Now Read and Share Your Own Story in Odia! 90% Odia Sex Story Site

Hindi Font

नौकर ने किया मेरी चुदाई, फटगयी मेरी चूत – Naukar Ne Kiya Meri Chudai, Fatgayi Meri chut

हेलो दोस्तों, यानि मेरे प्यारे देवर और ननंद, चूत की ख्जलि हो या जलन सिर्फ लंड से ही बुझती हे. चाहे वो किसीकी भी हो अपने भाई , फ्रेंड यानि घर की नौकर जो भी हो बॉस उसी कामुक समाया पर एक लंड ही चाहिए चूत को और लंड को एक चूत. नौकर ने कैसे छोड़ा मालिकिन को पढ़िए और मजा लीजिये और शेयर कीजिये अपने दोस्तों के साथ हमारे ये कहानी. Bhauja.com पे हम हर दिन कुछ नयी कहानी के साथ ही आएंगे.
हेल्लो दोस्तों.. में शादीशुदा ओरत हूँ. मेरी उम्र 31 साल हे. मेरा नाम पार्वती हे. मेरा फिगर 38-29-40 और मेरी हाइट यही कोई 5″होगी. अब में अपनी कहानी पर आती हूँ । में एक जॉइंट फॅमिली में रहती हूँ. मेरे पति, बच्चे, सास और ससुर साथ ही रहते है. ये कहानी आज से करीबन 6 साल पहले कि बात है. मेरे सास और ससुर अमेरिका चले गये थे, मेरे पति ट्रैनिंग के सिलसिले मे देश से बाहर थे, करीबन एक महीने हुए थे अपने पति के साथ सेक्स किये हुए. नयी नयी शादी हुई थी और में जवान थी. मेरे अंदर गुदगुदी होने लगी थी. मुझे क्या पता था कि मेरे घर के पास वाले घर मे जो नौकर था. लेकिन वो नौकर हो के भी उस मकान मालकिन का बेटे जैसा रहता था. वो मेरे सुडौल बदन को बहुत घूर घूर के देखता था लेकिन मुझे कोई पता नही था।

एक दिन की बात है वो मुझे घूर रहा था की मेरी आँख भी उसके उपर पड़ी. मस्त जवान लड़का मुझे घूर रहा है, और मेरे भीतर कुछ होने लगा. में मुस्कुराई. उसे मेरा सिग्नल मिल गया. थोड़ी देर बाद वो मेरे घर पर आया और मेरे दरवाजे पर दस्तक दी. मैने दरवाजा खोला और वो मेरे घर के अंदर घुस गया. मैने उससे पूछा “किस को मिलना है आप को?” उसने जवाब मे कहा “तुम से यार” में खड़ी खड़ी देखते रह गयी और उसने उसी वक़्त मेरे दोनो बोब्स को दबोच लिया।
फिर उसने कहा

“तुम्हारे बदन को देखकर में पागल सा हो गया हूँ

, आज तुमने मुझे सिग्नल दे कर बहुत अच्छा काम किया है मेरी जान

” में भी रोमांचित हो गयी

, और में कुछ नही कर सकी. उसने दरवाजा अंदर से बंद किया और मेरे दोनो बोब्स को सहलाते हुए मेरे बेड रूम की तरफ चल दिया. में भी खीची खीची चली गयी. उसने मेरे कमर पर हाथ मसल कर बोला

READ ALSO:   मेरा पहला अनुभव चचेरी भाभी की चुदाई का

, “ मेरी जान तू मुझे पागल कर के ही छोड़ेगी है ना

?” में कुछ कह नही सकी उसने मुझे मेरे बेड पर लिटाया और मेरे होंठ और बदन पर चूमने लगा. मेरे मूह से आवाज़ आने लगी. में पूरी तरह तेयार हो चुकी थी।
उसने मेरी साड़ी उतार फेकी मेरे ब्लाउस को बी उतार फेका

, फिर उसने मेरे पेटीकोट को भी उतार फेका. अब में उसके सामने ब्रा और पेंटी मे थी. उसी वक़्त उसने अपने सारे कपड़े फेक डाले. उसके लंड को देखकर में घबरा गई

, उसका लंड काला मोटा था उसका साइज़ यही कोई

8½” लम्बा और

2½” मोटा था. लेकिन करीबन एक महीने हो चुके थे मैने लंड का मज़ा नही पाया

, इसीलिए मेने अपनी आँख बंद की. वह अपना औजार मेरी चूत के नज़दीक ले के गया और मेरे उपर झुक गया. में उसकी गर्म साँस को महसूस करने लगी. उसने अपने लंड को मेरी चूत के अंदर डालना शुरू किया

, मुझे दर्द होने लगा में दर्द से चिल्लाने लगी तो उसने अपने होंठो को मेरे होंठो पर रख के चूसने लगा और दबाने लगा।

बाद मे मुझे भी आनंद आने लगा तो में पूरी तरह से उसके साथ खेलने लगी. हम आधे घंटे तक खेलते रहे और बाद मे मेरा झड़ गया और उसके ठीक दो मिनिट बाद उसने अपना पूरा वीर्य मेरे चूत के अंदर डाल दिया और हम दोनो सो गये. करीब एक घंटे बाद वो दूसरी बार मेरे साथ खेल के अपने घर चला गया. अगले दिन फिर करीबन दिन के

11:15 बजे के आस पास उसने मेरे मेरे दरवाजे पर दस्तक दिया और मेने दरवाजा खोला और उसको मेरे कमरे मे आने दिया. मैने घर का दरवाजा बंद किया और उसके पीछे पीछे चली आई. उसने मेरे बोब्स को सहलाया और मेरे को नंगे होने को कहा और वो अपने पुरे कपडे निकाल फेका. में भी पूर तरह से नंगी हो गयी और उसने मेरा निप्पल चूसा और मेरे उपर चड के अपना लंड मेरी चूत मे घुसेड दिया और पूरी ज़ोर लगा के चूत के भीतर किया।

loading…
उसके बाद थोड़ी देर आराम करने के बाद वो बातें करने की मूड मे था और उसने मुझ से पूछा की

‘कैसा लगा ये खेल और मेरा लंड

?’ में शरमा गयी और कहा

‘अच्छा लगा..

’ तो वो हसने लगा. मैने उससे पूछा उसका किस्सा तो उसने ये बताया की वो उस घर का नौकर है तो में देखते ही रह गयी

READ ALSO:   Gaon ki Gunda Lala Ne Maa Ka Gand Mari

, इस से पहले तो मैने सोचा था की वो उस घर का बेटा है. और चौका देनी वाली बात तो और ही थी. मैने उससे पुछा

‘क्या आप शादीशुदा है

?’ तो उसने जवाब मे कहा

‘नही लेकिन वर्जिन भी नही हूँ…

’ मेरा दिल मचल उठा और मैने उसको पूरी कहानी सुनाने को कहा.. उसने बतलाया की

“पहले मेरे घर के (जहा में रहता हूँ) सामने घर मे रहने वाली एक नौकरानी के साथ संबंध था. हर रात हम दोनो पति पत्नी की तरह सोते थे बाद मे वो मेरे बच्चे की माँ बनने वाली थी

, उसके मालिक का वहा से ट्रान्स्फर हो गया था इसलिए अब वो कहा है और क्या कर रही है मुझे पता नही…
उसने फिर अपनी दूसरी कहानी सुनाई

“मेरी दूसरी कहानी ये है की मैने अपने हे घर मे नीचे फ्लॅट पर रहने वालो की नौकरानी के साथ संबंध रखा था उसके साथ भी में दिन मे और रात मे कर के हर दिन दो बार अपनी हवस पूरी करता था लेकिन पहली घटना के कारण उसे मैने दवा दे रखी थी. इसी लिए उसके साथ सोने मे मुझे कोई दिक्कत नही आई..

” दोनो कहानी पूरी करने के बाद उससे मैने पूछा

“क्या आपके और भी कोई है

?” तो उसने कहा

“हाँ अब पहले एक बार फिर हो जाए और उसके बाद और सुनाऊंगा..

” कह कर उसने मुझे दबोचा और इस बार उसने मुझे से उसका लंड चूसने को कहा. पहले तो में झिझक गयी. उसने मेरे मूह हाथ मे लिया और मेरे होंठो पर चूमने लगा और बाद मे एक हाथ से मेरा बोब्स को बहुत सख्ती से दबाया और दुसरे हाथ से मेरे चूत के सामने हाथ फिराया. फिर वो मुझसे कहने लगा

“तुझ से मैने क्या कहा था

, लंड को चूसो अच्छी तरह से

, नही तो

…” इतना ही कहा था में डर गयी और उसका लंड चूसने लगी।

उसको बहुत मज़ा आया था थोड़ी देर चूसने के बाद वो कहने लगा “आय रंडी तेरे पति का लंड इतना मोटा नही हे क्या?, और ज़ोर ज़ोर से चूस साली कुत्तिया..” कह रहा था इतने में उसका वीर्य से मेरे मूह भर गया और उसने मुझे वो खाने को कहा. आख़िरकार में वो वीर्य सब खा गयी और लंड भी चाट चाट के साफ कर दिया. उसके बाद हमने कुछ खाया और उसने मुझे पकड़ कर कुत्ते स्टाइल से मेरे साथ सेक्स किया. थोड़ी देर बाद हम दोनो का झड़ गया और हम थोड़ी देर आराम करने लगे. अब फिर मैने उसकी कहानी के बारे मे पुछा. और यह तीसरी कहानी उसके घर से ही जुड़ी हुई थी. वह कहने लगा “मेरी मालकिन के पति बहुत पहले ही भाग गया था, और वो उनके बॉस से काम चलाती थी, बाद मे जब वो थोड़ी बुड्डी हो गयी तो उसके बॉस ने भी उसका साथ छोड़ दिया. वो मुझे बेटे की तरह रखती थी, जब मैने पहली कहानी मे कहा ना एक नौकरानी को प्रेग्नेंट किया था, हो मेरी मालकिन ने वही जान के कभी कबार मेरे साथ अपनी रात बिताना शुरू किया था, अभी भी में कभी कभी उनकी इच्छा पूरी कर रहा हूँ.” इतने कहने के बाद उसने मुझ से फिर सेक्स किया. इसके बाद मैने पुछा “और कितनी है आप की कहानी?” तो उसने तुरंत ही जवाब दिया “अब तेरे साथ की जो कहानी है वही बाकी है। में चुप हो गयी थी।
उस दिन वो चला गया ओर रात मे थोड़ी शराब पी के आया. और उसने मुझे दो चार थप्पड़ भी मारे और उस दिन के बाद करीबन डेढ़ साल तक में उसकी रखैल बन के रही. जब भी दिल चाहता वो आ जाता था और मेरे साथ खेलता था. एक बार में प्रेग्नेंट भी हुई थी

READ ALSO:   बहन राधिका की गन्दी आदत - Bahan Radhika Ki Gandi Aadat

, लेकिन मैने उसे गिरा दिया था

, और उसके बाद मैने दवा लेना शुरू किया. अभी भी हफ्ते मे दो से चार दिन मे में उसकी हवस पूरी कर रही हूँ. जब भी मेरे पति बाहर जाता है वो मेरे साथ रात बिताने को आता है. और उसका लंड मुझे चूसना पड़ता है और वीर्य खाना पड़ता है. वो मुझे उसकी रखैल समझता है और गाली देता है

, और मेरे जिस्म से बहुत खेलता है।

धन्यवाद ।

Related Stories

Comments