ଗାଆଁ ସ୍କୁଲରେ ଶିକ୍ଷକ ଅଛି । ଦୁଇ ମାସ ତଳେ ମୋ ସ୍ତ୍ରୀ ମରି ଯିବାରୁ ମୁଁ ପୁଅ ପାଖରେ ରହିବା ପାଇଁ ଏଠାକୁ ଆସିଛି । ମୁଁ ଗାଆଁରେ ଏକୁଟିଆ ନ ରହି ଏଠାରେ ସହରରେ ତାଙ୍କ ପାଖରେ ରହିବା ପାଇଁ ପୁଅ ଜୋର ଦେଉଛି ।
ଏଠାରେ ପୁଅ ରାହୁଲ, ତା ସ୍ତ୍ରୀ ମୋହିନୀ ଏବଂ ନାତି ରହୁଛନ୍ତି

ଦିନ ୨ଟା ବାଜି ଥିଲା । ବାହାରେ ଜୋରରେ ବର୍ଷା ହେଉଥିଲା । ବର୍ଷା ସାଙ୍ଗକୁ ଭୀଷଣ ଘଡ଼ ଘଡ଼ି ବି ମାରୁଥିଲା`। ରିଙ୍କି ଶୋଇ ପଡ଼ିଥିଲା । ସେ ମୋ ସାନ ଭଉଣୀ । ଟୋକି ଆଜି ବହୁତ ଥକି ଯାଇଚି । ତାକୁ ପୁଣି ଉଠେଇ ଏବେ ହାଲିଆ କରିବା ଠିକ୍ ହେବନି ବୋଲି ଭାବିଲି । କାରଣ ରାତିକି ତ ପୁଣି ଥରେ ତାକୁ ଶିକାର କରିବାକୁ ହେବ । ମୋତେ କାହିଁକି ଭାରି ଶୋଷ ଲାଗିଲା । ପାଣି ପିଇବି ବୋଲି ରୋଷେଇ ଘରକୁ ଯାଉଥିଲି । ମନ କ’ଣ ହେଲା କେଜାଣି ଟିକିଏ ବୋଉ ରୁମ ଆଡ଼େ ମାଡ଼ିଗଲି । ବୋଉ ତା ରୁମ ଭିତରେ ବେଡ଼ ଉପରେ ବସି ବ୍ୟସ୍ତ ହୋଇ ତା ପାଦ ଓ ଗୋଡ଼କୁ ଘଷୁଥିଲା । ମୁଁ ରୁମ ଭିତରକୁ ଗଲି ।
ମୁଁ – କ’ଣ ହେଲା

Sunita Bhauja ra ehi gapa ti purba gapa tira dutiya bhaga.

Hello pathaka o pathika mane mu akash puni eka new story nei apana mananku garam ru garam karibaku asijaichi. Asa kare mo pratham kahani (Mo sexy bada dudha wali wife) apana mananku moro aau mo stri bisayare samyak gyana deiparichi. Mu katha deithili j next story re mu mo para dina katha kahibi…so eithu arambha hela…
Hhuunhhhhhss…hhuuunhhhss…sound re sange sange heithiba mo nida ta hathat bhangigala. Ye ki sabda..!!! mu doubt re uthipadili, sound ta balcony ru asuthae.. ama balcony tike bada size ra thila. Bacony ku lagi gote

यह कहानी है मेरे मामा के लड़के की बीवी यानि मेरी भाभी की !
मैं कुछ दिनों के लिए अपने मामा के यहाँ गया हुआ था, वहाँ मेरे मामा, मामी, उनका बेटा रोहित और उसकी बीवी अंजलि हैं, उनकी शादी 6 महीने पहले ही हुई थी। भाभी की उम्र यही कोई 22-23 होगी, कसा हुआ बदन, गोरा रंग !
इस बार से पहले मैं 12 साल की उम्र में गया था तो अब मैं किसी आसपास वाले को पहचान नहीं पा रहा था।
सभी मेरा बहुत ख्याल रख रहे थे। मामा का बेटा फ़ौज में है, उस समय भी वो …
शालिनी राठौर
प्रेषक : राज कार्तिक
हाय दोस्तो… आपकी शालिनी भाभी एक बार फिर से आप सबके लण्ड खड़े करने आ गई है अपनी एक नई कहानी लेकर।
दोस्तो, जब राज ने मेरी पहली कहानी “तो लगी शर्त” अन्तर्वासना पर भेजी थी तब मुझे एहसास भी नहीं था कि एक दिन मेरे आगे पीछे ऊपर नीचे चारों तरफ लण्ड खड़े होंगे मुझे चोदने के लिए। आज मेरी कहानी का हर एक दीवाना मुझे चोदने को बेचैन है। सच मानो अब तो मेरी चूत भी चाहती है कि मैं अपने हर दीवाने का लण्ड अपने अंदर घुसा कर चुद जाऊँ पर …
शालिनी राठौर
प्रेषक : राज कार्तिक
शालिनी भाभी का अपने प्यारे प्यारे दोस्तों को सप्रेम चुम्बन… कितना प्यार करते हैं आप सब मुझे…
आप सबकी मेल पढ़ पढ़ कर मैं तो गदगद हो जाती हूँ। बहुत से दोस्त अपने मोटे मोटे लण्ड की फोटो मुझे भेजते हैं जिन्हें देखते ही चूत में गुदगुदी होने लगती हैं। आप सबकी मेल पढ़ कर चुदवाने के लिए बैचैन हो जाती हूँ।
आज जो अपनी चुदाई का किस्सा आप सब को बता रही हूँ वो अभी कुछ दिन पहले ही हुआ है। मेरी कहानी ‘गर्मी का ईलाज’ आई थी तब। कहानी आने के बाद
टीवी पर आ रहे दृश्य से श्रद्धा को एक झटका सा लगा। उसने अपने पास ही बिस्तर पर बैठे जीजा को झिंझोड़ते हुए कहा- नरेन्द्र ! नरेन्द्र ! देखो !
टीवी पर एड चल रहा था… कल रात मुझ से भूल हुई… सावधानी नहीं ली… मैं गर्भवती होना नहीं चाहती… अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए बहत्तर घंटे के भीतर गोली लें।
नरेन्द्र ने विज्ञापन खत्म होते ही पैरों में चप्पलें डाली और झपट कर मोटर साईकिल पर निकल गया, पास के मेडिकल स्टोर पर पहुँचा।
उसे बोलने की आवश्यकता नहीं पड़ी, स्टोर के काऊंटर के साथ की दीवार पर
बाबा हरामी दास
हमारे घर में मेरा बड़ा भाई अनुज, भाभी नेहा, मम्मी, पापा और मैं रहते हैं। भाई की शादी दो साल पहले हुई थी। भाभी मेरी ही उम्र की हैं। भाभी का गोरा रंग, बदन 36-28-38, वो बहुत ही खूबसूरत और सेक्सी हैं। भाई ट्रैवल कंपनी में टूर प्रबन्धन करते थे, कभी कभी वो
एक महीने के लिए टूर पर जाते थे क्योंकि उन्हें लोगों के खाने पीने का इंतज़ाम करना पड़ता था।
एक बार की बात है भाई टूर के साथ नेपाल गए थे, 25 दिनों का टूर था, घर में सिर्फ मैं, भाभी, मम्मी, पापा ही …