Bhauja will be Odia only. Every bhauja user can publish their story and research even book on bhauja.com in odia. Please support this by sending email to sunita@bhauja.com.

Hindi Sex Story

तरूण से चुदवा दो ना ( sexy hindi story )







मेरा नाम देव  है, शादी को सिर्फ दो साल हुए हैं। मेरी पत्नी मोउमिता बेहद खूबसूरत और सेक्सी है।
चूंकि मैंने लव-मैरिज की थी तो हम दोनों घर वालों से अलग अकेले रहते हैं। मैं एक प्राइवेट कम्पनी में सेल का काम करता हूँ।
हम दोनों बहुत खुश हैं अपनी जिंदगी से। मेरी पत्नी और मुझ में सेक्स की भूख कूट-कूट कर भरी है और सेक्स करते समय हम खूब गन्दी बातें भी करतें है और खूब गालियाँ भी निकालते हैं।
ऐसे ही एक दिन मैंने एक ब्लू फिल्म चलाई थी और मैं मोउमिता को अपने लौड़े पर बिठा कर फिल्म दिखा रहा था। फिल्म में दो काले आदमी अपने मोटे मोटे लौड़ों से एक लड़की को चोद रहे थे।
मैंने कहा- मोउमिता, अगर तू इस लड़की की जगह होती तो कैसा लगता तुझे?
मोउमिता के मुंह से सिसकारी निकल गई और वो मेरे लौड़े पर कूदने लगी।
मैंने फिर कहा- मोउमिता, तूने जवाब नहीं दिया?
मोउमिता मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी, मोउमिता ने कहा- बहन के लौड़े ! मेरी किस्मत में सिर्फ तेरा ही लौड़ा लिखा है ! और वो मुझे मिल रहा है ! ऐसे दो काले नाग मेरी किस्मत में कहाँ?
मुझे मोउमिता की बातों में मजा आने लगा, मोउमिता को भी सेक्स का नशा होने लगा।
मैंने कहा- डार्लिंग, तू फ़िक्र मत कर ! मैं तुझे एक बढ़िया काला लौड़ा दिलवा दूंगा ! तू सिर्फ बता दे मुझे कि किससे चुदना है तुझे?
मोउमिता ने कहा- मुझे क्या पता? तू ही चुदवा दे किसी मर्द से !
मैंने कहा- मेरा वो दोस्त है न तरूण ! वो कैसा रहेगा?
वैसे तो तरूण का असली नाम विनोद है पर सभी उसे तरूण ही कहते हैं।
मोउमिता की आँखें ख़ुशी से चमक उठी क्योंकि तरूण एक सेक्सी आदमी था पूरे छह फ़ुट का और मुझ से लगभग दो गुना होगा उसका शरीर ! और उसका लौड़ा तो कयामत था, एक-दो बार तो मैंने भी उसका लौड़ा चूसा था।
मोउमिता ने कहा- सच में? प्लीज मुझे तरूण से चुदवा दो ना !
मैंने भी एक शर्त रखी- तुम खुद तरूण को अपने जाल में फंसाना और इसके लिए मैं तुम्हें पूरी छूट दूँगा !
अगले ही दिन मैंने तरूण को घर पर बुला लिया- आज पेग-शेग लगायेंगे !
मैंने रास्ते में ही तरूण को कह दिया था कि मोउमिता का तुझसे चुदने का बड़ा मन है।
तरूण तो वैसे भी कब से मोउमिता को देख कर मुठ मारता था इसलिए वो तुरन्त राजी हो गया। पर मैंने उसे पहल करने से मना कर दिया था।
शाम को जैसे ही मैं और तरूण घर पहुंचे तो मोउमिता के तो जैसे पैरों में घुंघरू बंध गये हों !
एक दूसरे को हेलो बोलने क बाद हम ड्राइंग रूम में बैठ कर बातें करने लगे।
अब आगे की कहानी, हम तीनों की जुबानी :
कमरे में हम तीनों थे मगर मोउमिता और तरूण एक दूसरे को ऐसे देख रहे थे जैसे वहाँ सिर्फ वो दोनों ही हों।
तरूण: अरे मोउमिता, हमें कुछ खिला-पिला भी दो !
मोउमिता : हाँ हाँ ! बोलो, क्या लोगे चाय या कॉफी?
तरूण : अरे नहीं ! आज तो दारू पिला दो !
मोउमिता : अभी लाई !
मोउमिता कुछ पकौड़े, नमकीन तीन गिलास और शराब की बोतल जो मैं पहले ही ले आया था, ले आई।
दो दो पेग हम तीनों ने लिए और मस्त मूड सेट हो गया।
मोउमिता और तरूण एक दूसरे को काफी देर से देख रहे थे, मुझे पता था कि आज मेरी घरवाली रांड बन कर चुदने वाली है, मेरा लौड़ा मस्त हो रहा था और शायद तरूण का भी।
तभी अचानक बिजली चली गई, कमरे में अँधेरा हो गया।
कुछ देर तक खामोशी के बाद मुझे कुछ आवाज सुनाई दी जैसे कोई पानी पी रहा हो। दो तीन मिनट बाद बिजली आई तो मेरी आँखों के सामने का नजारा बड़ा सेक्सी था :
मोउमिता बिल्कुल नंगी थी और तरूण सिर्फ कच्छे में !
दोनों नीचे लेटे हुए थे और एक दूसरे को चूम रहे थे।
मुझे देख कर मोउमिता ने उठने का नाटक किया तो तरूण ने उसे अपनी तरफ खींचते हुए कहा- अरे इस गांडू से क्यों डरती है? आ जा मेरी रंडी ! यह बहन का लौड़ा तो खुद मेरा ही लौड़ा चूसता था। मोउमिता ने कहा- क्यों देव ? साले ! कमीने ! मादरचोद ! इतना स्वादिष्ट लण्ड सिर्फ अकेले ही पी गया बहन के लौड़े? अब तो मैं तरूण से और तुझसे जी भर के चुदूँगी ! क्यों तरूण?
तरूण- वाह मेरी रंडी तू तो बड़ी सेक्सी है !
तरूण ने अपना लण्ड कच्छे से निकाला तो मोउमिता देखती ही रह गई।
दस इंच का मस्त काला लोला !
मोउमिता- क्या मस्त लौड़ा है तेरा ! ए मेरे तरूण !
तरूण- तेरा ही है आज से यह कला नाग !
मैं भी अब तक नंगा हो चुका था और मोउमिता के पीछे से उसे चूम रहा था और आगे से तरूण उसे मसल रहा था।
तभी मोउमिता नीचे बैठ कर तरूण का लौड़ा चूसने लगी, तरूण ने उसे उठा कर सोफे पर लिटा लिया और उसके होंट पीने लागा।
मोउमिता तरूण के सामने मस्त हो गई थी।
तरूण- बहनचोद देव , तू मेरा लौड़ा चूस ! तब तक मैं मोउमिता के होंट पी लूँ !
मैं तरूण का लौड़ा चूसने लगा मगर मोउमिता पूरी रंडी बन चुकी थी और उसने तरूण को बड़े सेक्सी अंदाज में कहा- मेरे लौड़े राजा ! तेरे लौड़े को सिर्फ मैं चुसूँगी ! हटा इस मादरचोद को अपने लौड़े से !
तरूण ने मुझे हटा कर लौड़ा मोउमिता के मुंह में ठूंस दिया और मैं मोउमिता की फुद्दी चाटने लगा मगर मोउमिता ने मुझे वहाँ से हटा दिया और कहा- इस फुद्दी को अब सिर्फ तरूण जी ही चाटेंगे !
और अपनी फुद्दी तरूण के मुंह पर रख दी।
अब मुझे मोउमिता ने अपनी ब्लू फिल्म बनाने को कहा और मैं अपने हैन्डीकैम से उन दोनों की फिल्म बनाने लगा।
तरूण पूरे जोश से मोउमिता की फुद्दी चाट रहा था तो मोउमिता जल्दी ही झर गई और सोफे पर सीधी लेट गई।
तरूण ने अपने दस इंच के लौड़े को तीन झटको में मोउमिता की फुद्दी में पूरा उतार दिया।
धीरे-धीरे गति बढ़ने लगी, मोउमिता अपनी आँखें बंद करके चुद रही थी। तरूण ने उसे पूरी रात में पाञ्च बार ठोका।
मोउमिता ने तरूण को कुछ दिन के लिए घर पर ही रख लिया।
एक दिन तरूण अपने भाई वीरू को भी ले आया देखने में बिल्कुल तरूण जैसा ही था और तब मोउमिता अवस्था बदल बदल कर दोनों से चुदी।
मोउमिता ने मेरा भी काम बना दिया है। मोउमिता ने एक कामवाली को रख लिया है जो रोज मुझसे चुदती है।

READ ALSO:   Ek Airhostess Se Chudai

behen ki chudai
मेरी कहानी आपको कैसी लगी दोस्तो? जरूर बताना…
और अगर आप भी मेरी मोउमिता के साथ मजे करना चाहते हैं तो उससे बात करके देखें ! मोउमिता कहती है कि :
कौन कहता है कि योनि औरत का सबसे कामोत्तेजक क्षेत्र है? मेरा नाम मोउमिता है, और मैं अपने मुख से सबसे ज्यादा काम लेती हूँ ! ज़रा अपनी पैंट नीचे करो, मुझे एक नज़र देखने दो !
अगर मैंने इसे छू लिया तो यह जाग जाएगा और मैं इसे धीरे से चूम लूंगी- अम्मऽऽ आ ! इस तरह !
तब मैं इसे चूसना चाहूंगी- ऊम्मऽऽच उम्हं ! इस तरह से !
और जब मैं इसके सुपारे पर अपनी जीभ फ़िराऊंगी तो उस समय तक एक लिंग-रस की एक छोटी सी बूंद टपक पड़ेगी। और जब अपनी लार से भीगे आपके लौड़े को पूरा अपने मुँह में लूंगी तो शायद यह मेरे गले में ही फ़ंस जाए।
जब मेरी उंगलियाँ आपकी गोलियों पर फ़िरेंगी तो शायद इतनी उत्तेजना आप सहन ही ना कर पाएँ। मेरे चेहरे पर आपका रस फ़ैलेगा तो मेरे मुख से निकल पड़ेगा- देखो ! आपने यह क्या किया?

Related Stories

Comments