Bhauja will be Odia only. Every bhauja user can publish their story and research even book on bhauja.com in odia. Please support this by sending email to sunita@bhauja.com.

Hindi Sex Story

हमारा कुत्ता गैंग (Hamara Kutta Gang)







bhauja, hindi sex stories

रेषक : गौरव यादवहाय मेरा नाम ललित है. मैं कोटा राजस्थान का निवासी हूँ. मै आपके लिए एक नयी स्टोरी लेकर आया हूँ तो चलिए ज्यादा समय न ख़राब करते हुए कहानी पर आ जाते हैं ये मेरी सच्ची कहानी है.

कुछ दिनों पहले में एक महिला से मिला उसका नाम स्वीटी था. वह हमारे ऑफिस की की नयी बॉस थी और में उस ऑफिस में छोटा सा क्लर्क था. वह काफी सुंदर नारी थी उसकी उम्र यही कोई २५-२६ साल के लगभग होगी उसका रंग दूध की तरह सफ़ेद था सही मायने में में वह एक सुंदर हुस्न की मालकिन थी.

शुरू से ही वह मेरे काम से काफी इम्प्रेस थी और सारे ऑफिस के सामने मेरी काफी तारीफ की तो मैं मन ही मन सोचने लगा की वह मुझे चाहने लगी है और घर लौटा तो मेरी माँ की तबियत बेहद ख़राब थी तो मैने ऑफिस से चार दिन की छुट्टी करने की सोच ली और मैने ऑफिस में छुट्टी की भी सूचना नहीं दी यह सोचा की स्वीटी मुझे कुछ नहीं बोलेगी और मुझ पर हमदर्दी जताएगी पर चार दिन बाद जब मैं ऑफिस पंहुचा तो मैं बस छूट जाने के कारण लेट हो गया था जब मैं ऑफिस पंहुचा तो ऑफिस का चपरासी मुझसे बोला की मैडम ने आपको उनके रूम मैं में बुलाया है

मैं टाई ठीक करता हुआ पंहुचा तो वह मुझे देख कर चिल्लाने लगी रूल्स भी कुछ चीज होती है न, तो मैंने माँ की तबियत ख़राब होने का एक्स्क्युज दिया तो वह बोली की तुम्हे एक ऍप्लिकेशन तो देनी चाहिए थी और वह मुझसे बोली कि अगली बार ऐसा नहीं होना चाहिए तो मैं सॉरी मैडम कह कर यह बोला कि मैडम अगली बार ऐसा नहीं होगा जब शाम को मैं घर जाने के लिए जब बस में बैठा और उससे बोला भी नहीं तभी मेरा ध्यान गया की वह आज अपने स्टाप पर उतरी नहीं और वह आज मेरे स्टाप पर उतरी और मुझसे आज ऑफिस में जो हुआ उसके लिए माफ़ी मांगने लगी और कहने लगी कि अगर मैं तुम्हें नहीं डांटती तो ऑफिस के सभी लोगो को मुझ पर शक हो जाता तो यह सुनकर मैंने उसे माफ़ कर दिया

READ ALSO:   କଳଂକିନି ନାରୀର କାହାଣୀ : ମନୋଜ ସହ ସୁଖଃ ଜିବନ - Kalankini Narira Kahani: Manoj Saha Sukha Jibanare Prathama Chauthi Rati

फिर वो मेरे साथ चल पड़ी तभी उसने एक केले वाले से केले लिए और मेरे साथ वापस चल पड़ी तभी मैने उससे पूछा की यहाँ पर तुम्हारा भी कोई मिलने वाला रहता है क्या वो बोली हाँ एक पागल सा लेकिन बड़ा प्यारा लड़का है उसकी माँ की तबियत खराब है मैं उससे बातें कर रहा था तभी मेरा घर आ गया तो मैं बोला कि यह मुझ गरीब की कुटिया है तुम्हे आगे जाना है क्या यह गली काफी लम्बी है मैं तुम्हें उस घर तक छोड़ आता हूँ जहाँ तुम्हें जाना है वह बोली अरे बुद्धू इतना भी नहीं समझे कि मैं तुम्हारे घर ही आई हूँ तुम्हारी माँ की तबियत पूछने

मेरी माँ और बहन ने उसे बड़े सत्कार के साथ घर में बुलाया और उसे चाय और बिस्किट खिलाये फिर वो मेरी माँ से बात करते हुए बोली की मांजी आज ललित को काम से बाहर जाना पड़ेगा तो मेरी आई बोली कि ठीक है बेटी इस काम के वजह से तो मेरा घर चलता है वो साथ ही यह भी बोली की ललित की कल ऑफिस से छुट्टी रहेगी तभी में सोचने लगा कि ऐसा कौन सा काम है जिसका जिक्र मैडम ने ऑफिस में नहीं किया तभी वह मुझसे उसके साथ चलने को बोली

वह अचानक मुझे अपने घर ले गयी तुम्हे कहें काम से बाहर नहीं जाना है तुम्हे केवल आज रात मुझे खुश करना है यह सुनकर मैं मन ही मन बहुत खुश हुआ और अंदर जाते ही मैं उसे चूमने लगा तो वह बोली इतनी जल्दी भी क्या है कुछ देर रुको और वो दौड़ कर दूसरे कमरे मैं चली गयी

READ ALSO:   देखने-पढ़ने से मन नहीं भरता अब

तभी उसके कमरे में रखा मोबाइल बजा मैने फ़ोन उठाया तो एक धीरे से आवाज आयीं क्या कर रहे हो मैं बोला कुछ नहीं मैने पूछा की आप कौन है तो वह बोली कि मैं तुम्हारी मैडम स्वीटी हूँ मैं अंदर के फ़ोन से बोल रही हूँ और वह कहने लगी की अब हम कुछ देर ऐसे ही बात करेंगे मैने कहा दिया ठीक है तो वह अचानक मुझे बोली कि तुम अपने कपड़े उतारो और मैं भी उतारती हूँ मैने कपडे उतारे और बोला अब बोलो मैने कपडे उतार दिए है वह बोली कि सामने ड्रोर में एक स्प्रे पड़ा है उसे अपने लंड पर लगा लो मैने जैसे ही उसे अपने लंड पर लगाया मुझे अपने लंड पर ठंडक का अहसास हुआ और मेरा लंड लोहे कि तरह कड़क हो गया फिर वह फ़ोन पर मुझसे बोली कि अब उस अलमारी में जो तुम्हारे पीछे है उसमे एक पट्टा पड़ा उसे गले में बांध लो मैं बोला क्यूँ तो वो बोली कि सवाल मत करो मैं जैसा बोलती हूँ वैसा करो और मैने वह पट्टा अपने गले में बांध लिया वह बोली कि अब तुम मेरे पास आओ और मेरे साथ सेक्स करो

मैं जैसे ही उसके पास जाने के लिए उठा तो वह बोली कि ऐसे नहीं जैसे कि एक कुत्ता चलता है वैसे अपने हाथ और पैरों पर चला कर आओ में जैसे ही कमरे में घुसा तो मैं देख कर दंग रह गया मैडम बिलकुल निवस्त्र थी और उनके साथ चार और आदमी थे वो भी बिना कपड़ो के और सबने मेरी तरह गले में पट्टे पहन रखे थे और मैडम ने भी एक पट्टा पहन रखा था मैडम का पट्टे में हीरे लगे हुए मेने पहुचते ही देखा की मैडम चार लोगो के साथ सेक्स का मजा ले रही थी एक उन्हें लंड चूसा रहा था दूसरा उनके स्तनों से स्तनपान कर रहा था तीसरा उनकी गांड और चौथा उनकी चूत में लंड डाले हुए था मैं देखकर दंग रह गया

READ ALSO:   ହିନୀ ମାନି ଗରିବ ଘରଣୀ -୧ ( Hini Mani Gariba Gahrani Part-1 )

89bY

वो मुझे देख कर मुह से लंड निकालते हुए बोली कि आओ ललित ये मेरी कुत्ता गैंग है और मै इस गैंग की प्रधान और सेक्सी कुतिया हूँ और आज से तुम भी इस गैंग के भी सदस्य हो कल से तुम पांचो मुझे सेक्स का मजा एक साथ देना फिर वह उन चारो आदमियों से कु कु कु कु करके बाहर जाने को कहने लगी और वो भी इसका जवाब भों भों भों भों करके बाहर चले गए और फिर वह मुझसे बोली की तुम भी कल से कुत्तो की तरह बात करना और इतना कहा कर उसने मेरा लंड मुह में डाला और चूसने लगी फिर मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर रख दिया और में उसकी चूत चाट रहा था तो वह कूं कूं कूं कूं की आवाज के साथ मेरा साथ देने लगी उसके बाद मेरे सामने कुतिया की तरह खड़ी होकर बोली की जैसे एक कुतिया को चोदता है वैसे ही तुम मुझे चोदो फिर मैने कुत्ते की तरह ही उसे रात भर में चार बार चोदा

अगले दिन से हम सब कुत्ता गैंग के सदस्य उस प्रधान कुतिया(मेरी बॉस) की रोज चुदाई करते हैं. अब मुझे इस तरह की चुदाई में बहुत मजा आता है. कुछ दिनों बाद मेरी शादी है और मैं मेरी पत्नी की भी एक कुतिया की तरह चुदाई करूँगा.

 —– bhauja.com

Related Stories

Comments