रिश्तों की मर्यादा खण्डित हुई

Submit Your Story to Us!

प्रेषक : आशीष सिंह राजपूत
अंतर वासना डॉट कॉम के सभी पाठकों को इलाहाबाद के आशीष का राम राम ! वैसे तो मैं व्यस्त रहता हूँ मगर जब कभी समय मिलता है तो अंतरवासना की कहानियाँ ज़रूर पढ़ता हूँ. अपने बारे में बता दूँ, मैं एक अच्छी पर्सनॅलिटी का बॉडी बिल्डर लुक वाला 38 साल का युवक हूँ, मुझे ऊपर वाले ने बचपन से ही औरतों की ब्लाउज़ और ब्रा का नाप लेने की अपार शक्ति दी है, किसी भी औरत से बात करता हूँ तो चोर नज़र से उसके ब्लाउज़ और ब्रा की नाप ज़रूर ले लेता हूँ।

मेरी बीवी मेरे से 4 साल छोटी है उम्र में और वो अपने भाई बहनों में सबसे छोटी है, उसकी सबसे बड़ी बहन साधना (बदला हुआ नाम) है, वो उम्र में मेरी बीवी से 12 साल बड़ी है, एक गवर्नमेंट गर्ल्स इंटर कॉलेज की प्रिंसीपल है। साधना दीदी अपने उम्र के हिसाब से काफ़ी बनी संवरी लेडी है, करीब 5’6″ कद, गोरी रंगत वाली महिला है।
जबसे मेरी शादी हुई है, मैं जब भी उनके घर जाता था, आँखों आँखों से हमेशा उनके ब्लाउज़ और ब्रा का साइज़ लिया करता था, सच में अगर मैं दर्जी होता हो ना जाने मैं उनके कितने ब्लाउज़ सिल चुका होता ! इसका हिसाब लगाना मुश्किल है।
उनकी दैनिक दिनचर्या, सुबह जल्दी तैयार होकर कॉलेज जाने की आदत ने उनके इस 46 साल की उम्र में भी उन्हें बहुत ही आकर्षक और सेक्सी लुक प्रदान कर रखा है। मैं जब भी उनसे मिलता, वो बड़े ही स्नेह और प्यार से मुझे देखती थी मगर मैं ठीक इसका उल्टा उनको और उनके कपड़े के अंदर की औरत को देखता था।
एक दिन मैं किसी काम से उनके घर पहुँचा, वो बस थोड़ी देर पहले कॉलेज से आकर आराम कर रही थी, मैंने घण्टी बजाई तो घर में कोई ना होने की वजह से दरवाजा उन्होंने खुद खोला। मुझे देखते ही थकान भरे चेहरे पर मुस्कान लाकर मेरा स्वागत किया। वे मुझे ड्रॉईंग रूम में ले गई, वहाँ बैठ कर हम लोग बात करने लगे और समय समय पर मैं अपना ब्लाउज़ और ब्रा नापने वाला काम भी करने लगा।
मैंने पूछा- दीदी, आज कुछ थकी हुई लग रही हैं?
तो बोली- आज कॉलेज में बहुत भागम-भाग थी, सिर में हल्का दर्द हो रहा है।
तो मैंने कहा- अगर आप कहें तो मैं आपके सिर में थोड़ा तेल लगा दूँ?
उन्होंने थोड़ा संकोच किया मगर मेरे दोबारा कहने पर वो अंदर से नारीयल तेल का डिब्बा ले आई, मैं धीरे धीरे उनके सिर में तेल लगाने लगा। तेल लगते समय मेरे नाक में औरतों के जिस्म से आने गन्ध आने लगी जो मुझे थोड़ा बेचैन करने लगी।
मैंने बातों बातों में कहा- दीदी थोड़ा झुकिए, नहीं तो तेल से कपड़े खराब हो जाएँगे।
मेरे कहने पर वो थोड़ा झुक गई, मैं धीरे धीरे सिर से हाथ नीचे ले जाने लगा और गरदन तक मालिश करने लगा, उनकी आँख बंद करने का अंदाज़ बता रहा था उन्हें आराम मिल रहा था।
मैंने अपने अंदर के मर्द पूरी ज़बरदस्ती के साथ रोक रखा था क्यूँकि सोचने और कुछ करने में बहुत अंतर होता है। मैं बहुत कठिन समय से गुजर रहा था क्यूँकि मेरे अंडरवीयर के अंदर सख्ती महसूस हो रही थी। आख़िर मर्द होने का फ़र्ज़ अदा करना ही था, मैंने पीछे से उनके बदन से अपना बदन छुआ दिया ताकि मेरे अंग की सख्ती को वो महसूस कर सकें और साथ ही मालिश के दौरान मैं अपना हाथ उनके वक्ष तक ले जाने लगा और वो आँखें बंद करके मालिश का मज़ा ले रही थी।
मैंने बड़ी हिम्मत करके कहा- दीदी, अगर आप लेट जाएँ तो मैं आपके बदन को थोड़ा दबा दूँ, आपको काफ़ी आराम मिलेगा।
वो कुछ बोली नहीं मगर उठ कर बेडरूम की तरफ चल दी, मैं भी उनके पीछे पीछे बेडरूम में चल दिया। बेडरूम में आकर वो उल्टी लेट गई। मैं धीरे धीरे उनके बदन को दबाता रहा और झुक कर उनके जिस्म से उठने वाली गन्ध का आनन्द लेता रहा।
मैंने धीरे धीरे अपना हाथ उनकी पीठ से उरोजों की तरफ बढ़ाना शुरू किया उन्होंने कोई आपत्ति नहीं की तो मेरा आत्मविश्वास बढ़ने लगा, मैंने अपना शर्ट यह कह कर उतार दिया कि गंदी हो जाएगी।
मेरे शर्ट उतरते ही उनकी नज़र मेरे बदन पर पड़ी जिसे देख उनके आँखों पर एक अजीब सी चमक आई और वो आँख फिर से बंद कर लेट गई। मैं धीरे से उनके बगल में कोहनी के बल लेट गया और धीरे धीरे अपने उंगलियों को उनके चेहरे पर और लबों पर फिराने लगा, वो आँख बंद करके सेक्स के अहसास का मजा ले रही थी।
मैंने धीरे से अपना घुटना उनकी जांघ पर रख दिया और साथ ही अपने और उनके बीच की दूरी को भी कम कर दिया, उनकी तरफ से आपत्ति नहीं होने से मेरे अंदर का मर्द बाहर आता जा रहा था, मैं अपना हाथ अब उनके बूब्स पर गोल गोल घुमा रहा था और मैंने बगल में लेटे हुए अपनी बेल्ट खोल कर जीन्स उतार ली मैं अब सिर्फ़ अंडरवीयर और बनियान में था। मैंने अपना 8 इंच लंबा और मोटा लण्ड बाहर निकाल कर धीरे से उनके हाथ में पकड़ा दिया।
लंड के आकार का एहसास होते ही उनके जिस्म में एक करेंट से लगा जिसका एहसास मुझे भी हुआ। मैंने धीरे धीरे करके उनके जिस्म से हर कपड़ा उतार दिया और अपनी दो उंगलियाँ उनकी योनि पर रगड़ने लगा। योनि के गीलेपान का एहसास बता रहा था कि वो पहले एक बार झड़ चुकी थी।
मैंने धीरे से उन्हें अपने सीने से लगाकर दोनों पैर के बीच में अपना पैर डाल के उनके पीठ और चूतड़ सहलाने लगा, वो चुप रह कर बिना बोले अब साथ दे रही थी, उन्होंने अपने औरत होने की ड्यूटी अदा किया और मेरी बनियान और अंडरवीयर को उतार दिया। मैं अपना लब उनके लबों से लगा कर अपनी जीभ को उनके मुँह में डाल कर घुमाने लगा।
थोड़ी देर में वो वैसे ही मेरे मुँह में अपनी जीभ से करने लगी। मुझे उस समय वो 46 साल की जगह 23 साल की लग रही थी। साधना दीदी की चूचियाँ जो अभी तक मेरी निगाहों के निशाने पर होती थी, वो आज मेरे सीने से दब कर जिंदगी का आनन्द दे रही थी।
मैंने दीदी से पूछा- दीदी, अगर आप कहें तो मैं आपके सरीर की मालिश कर दूँ?
दीदी जो इस समय स्वर्ग आनन्द ले रही थी, सिर हिला कर अनुमति दे दी, मैं रसोई में जाकर थोड़ा सा सरसों का तेल कटोरी में ले आया और उनके कंधे से मालिश करना शुरू किया और वक्ष पर आकर गोल गोल हाथ घुमाने लगा। दीदी अपने बूब्स की मालिश का आनन्द ले रही थी।
फिर मैंने दीदी के दोनों पैर अपने कंधे पर रख कर दोनों हाथों से उनकी जाँघ पर मालिश करने लगा।
दोस्तो, दीदी का गोरा जिस्म मुझे इस समय ताजमहल से भी सुंदर लग रहा था। मैंने दीदी से पूछा- दीदी, आपकी उम्र क्या है?
तो वो बोली- साली की कोई भी उम्र नहीं होती, वो तो बस साली होती है।
उनका यह जवाब सुनकर मुझे बहुत आनन्द मिला..
अंतर वासना डॉट कॉम के सभी पाठकों को मैं बताना चाहूँगा कि ‘औरत गर्मी में मटके में रखे पानी के समान होती है।’ बाहर जितनी गर्मी होती है अंदर उतनी ही शीतलता होती है जो मैं उनकी जवानी की गर्मी और प्यार की शीतलता को बखूबी महसूस कर रहा था। मेरा लंड अब और इंतज़ार नहीं कर पा रहा था इसलिए मैंने दीदी से पूछा- दीदी, क्या हम दोनों औरत और मर्द के रिश्ते वाली क्रीड़ा को खेलना जारी रखें !
दीदी जो कब से इस पल का इंतज़ार कर रही थी, उन्होंने स्वीकृति दे दी, मैंने उनके दोनों पैर को अपने कंधे से हटा कर फ़ैला दिया और उनकी गीली चूत को अपने 8 इंच के लंड का स्पर्श कराया और उनकी चूत के दरवाजे पर धीरे से रग़ड़ दिया। मेरे लंड के चूत पर स्पर्श होते ही दीदी के जिस्म में एक नई सी उर्जा आ गई।
मैंने बिना समय गंवाए अपना आधा लंड उनके चूत में उतार दिया। लंड के चूत में प्रवेश करते ही दीदी ने चीख पड़ी।
मैंने उनके चेहरे पर दर्द के भाव देखे, मैं एकदम से अचंभे में आ गया क्यूँकि 46 साल की उमर में किसी औरत की चूत में इतना कसाव मेरे लिए ताज्जुब की बात थी, उनकी चूत के कसेपन ने यह बात जाहिर कर दी कि दीदी ने कई साल से सेक्स नहीं किया था।
उनकी चूत के कसाव ने मुझे पागल कर दिया, मैंने पास ही रखी कटोरी से थोड़ा तेल लेकर के दीदी की चूत पर लगा दिया। तेल ने उनकी चूत में आग लगा दी जिसकी वजह से दीदी की चूत में जलन और खुजली होने लगी, दीदी अपनी चूत को मेरे घुटने पर घिसने लगी, मैंने बिना समय गंवाए अपना आधा लंड फिर से दीदी की चूत में डाल दिया और अंदर बाहर करने लगा।
दीदी एक बार फिर से चूत और लंड के मिलन का आनन्द लेने लगी मगर मैं बेचैन था पूरा लंड अंदर डालने के लिए, दीदी अपनी चूत मेरे लंड से चुदवा रही थी, मैंने अचानक एक झटका देकर अपना पूरा का पूरा 8 इंच लण्ड दीदी की चूत में उतार दिया, दीदी दर्द के मारे छटपटा रही थी, मैं अपना लंड डाले हुए उनके जिस्म पर अपना जिस्म डाल कर लेट गया और उनके लब और जीभ को चूसने लगा। साथ ही उनके निप्पल को भी चूसता जा रहा था। थोड़ी देर में ही दीदी नॉर्मल हो गई।
तब मैंने धीरे धीरे उनकी चूत की असली चुदाई शुरु की। मैंने उन्हें काम कला की हर मुद्रा में पेला और दीदी ने जितना आनन्द मेरे से लिया उसका दुगुना आनन्द मुझे दिया, आख़िर वो समय आ ही गया जब एक मर्द औरत के आगोश में खो जाने को बेताब होता है, मैंने पूरी ताक़त लगा कर पूरी स्पीड में दीदी को पेलना शुरू किया, पूरा कमरा दीदी की आनन्द भरी सिसकारी और कराह से भरा भर गया। मैंने एक आख़िरी झटका चूत में मारा और फिर से उनके जिस्म पर ढेर हो गया। मेरे लंड के पानी से दीदी की चूत लबालब भर चुकी थी, हम दोनों पसीने से लथपथ होकर एक दूसरे से चिपके पड़े रहे, लंड का पानी दीदी के जाँघ से बह कर बेड शीट पर गिर रहा था।
हम दोनों काफ़ी देर तक उसी मुद्रा में पड़े रहे, दीदी मुझे बुरी तरह से चूम रही थी।
दोस्तो, मैंने अपनी पूरी जिन्दगी में इतना सुकून भरा सेक्स कभी नहीं किया था और जो शारीरिक सुख मुझे उस 46 साल की औरत ने दिया, वो सुख मेरी 34 साल की पत्नी ने नहीं दिया।
बातों बातों में मैंने दीदी से उनके चूत के कसाव की तारीफ की, तब उन्होंने बताया कि विगत 6 साल से उनके और उनके पति के बीच शारीरिक संबंध नहीं बने है क्यूँकि उनके पति अपनी सेक्स की ताक़त खो चुके हैं और कहा- आशीष, तुमने मुझे आज वो दिया है जो मुझे अपनी जिन्दगी में आज तक नहीं मिला !
और उन्होंने स्वीकारा कि मेरे 8 इंच के लंड ने उनकी अंदर की औरत को झिंझोड़ कर रख दिया।
मैंने दीदी से पूछा- दीदी, आपने कभी मुँह में लंड लेकर चूसा है?
तो वो बोलीं- मुँह में तो कभी नहीं लिया मगर तुम्हारा लंड मुँह में ज़रूर लूँगी क्यूँकि मेरी कई सालों की प्यास को तुमने जिंदा कर के मेरी सेक्स की जरूरत को और प्रज्ज्वलित कर दिया है।
मैं उनके जिस्म पर से उठ कर बेड शीट से अपने लंड को पौंछने लगा तो दीदी ने मुझे रोक दिया और ‘अब इस लंड को साफ करने की ज़िम्मेदारी मेरी है !’ कह कर उठ कर मेरे दोनों पैरों के बीच बैठ गई और लंड को हाथ में लेकर आइस क्रीम की तरह चाटने लगी उनके होंठ और जीभ की गर्मी मेरे लंड पर पड़ते ही मेरा लंड एक बार फिर से बेचैनी के दौर से गुजरने लगा और अपनी आकृति में परिवर्तन लाने लगा।
जैसे जैसे मेरे लंड के आकर में परिवर्तन आता जा रहा था दीदी का जोश बढ़ता जा रहा था, थोड़ी देर पहले जिस लंड के चूत में जाने से चिल्ला उठी थी, अब वही 8 इंच का पूरा लंड अपने हलक तक पूरा उतार कर जिंदगी का आनन्द रही थी।
मेरे अंदर का मर्द फिर से जाग उठा, मैं उनके बालों को पकड़ कर उनके मुँह में पेलने लगा, दीदी बड़े आराम से अपने मुँह की चुदाई का मज़ा ले रही थी, इस समय वो एक सच्चे सेक्स साथी की तरह से अपने साथी की हर ज़रूरत को पूरा करने में कोई कोशिश नहीं छोड़ रही थी। लगभग दस मिनट तक मैं दीदी के मुँह में अपना लंड डाल कर उन्हें जन्नत की सैर करा रहा था, आख़िर में वो लम्हा आ ही गया जिसका इंतज़ार दीदी दस मिनट से कर रही थी, मैंने दीदी के मुँह में अपने लंड का रस निकाल दिया, दीदी बड़े स्वाद से मेरे लंड के जूस को गटक गई और फिर अपने बड़े और टाइट बूब्स मेरे सीने से लगा कर मेरे आगोश में आ गई।
हम दोनों थोड़ी देर तक एक दूसरे की बाहों में लिपट कर एक दूसरे को चूमते रहे फिर बेडरूम से अटॅच बाथरूम में एक दूसरे से लिपट के शावर में नहाते रहे, हम दोनों ने एक दूसरे को बॉडी शैम्पू से नहलाया फिर फ्रेश होकर ड्रॉईंग रूम में आ गए।
दीदी रसोई में जाकर दो कप कॉफी बना लाई और हम दोनों ने चुपचाप कॉफी पी, फिर मैंने दीदी से कहा- मैं अब चलूँगा !
दीदी ने मुस्करा कर मुझे जाने की अनुमति दे दी।
मैं जैसे ही दरवाजे के पास पहुँचा, दीदी ने मुझे आवाज़ दी- आशीष, रूको !
मैंने कहा- जी दीदी बोलिए?
दीदी ने कहा- आशीष, आज के बाद अकेले मिलने पर मुझे कभी दीदी ना कहना !
मैंने पूछा- तब मैं आप को क्या कहूँ?
दीदी ने कहा- मुझे सिर्फ़ साधना बोलना और मैं जब भी तुम्हें मिस करूँगी, तुम्हें कॉल करूँगी ! बिकॉज़ नाऊ आई लव यू आशीष !
मैंने कहा- साधना, आई विल रेस्पेक्ट यूअर फीलिंग्स एंड ऑल्वेज़ ट्राइ टू अंडरस्टॅंड यूअर फीलिंग्स एंड नीड !
मैंने साधना एक बार फिर से गले लगाया और उसके लबों पर किस करके बाहर आ गया और मुस्कराते हुए अपनी बुलेट को किक मार दी।

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*