Now registration is open for all

Hindi Sex Story

Indian Mother son Incest Sex With Mom

मेरी कटनी में किराना की दुकान है और में ज़रूरत पड़ने पर होम डिलेवरी भी करता हु तो बात तब की है जब मेरी गर्ल फ्रेंड ने दोपहर को फोन किया और कुछ किराना का सामान मंगाया में दोपहर में खाली था.तो में बड़े से थेले में सामान रखा और उसके घर चला गया.वहां जाकर सामान कमरे में रखा लेकिन मेरी गर्ल फ्रेंड कुछ काम से सहेली के यहाँ गयी थी. घर में उसकी मम्मी अकेली थी.उन्होंने मुझे बेठने को कहा और सामान के थेले को किचेन में उठाकर ले जाने लगी लेकिन उनके किचेन पहुचने के पहिले ही उनका पैर फिसला और गिर गई l में तुरंत उनको उठाया और बिस्तर पर ले गया वे दर्द से कराह रही थी है,और उसको काफी दर्द हो रहा था मुझे एहसास हुआ कि दर्द तेज हो रहा है तो में कहा मम्मी जी में मालिश कर दू उन्होंने हामी भर ली में वही से मलहम निकाला और उनको पेट के बल लेट जाने को कहा उनके लेट जाने से में उनकी पीठ पर मलहम मलने लगा मालिश करते करते मेने देखा की उनने अपनी सलवार को नीचे कर दिया है और कहने लगी थोड़ा नीचे तक मालिश कर दो में थोड़ा सरमाया लेकिन धीरे धीरे उनकी कमर के नीचे मालिश करने लगा .में उनके कूल्हे सहला कर उसको गरम करने की कोशिस कर रहा था। थोड़ी देर तो वो चुपचाप मालिश का आनंद लेती रही और मैं मालिश करता जा रहा था तभी मम्मी ने मेरे हाथ को पकड़ लिया और कहा आनन्द तुम मालिश बहुत अच्छी करते है आराम आ रहा है.साथ ही मम्मी की आंखो में एक अतिरुप्त वासना सी देखी में समझ गया और बोला अगर आप कहे तो में पुरे शरीर को आराम दे सकता हु तो मम्मी बोली तो देर क्यों कर रहे हो l मम्मी का मस्त यौवन 30-32-30 एकदम गोरी बड़े बड़े बूब्स और हिप्स भी भारी थे.ये देखकर मेरा मन भी सेक्स की चाह करने लगा मेने तुरंत मम्मी की सलवार पूरी नीचे कर दी उनकी सलवार में इलास्टिक लगी थी। मैंने पहली बार किसी के इतने चिकने गोरे चूतड़ देखे थे।अब मैंने मम्मी के चूतड़ सहलाने लगा, तो मम्मी बोली.जो कुछ करना है जल्दी करो नहीं तो सपना (मेरी गर्ल फ्रेंड का नाम )आ जायगी…. मेने ये सुनते ही मम्मी को सीधा किया और अपनी बांहों में भर लिया और उनके आँखों और गालों पर चुम्बन की बौछार करने लगा.ऍम मम्मी ने भी बड़े प्यार से मेरा चुम्बन लेना शुरू किया ।अब मैंने देखा कि मम्मी की बड़ी बड़ी चूचियों में और कसाव आने लगा है और मेरे हाथ उनकी मस्ती भरी चुचियों को होले होले सहला रहे थे ।अब मम्मी की मदहोश आँखें बंद होने लगी थी और मुंह से सिस्कारिया फूट रही थी थी और साँसें भी गर्म थी। मम्मी अब भरपूर मज़ा ले रही थी। मैं भी उनके बूब्स को दबाते हुए चूमे जा रहा था और उसकी चूचियों को मसलता जा रहा था। अब मम्मी पूरी तरह मेरा साथ दे रही थी। अब मैंने ज़्यादा देर न करते हुए तुरन्त मम्मी की सलवार में हाथ डाल दिया।अब मेरा हाँथ उनकी पेंटी के नीचे उनकी चिकनी चूत को सहलाने लगा।इससे मम्मी के मुह से उह उह आह की आवाज निकल पड़ी मेने उनकी सलवार और नीली पेंटी पूरी नीचे कर दी साथ ही मम्मी ने भी अपनी कुर्ती को निकाल लिया और खुद ही अपनी टांगे फेलाकर मुझे चूत को चाटने को कहा और मम्मी ने मेरा सिर अपनी चूत में दबा दिया। उनकी चूत से नमकीन पानी आने लगा अब में मम्मी की चूत को चाटते हुए उसके नाभि पेट से लेकर उनकी बड़ी बड़ी चुचि को चूसने लगा और साथ ही मैंने अपने पैंट की चेन खोल कर 7 इंची लंड बाहर कर दिया और मम्मी का हाथ अपने लंड पर रख दिया। अब मम्मी ने मेरा 7 इंच का मोटा लंड अपनी मुट्ठी में पकड़ लिया और सहलाने साथ ही लंड को अपनी मुँह में लेकर चूसने लगी।आहह ओह’ अब तो जैसे मैं काबू में नहीं था। लेकिन किसी तरह मेने अपने आप में काबू पा लिया अब मैं मम्मी को फिर से बिस्तर पर लिटा कर उसके पूरे बदन को चूमने लगा। मैं अब वहशी की तरह मम्मी को किस करते जा रहा था। मम्मी के मुंहसेक्सी आवाजे निकल रही थी.अहह….ओह उह…… आंनद अब मुझे चोद दो मुझे ! मेरी चूत को फाड़ दो.अब मैने किस करते करते कोमल चूत का स्पर्श पाकर अपना लोड़ा मम्मी की चूत के मुँह पर रख कर ज़ोरदार धक्का मारा, और एक झटके में ही पूरा लंड चूत में समां गया मम्मी एकदम से बोल उठी आह मज़ा आया गया l आनद अब उनके(उनके पति )के लंड में तो दम नहीं रहा मेरी पुरानी हसरत पूरी हो रही है.मैंने मम्मी से कहा चिंता मत करो मम्मी में तुम्हे जन्नत की सैर कराऊंगा और उनके होठो का चुम्बन करते हुए अपना लंड आगे पीछे करने लगा और साथ ही मम्मी के बूब्स को चूमता जा रहा था।करीब दस मिनट बाद मम्मी ने मुझे अपने पेरो से जकड़ लिया उनकी चूत से पानी आने लगा था.और मम्मी सिस्कारिया उह्ह आह अआह की आवाज करते हुए झड़ गई और लेकिन में काफी देर तक लंड से उनकी चूत को मस्त कर दिया फिर थोड़ी देर बाद मेरे शरीर में भी अकडन हुई इसी के साथ मेरे लंड ने भी जोर लगाकर चूत को अंतिम सलामी में सारा वीर्य चूत में भर दिया.अब में और मम्मी पसीने पसीने थोड़ी देर के लिए एक ही साथ लेट गये, फिर कपड़े पहन कर में गर्ल फ्रेंड के आने से पहिले सामान देकर निकल गया बाद में मम्मी के साथ मेरा सम्बन्ध काफी साल तक चला………
READ ALSO:   ମୋ ପିଲା ବେଳ କଥା – Mora Pilabela Katha

Related Stories

Comments