सम्भोग : एक अद्भुत अनुभूति (Sambhog- Ek Adbhut Anubhuti)

Submit Your Story to Us!

मैं पटना का रहने वाला हूँ। हालाँकि जिस घटना के बारे में मैं लिख रहा हूँ उस वक्त मेरी उम्र 24-25 की थी। पर कहानी को अच्छी तरह से समझाने के लिए मैं घटना की पृष्ठभूमि भी बता रहा हूँ। आप मेरी ये कहानी bhauja dot com पर पढ़रहे हैं ।

बहुत पुरानी बात है। उस वक्त मैं 21 साल का था। मैं अपनी पढ़ाई समाप्त करके नया-नया इंश्योरेंस के बिजनेस में आया था। मेरे घर के ठीक बगल वाले मकान में एक परिवार किराये पर रहने के लिए आया। परिवार के मुखिया अशोक शर्मा उम्र 50 साल, उनकी पत्नी देविका उम्र 45 साल और उनकी इकलौती लड़की वीणा उम्र 19 साल थे। तीनों ही काफी स्मार्ट और अच्छे व्यक्तित्व के थे।
वीणा के व्यक्तित्व का तो जवाब ही नहीं था। कद 5 फुट 6 इंच, गोरा रंग, बड़ी-बड़ी आँखें, पतले गुलाबी होंठ, सुतवां नाक, छरहरा बदन, पुष्ट और सुडौल वक्ष, थोड़ा बाहर को निकला नितम्ब, लंबी पतली टाँगें। मतलब किसी कवि की कल्पना जैसे साकार हो उठी हो। एक बात बताऊँ कि उसे देखकर कहीं से भी उसके प्रति गलत भावना का उदय मन में नहीं होता था। सिर्फ लोग उसकी सुंदरता में खो से जाते थे। पता नहीं क्यों मैं जब भी उसे देखता था किसी और दुनिया में चला जाता था।
मेरी माँ ने घर में ही एक सिलाई प्रशिक्षण केन्द्र खोल रखा था। वीणा भी पहली बार मेरे घर सिलाई केन्द्र में दाखिला लेने ही आई थी। जब तक वो मेरे यहाँ रही, मैं अपने कमरे से छुप कर देखता ही रहा। फिर अक्सर मेरे यहाँ आती रही। कभी-कभार उसके साथ बहुत संक्षिप्त बातचीत भी हो जाती थी, मसलन वो मेरे माँ के बारे में पूछती कि चाची कहाँ है या ऐसे ही कोई सवाल।
मैं अपनी ओर से कभी कोई बात नहीं कर पाता था क्योंकि उसे देखते ही मेरी जुबान बंद हो जाती थी। जब कभी वो मेरी ओर नजर उठा कर देखती थी तो मैं संज्ञा-शून्य हो जाता था, मेरी आँखें पथरा जाती थी। जब वो कुछ पूछती थी तो मैं हकलाते हुए ही जवाब दे पाता था।
ऐसे ही करीब एक साल गुजर गया। वो एम.कॉम. में पढ़ती थी। उसका कॉलेज घर से करीब 12 किलोमीटर दूर था। वो कॉलेज अपनी स्कूटी से जाती थी।
एक दिन की बात है, शाम के करीब साढ़े छः बज रहे थे और शाम का धुंधलका छा गया था। मैं उसके कॉलेज की तरफ से ही अपने घर को जा रहा था। कॉलेज से लगभग दो किलोमीटर के बाद अगला पांच-छः किलोमीटर बिल्कुल सुनसान इलाका पड़ता था। मैंने देखा सड़क के किनारे वीणा परेशान सी खड़ी थी और उसकी स्कूटी बगल में स्टैंड पर खड़ी थी।
मैंने पूछा- क्या हुआ?
तो वो रोआंसी सी बोली- स्कूटी खराब हो गई है, स्टार्ट ही नहीं हो रही है।
मैंने भी एक-दो बार कोशिश की उसे स्टार्ट करने की पर सफल नहीं हुआ।
मैंने कहा- घबराने की कोई बात नहीं है, कुछ ही दूरी पर मेरा एक पहचान वाला है उसके घर स्कूटी रखवा देंगे और मैं तुम्हें अपने बाइक से घर छोड़ दूँगा।
उसने हाँ बोला तो मैंने उसके स्कूटी का बंदोबस्त करवा कर उसे अपने पीछे बाइक पर बैठा लिया।
दोस्तों क्या कहूँ कि मैं उस वक्त क्या महसूस कर रहा था। लगता था जैसे मैं स्वप्न देख रहा हूँ। मुझे खुद पर भी भरोसा नहीं हो रहा था कि मैं उस नाज़नीना को जिसको सिर्फ देखने भर से ही मेरा रोम-रोम पुलक जाता था वो मेरे साथ, मेरे बाइक पर, मेरे शरीर से चिपकी हुई बैठी है।
खैर जैसे-तैसे मैं घर पहुँचा तो वो मुझे थैंक्स बोलकर अपने घर चली गई।
अगली सुबह उसकी माँ ने आकर मुझे धन्यवाद कहा। मैंने एक मैकेनिक को साथ ले जाकर उसकी स्कूटी रिपेयर करवा कर उसके घर पहुँचवा दी।
फिर यदा-कदा वो मुझसे बात भी करने लगी। लेकिन बात करते हुए भी उसकी नजर हमेशा नीचे की ओर ही रहती थी। वो थी ही इतनी शांत और शालीन कि उसके साथ काम के अलावा और कोई भी बात करने की हिम्मत नहीं होती थी।
लेकिन कहते हैं न कि लड़कियों की नजरें चेहरे को पढ़ने में माहिर होती हैं। एक दिन की बात है, मैं अपने घर में अकेला ही था, माँ-पापा एक शादी में तीन चार दिनों के लिए गाँव गए हुए थे, वीणा मेरे घर आई और माँ के बारे में पूछा।
मैंने बताया कि माँ नहीं है। मुझे लगा कि अब वो चली जायेगी पर वो गई नहीं और मेरे सामने वाले सोफे पर बैठ गई। मैं उससे नजरें चुराता हुआ उसकी ओर देख रहा था। मैंने देखा कि वो भी मेरी ओर ही देख रही थी।
मैंने अपनी नजरें फेर लीं तो उसने बहुत ही मधुर स्वर में मुझसे पूछा- क्या तुम मुझसे कुछ कहना चाहते हो?
मेरी तो सांसें ही रुक गई, मैंने हकलाते हुए कहा- न न न नहीं तो?!
तो उसने भी कुछ झिझकते हुए ही कहा- मैं कई दिनों से यह महसूस कर रही हूँ कि तुम कुछ कहना चाहते हो शायद मुझसे। यदि कोई बात हो तो कह सकते हो, मुझे बुरा नहीं लगेगा।
मेरी कुछ हिम्मत बंधी तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कुछ कहने का प्रयास किया पर मेरे होंठ काँप कर रह गए पर कोई आवाज नहीं निकली।
उसने मेरी हालत समझ ली और कहा- तुम कुछ कह पाओ या नहीं पर मैं तुम्हें पसंद करती हूँ और यदि तुम्हारे मन भी ऐसी ही कोई भावना हो तो बोलो ना ! मुझे अच्छा लगेगा।
मेरा दिल तो उछलने लगा, मैंने कहा- मैं भी तुम्हें प्यार करने लगा हूँ पर तुम एक अच्छे घर की अच्छी लड़की हो इसलिए कुछ कहने में हिचकिचा रहा था कि न जाने तुम मेरे बारे में क्या-क्या सोचने लगो।
उसने कहा- क्या अच्छे घर की लड़कियों को प्यार नहीं करना चाहिए? उनके मन में भी तो भावनाओं का ज्वार उठ सकता है।
फिर उसने साफ-साफ कहा- मुझे तुम्हारा प्यार स्वीकार है पर आगे की कुछ मत सोचना। शादी से पहले मैं तुम्हे कुछ दे नहीं पाऊँगी। पर यह वादा भी करती हूँ तुमसे कि मेरे इस शरीर पर सिर्फ तम्हारा ही अधिकार होगा, कोई दूसरा मेरे शरीर को भोग नहीं सकेगा।
मैंने भी स्वीकार किया कि- देखो किसी लड़की को देखकर जो मन में सेक्स की भावना मन में उठती है, पता नहीं क्यों तुम्हें देख कर कभी भी वैसी कोई भावना उठी ही नहीं। तुम्हारी सादगी और सौम्यता देखकर तो सिर्फ तुम्हें पूजने को जी चाहता है।
सुनकर उसकी आँखें डबडबा गई, उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- क्या तुम मुझे जीवन भर इसी तरह प्यार करते रहोगे?
मेरे हाँ कहने पर उसने मेरे हाथों को कसकर दबा दिया और चली गई।
फिर तो हमारे प्यार का सिलसिला चलता रहा। लेकिन कभी भी मैंने उसे अपनी बाँहों में भी नहीं लिया और ना ही कभी उसे चूमने की कोशिश की। हमारा प्यार बड़े ही सात्विक ढंग से चलता रहा।
एक दिन मेरे घर के पानी की लाइन में कहीं रूकावट के कारण नीचे पानी आने में रुकावट हो गई तो मैं छत पर ही टैंक से पानी निकाल कर नहा रहा था। मैं सिर्फ अंडरवियर में था कि अचानक वो अपने छत पर धुले हुए गीले कपड़े फ़ैलाने आ गई।
जैसे ही उसकी नजर मेरे खुले कसरती बदन पर पर पड़ी वो कुछ पल तक एकटक देखती ही रह गई। जैसे ही मैं मुड़ा तो मुझसे नजर मिलते ही वो शरमाती हुई नीचे भाग गई। उस दिन मुझे भी कुछ-कुछ होने लगा।
दो दिन बाद वो मुझसे मिली तो कुछ देर बातचीत करने के बाद उसने नजर झुकाए ही कहा- तुम्हारे शरीर को देखकर अब मन बेकाबू होने लगा है।
मैंने कहा- पर तुमने तो खुद ही शादी की अड़चन डाल रखी है।
तो उसने कहा- यह तो मैंने मन की बात कही है सिर्फ। मैं ऐसा कोई भी कदम शादी से पहले नहीं उठाऊँगी।
और यह कहकर वो आकर मेरे सीने में सिमट गई। आज पहली बार मैंने उसे अपनी बाँहों में लिया। काफी देर तक वो मेरे बाँहों में मेरे सीने से चिपकी रही। आज मेरे मन में भी पहली बार सेक्स की भावना का उदय हुआ था। मेरा पूरा शरीर कांपने लगा और साथ ही मेरे लिंग में भी उफान आने लगा। कुछ ही देर में लिंग पूरा खड़ा और कड़ा हो गया।
मुझे लगा कि मैं अब बर्दाश्त नहीं कर पाऊँगा लेकिन उसे छोड़ने का भी मन नहीं कर रहा था। फिर मैंने अपने लिंग पर उसके हाथ को महसूस किया। मैंने सोचा कि अब यदि हम दोनों ने खुद को नहीं रोका तो कुछ न कुछ अवश्य हो जाएगा, जो नहीं होना चाहिए।
मैंने उसके हाथ को पकड़ कर हटा दिया और उससे अलग हो गया।
वो भी कुछ-कुछ झेंपती हुई मुझसे अलग हो गई और बोली- मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था पर ना जाने क्यूँ कुछ खुद को रोक नहीं पाई। तुम मुझे गलत मत समझना।
दरअसल हम दोनों को ही परिवार से कुछ ऐसे संस्कार मिले हैं कि कोई भी गलत कदम उठाने से पहले सौ बातें दिमाग में आ जाती हैं और रोक देती हैं।
उस दिन के बाद से जब कभी हम आपस में मिलते थे तो इस बात का विशेष ख्याल रखते थे कि एक-दूसरे के शरीर को स्पर्श न कर जाए क्योंकि शारीरिक स्पर्श ही तो शरीर के साथ साथ दिमाग में भी आग लगा देती है। लेकिन कम दोनों का प्यार दिन प्रतिदिन गहरा होता जा रहा था, एक दूसरे के प्रति सम्मान और समर्पण बढ़ता ही जा रहा था।
यह सिलसिला करीब दो साल तक चला। फिर अचानक…
उसने कहा- यह तो मैंने मन की बात कही है सिर्फ। मैं ऐसा कोई भी कदम शादी से पहले नहीं उठाऊँगी।
और यह कहकर वो आकर मेरे सीने में सिमट गई। आज पहली बार मैंने उसे अपनी बाँहों में लिया। काफी देर तक वो मेरे बाँहों में मेरे सीने से चिपकी रही। आज मेरे मन में भी पहली बार सेक्स की भावना का उदय हुआ था।
मेरा पूरा शरीर कांपने लगा और साथ ही मेरे लिंग में भी उफान आने लगा। कुछ ही देर में लिंग पूरा खड़ा और कड़ा हो गया। मुझे लगा कि मैं अब बर्दाश्त नहीं कर पाऊँगा लेकिन उसे छोड़ने का भी मन नहीं कर रहा था।
फिर मैंने अपने लिंग पर उसके हाथ को महसूस किया। मैंने सोचा कि अब यदि हम दोनों ने खुद को नहीं रोका तो कुछ न कुछ अवश्य हो जाएगा, जो नहीं होना चाहिए।
मैंने उसके हाथ को पकड़ कर हटा दिया और उससे अलग हो गया।
वो भी कुछ-कुछ झेंपती हुई मुझसे अलग हो गई और बोली- मेरा ऐसा कोई इरादा नहीं था पर ना जाने क्यूँ कुछ खुद को रोक नहीं पाई। तुम मुझे गलत मत समझना।
दरअसल हम दोनों को ही परिवार से कुछ ऐसे संस्कार मिले हैं कि कोई भी गलत कदम उठाने से पहले सौ बातें दिमाग में आ जाती हैं और रोक देती हैं।
उस दिन के बाद से जब कभी हम आपस में मिलते थे तो इस बात का विशेष ख्याल रखते थे कि एक-दूसरे के शरीर को स्पर्श न कर जाए क्योंकि शारीरिक स्पर्श ही तो शरीर के साथ साथ दिमाग में भी आग लगा देती है। लेकिन कम दोनों का प्यार दिन प्रतिदिन गहरा होता जा रहा था, एक दूसरे के प्रति सम्मान और समर्पण बढ़ता ही जा रहा था।
यह सिलसिला करीब दो साल तक चला। फिर अचानक वो हो गया जिसका मुझे जरा भी भान नहीं था। वीणा अपने माता-पिता के साथ अपने गाँव चली गई कुछ दिनों के लिए। मैं भी एक सप्ताह के लिए रिश्तेदारी में रांची गया था। मैं जब लौट कर वापस आया तो पता चला कि वीणा की शादी हो रही है। मेरे ऊपर तो जैसे पहाड़ टूट पड़ा। पता चला कि कहीं से एक अच्छा रिश्ता आया और उसके पिता ने हाँ कर दी और आनन-फानन में शादी तय हो गई।
मैं तो सदमे में डूब गया पर मैंने जाहिर नहीं होने दिया क्योंकि मैं वीणा की बदनामी नहीं चाहता था। और सबसे बड़ी बात कि अब फायदा भी क्या था। किस्मत का लेख समझ कर मैंने परिस्थिति को स्वीकार कर लिया। मुझे वीणा पर भी कोई गुस्सा नहीं था क्योंकि अपने समाज में और वो भी एक सम्भ्रांत परिवार के लड़की की क्या सीमाएँ होती है इससे मैं वाकिफ़ था।
अचानक मिले इस सदमे से उबरने के लिए मैंने अपने काम के सिलसिले में पन्द्रह दिन का हिमाचल प्रदेश का टूअर बना लिया। यह वाकया मई 2009 का है। पहले मैं 19 तारीख को कांगड़ा गया और और वहाँ दो दिन का कार्यक्रम करके 21 मई को करीब पांच बजे शाम में मैं वहाँ से बद्दी जाने के लिए निकला। बस स्टैंड में आने पर पता चला कि बद्दी के लिए कोई सीधी बस अब नहीं है पर ऊना के लिए बस मिल जायेगी और उना से बद्दी कि बस मिल जायेगी तो मैंने ऊना वाली बस ले ली।
किन्तु दुर्भाग्य से या सौभाग्य से रास्ते में कई कठिनाइयों का सामना करते-करते हमारी बस ऊना 9 बजे पहुँची। वहाँ पता चला कि बद्दी जाने वाली आखिरी बस तो चली गई और अब बद्दी के लिए पहली बस सुबह पाँच बजे मिलेगी।
मैं थोड़ा परेशान सा हो गया कि अगले दिन मेरा कार्यक्रम दस बजे से ही था। और पहाड़ी रास्तों में बस को कितना समय लगेगा इसका कोई ठिकाना नहीं रहता है। इससे भी ज्यादा इतनी रात को इस छोटे से जगह में होटल ढूँढना। फिर भी मैं मन मार कर स्टैंड से बाहर निकला।
जैसे ही मैं बाहर निकला मेरी नजर वीणा से टकरा गई। मैं भौंचक्क सा उसे देखता ही रह गया। फिरोजी रंग की साड़ी में बिल्कुल नवविवाहिता के सज-धज में इतनी सुन्दर लग रही थी वो कि मैं तो स्वप्न में खो गया। वीणा ने ही आकर मुझे टोका तो जैसे मैं नींद से जगा।
मैंने उससे शादी की बधाई दी तो वो थोड़ी उदास हो गई। थोड़े दुखी स्वर में उसने मुझसे पूछा- यहाँ कैसे?
तो मैंने अपनी राम कहानी उसे बताई।
उसने कहा- घबराने की कोई बात नहीं है, मेरा घर यहीं स्टैंड के पास है और स्टैंड के बगल में ही उसके पति का फलों का थोक व्यापार है। दो दिन के लिए वो सोलन गए हुए हैं तो मुझे ही उनका काम देखना पड़ा। तुम मेरे साथ घर चलो। रात में आराम करके सुबह की बस से चले जाना।
मैंने कोई जवाब नहीं दिया सिर्फ मंत्रबद्ध सा उसके पीछे-पीछे चलने लगा।
घर पहुँच कर उसने मुझे बताया कि कैसे जल्दबाजी में उसकी शादी ठीक हुई और उसे अपने दिल की बात अपने माता-पिता को कहने का अवसर भी नहीं मिला। मैंने उसे समझाया कि अब ये सब बातें भूल जाओ अपने नए जीवन में मन लगाओ।
फिर मैं थोड़ा फ्रेश हुआ और तब तक उसने खाना लगा दिया था। घर में और कोई था ही नहीं। हम दोनों ने बैठकर खाना खाया।
चूंकि उसके घर में एक ही बेडरूम था तो मैंने उसे कहा कि छत पर मेरा बिस्तर लगा दे, वैसे भी गर्मी का समय है।
उसने ऐसा ही किया। छत पर बिस्तर लगाने के बाद हम लोग छत पर ही बातें करने लगे। वो पुरानी बातों को याद करके रोने लगी और रोते-रोते मेरे सीने से लग गई।
अचानक जैसे मुझे झटका लगा। उसका शरीर एकदम बर्फ के समान ठंडा था। मुझसे भी रहा नहीं गया तो मैंने उसे अपने आलिंगन में बाँध लिया। उसके स्पर्श में एक अद्भुत आकर्षण था। इस अनुभूति का मैं शब्दों में वर्णन नहीं कर सकता। एकदम कोमल सा गात जैसे रुई की बनी हुई हो। न जाने कब हम दोनों के होंठ आपस में एक हो गए। मैं तो जैसे स्वर्ग में विचरण करने लगा। कितनी देर तक हमारे होंठ जुड़े रहे ये कहना मुश्किल था।
होश तो तब आया जब अचानक उसके हाथ का एहसास मेरे लिंग पर हुआ। मैं चौंक गया और उसका हाथ हटाने लगा। पर उसने जोर देकर मेरा लिंग पाजामे के ऊपर से ही कसकर पकड़ लिया और अपने दूसरे हाथ से मेरा दाहिना हाथ पकड़ कर अपने स्तन पर रख दिया।
अब मेरा भी सब्र टूट गया। मैं भी उसके स्तनों को सहलाने लगा। उसने मेरे पाजामे को नीचे खींच दिया और फिर मेरे अंडरवियर को भी खींचकर नीचे कर दिया। फिर मेरे नंगे लिंग को बड़े प्यार से सहलाने लगी। लिंग के ऊपर की चमड़ी को आगे पीछे करने लगी। साथ ही उसने मुझे अपने कपड़े उतरने का भी इशारा किया।
मैं तो उसके गुलाम की तरह उसका हर हुक्म मान रहा था। उसका स्पर्श करने पर महसूस होता था जैसे हवा को छू रहे हों। मैंने उसके शरीर से भी एक एक कर सारे कपड़े उतार दिया। जैसे ही उसके ब्रा को उसके शरीर से अलग किया दो श्वेत कपोत उछलकर सामने आ गए। मैंने दोनों हाथों से उसे पकड़ लिया और दबाने लगा।
मेरी बेचैनी बढ़ने लगी। लिंग अपने पूरे उफान पर था, इतना कड़ा हो गया था जैसे अब फट जाएगा। उस पर वीणा के कोमल हाथों का एहसास ! क्या कहूँ दोस्तो, मैं बयाँ नहीं कर सकता।
उसने अपने एक हाथ से मेरा सर पकड़ कर झुकाते हुए अपने स्तन की ओर इशारा किया। मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में भर लिया और धीरे-धीरे चूसने लगा। वो सिसकारियाँ भरने लगी। हम दोनों पर मदहोशी छाने लगी। मैंने उसके स्तनों को चूस चूस कर लाल कर दिया। अब मैंने उसके पेटीकोट को खोला और उसकी कच्छी को नीचे कर दिया।
दोस्त क्या बताऊँ कैसी थी उसकी योनि ! एकदम गुलाबी और चिकनी, एक भी बाल नहीं था, एकदम उभरी हुई, फूली हुई !
मेरे हाथ उसकी योनि को सहलाने लगे। मैंने नीचे झुक कर उसकी योनि को चूम लिया। वो अचानक चिहुंक गई। जैसे ही मैंने उसे चाटने के लिए अपनी जीभ उसके योनि से सटाया उसने मेरा सिर पकड़ कर हटा दिया और कहा- नहीं यह गन्दी है, मुँह में मत लो।
मुझमें इन्कार की या जबरदस्ती की हिम्मत कहाँ। मैं हाथ से ही उसके योनि को सहलाने लगा। फिर मैंने हिम्मत करके अपनी एक अंगुली उसके योनि में प्रविष्ट कराई।
मुझे थोड़ा आश्चर्य हुआ क्योंकि उसकी योनि एक कुंवारी लड़की की तरह बिल्कुल कोरी और कसी हुई लगी पर कुछ पूछने की हिम्मत नहीं हुई।
उसे बहुत अच्छा लगा।
पहले तो मैं अपनी अंगुली से उसकी योनि के अंदर की सतहों को काफी देर तक टटोलता रहा नीचे तक। फिर मैंने अंगुली को अंदर बाहर करना शुरू किया तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा- जब तुम्हारे पास इतना अच्छा लिंग मौजूद है तो अंगुली से क्यों?
यह उसका इशारा और अनुमति थी अगले चरण की शुरुआत के लिए।
मैंने उसे पकड़ कर बिस्तर पर लिटा दिया और पागलों की तरह चूमने लगा तो उसने कहा- इतने बेसब्रे क्यूँ होते हो, मैं तो पूरी रात के लिए तुम्हारी हूँ।
फिर मैं उसके दोनों पैरों को अलग करके बीच में आ गया और अपने लिंग को उसके योनि के द्वार पर रख कर हल्का सा धक्का दिया, पर मेरा लिंग ऊपर की ओर फिसल गया।
वो परियों की तरह हँसने लगी और बोली- लगता है ये तुम्हारा पहला सम्भोग है।
उसकी हँसी में भी एक अद्भुत आकर्षण था।
मैं भी मुस्कुरा दिया और कहा- मैं तो अब तक तुम्हारे ही इंतजार में था।
अब उसने मेरे लिंग को पकड़ कर सही जगह पर लगाया और कहा- अब कोशिश करो।
मैंने फिर धक्का लगाया और मेरे लिंग का अग्र-भाग उसके योनि द्वार में फंस गया।
उसने कहा- डरते क्यूँ हो, जोर लगाओ ना।
मैंने इस बार कसकर धक्का मारा। आधे से कुछ ज्यादा ही लिंग उसके योनि में धंस गया। उसने अपने दांतों से अपने होंठ को भींच लिया पर कुछ बोली नहीं। पर उसके चेहरे पर उभरने वाली पीड़ा को साफ देखा जा सकता था। मैं विचलित हो गया। उसकी हालत पर भी और अपनी हालत पर भी। क्यूंकि मेरे लिंग में भी जोर की पीड़ा होने लगी। करीब दो मिनट तक हम लोग इसी अवस्था में रहे।
उसके चेहरे पर पीड़ा के भाव कुछ कम हुए और उसने अपने कमर को थोड़ा ऊपर की ओर उठाया। मैं समझ गया कि वो तैयार है अगले प्रहार के लिए। मैंने अपने लिंग को थोड़ा बाहर निकला और एक जोरदार धक्का दिया। मेरा पूरा लिंग उसके योनि में अंदर तक धंस गया।
फिर मैं रुका नहीं, लगातार धक्का लगाने लगा। बीस-पच्चीस धक्कों के बाद उसके योनि में कुछ चिकनाई सी आ गई और लिंग अंदर-बाहर करने में सुगमता आ गई। उसके मुँह से सिसकारियाँ निकलने लगी, आह… ओह… उह… की आवाज निकलने लगी।
उसकी सिसकारियों की आवाज सुनकर मैं और भी जोश में आ गया, और तेज धक्के लगाने लगा।
करीब बीस धक्के और लगे होंगे कि एकाएक वीणा का शरीर अकड़ने लगा, उसने मुझे अपने बाहों में जकड़ लिया। उसकी जकड़ ऐसी थी कि उसके नाख़ून मेरी पीठ में गड़ गए, मुझे पीड़ा हुई पर अच्छा लगा। उसके अकड़ते ही लगा जैसे उसके योनि में बाढ़ आ गई हो।उसकी योनि ने रस छोड़ दिया था। उस रस से मेरा लिंग सराबोर हो गया और अब बहुत आसानी से लिंग अंदर-बाहर होने लगा।इतना ही नहीं उसके योनि से फच-फच का सुरीला स्वर भी निकलने लगा।
मैं लगातार अपने कमर को आगे पीछे करता रहा। अब वो थोड़ी पस्त सी दिखने लगी, उसका शरीर ढीला हो गया।
मैंने पूछा- थक गई क्या?
उसने जोश में कहा- मैंने तो जीवन का सर्वोच्च सुख पा लिया, पर जब तक तुम उस सुख को नहीं पा लेते हो तब तक करते रहो, मैं तुम्हारे साथ हूँ।
अब मैं दुगुनी गति से कमर हिलाने लगा। दस मिनट तक और धक्के लगाने के बाद वो फिर अकड़ने लगी। लेकिन अब मेरे लिंग में भी सुरसुराहट होने लगी और लिंग के अग्र-भाग पर थरथराहट होने लगी, लगा जैसे अब मैं भी मंजिल तक पहुँचने वाला हूँ।
मैंने कहा- वीणा, मेरा भी अब छूटने वाला है, बोलो कहाँ निकालूँ?
उसने कहा- मेरी योनि में ही निकालो, मैं तो कब से इसकी प्यासी थी।
ऐसा कहते हुए उसने अपने दोनों टांगों को मेरे कमर के इर्द-गिर्द लपेट कर जकड़ लिया और साथ अपनी योनि को इतना सिकोड़ लिया कि लगने लगा कि अब मेरा लिंग टूट कर उसके योनि में ही रह जाएगा। इसके साथ ही मेरे लिंग से रुक रुक कर पिचकारी की तरह वीर्यपात होने लगा। दस-बारह पिचकारी में ही उसकी योनि वीर्य से लबालब भर गई।
मैं निढाल होकर उसके शरीर पर ही लेट गया पर उसके योनि की जकड़न कम नहीं हुई, वो जैसे मेरे लिंग को निगल लेना चाहती हो।वो मेरे बालों में हाथ फिराने लगी। बीस मिनट तक मैं वैसे ही लेटा रहा। फिर मैं उसके शरीर से हटकर उसके बगल में लेट गया। अब वीणा मेरे ऊपर आ गई और मेरे होंठ, गाल, कपाल, चेहरे के हर हिस्से और शरीर पर भी यहाँ-वहाँ पागलों की भांति चूमने लगी। उसका पागलपन देख कर मैं अजीब पेशोपेश में पड़ गया।
वो चूमते-चूमते रोने लगी। मैंने बड़ी मुश्किल से उसे चुप कराया तो उसने अपना वादा दिलाया और कहा- मैंने कहा था ना कि मैं अपने शरीर को सिर्फ तुम्हें ही सौपूंगी और इसलिए आज तुम्हे यहाँ देखकर मैंने तुम्हें अपना शरीर सौंप दिया। तुम खुश रहो, यही मेरी तमन्ना है।
ऐसा कहकर वो फिर मुझसे लिपट गई और रोने लगी। मैं सोच में पड़ गया कि इसकी शादी के बीस-बाईस दिन हो गए तो क्या अभी तक इसका अपने पति से मिलन नहीं हुआ होगा?
उसने मेरे मन की बात ताड़ लिया और कहा- तुम मुझे गलत मत समझो, मेरी ससुराल में कोई पूजा-पाठ का अनुष्ठान चल रहा है। अतः मेरे पति छः माह तक मेरे साथ कोई संबंध नहीं बना सकते हैं।
मैं थोड़ा सकपका गया कि इसे कैसे पता चला कि मैं क्या सोच रहा हूँ। फिर मेरी हिम्मत नहीं पड़ी कि यह सोचूँ भी कि छः माह बाद क्या होगा।
फिर हम लोग एक-दूसरे से लिपटे बहुत देर तक बातें करते रहे और एक-दूसरे के शरीर को सहलाते रहे। ना उसे नींद आ रही थी और ना मुझे। बात करते करते तीन बज गए और मुझे थोड़ी सी झपकी आ गई।
चार बजे उसने मुझे उठा दिया कि फ्रेश हो जाओ पांच बजे बस पकड़नी है।
मैं उठा, वो अभी भी निःवस्त्र ही थी। वो भी उठ कर अपने कपड़े पहनने लगी।
पर शायद मेरी आँखों की भूख को पढ़ लिया था उसने। मेरे करीब आकर मेरे सर को अपने सीने से लगाकर बोली- मन नहीं भरा अभी तक?
मैंने कोई जवाब नहीं दिया।
उसने अपना चुचूक मेरे मुँह में डाल दिया। मैं उसे मुँह में लेकर चुभलाने लगा। वो फिर गर्म होने लगी। अब वह मेरे लिंग को अपने हाथों में लेकर सहलाने लगी। कुछ ही देर में मेरा लिंग अपने पूर्ण आकार को प्राप्त कर चुका था। बस एक बार और सम्भोग का दौर चला। हम दोनों ही चरम-सुख प्राप्त करते करते पसीने में डूब गए। उसके चेहरे पर भी पूर्ण संतुष्टि के भाव थे।
फिर हम अलग हुए और मैं बाथरूम चला गया और वो कपड़े पहनने लगी। मैं जब तक बाहर निकला वो चाय बना चुकी थी। चाय पीने के बाद वो मेरे साथ बस स्टैंड तक आई। वो बार-बार रोआंसी सी हो रही थी।
मैंने बस में अपना सामान रखा और नीचे उतर कर बस के बगल में उससे बात करने लगा।
जब बस का ड्राइवर अपनी सीट पर पहुँचा तो उसने अपने हाथ से एक सोने अंगूठी निकाली और मेरी अंगुली में पहनाते हुए बोली- देखो मेरे साथ जो भी हुआ, पर तुम मेरे लिए ज्यादा परेशान मत होना और जल्द ही कोई अच्छी सी लड़की से शादी कर लेना। पर मुझे भूलना नहीं, इसलिए मैंने तुम्हें यह अंगूठी दी है।
यह कहकर उसने मेरे होंठों को एक बार फिर चूम लिया, उसकी आँखें डबडबा गई। मेरी भी आँख भर आई और मैं एक रोबोट की तरह बस में बैठ गया और बस चल दी।
जब तक मेरी बस ओझल हुई तब तक वो हाथ हिलाती और मैं खिड़की से उसे देखता रहा।
फिर मैं बद्दी और फिर दिल्ली होते हुए वापस पटना आ गया। पटना आकर मैंने अपनी माँ से जिक्र किया कि कैसे ऊना में मैं वीणा से मिला था।
पहले तो उसे यकीन ही नहीं हुआ, उसने कहा कि वो तेरा भ्रम होगा, तूने उससे मिलती-जुलती किसी और लड़की को देखा होगा।
पर जब मैंने उसे बताया कि मैं उसके घर भी गया और रात भर वहाँ रहा था तो वो थोड़ा सशंकित सी होकर मुझे देखने लगी।
फिर माँ ने मुझे बताया कि वीणा तो मर चुकी है। शादी के तीसरे ही दिन ससुराल जाते हुए उसकी कार का एक्सीडेंट हो गया था।जिसमें वीणा, उसका दूल्हा और दुल्हे का छोटा भाई तीनों की मौत हो गई थी। मैं तो सन्न रह गया। कुछ समझ में नहीं आया कि माँ को क्या कहूँ। मैं कभी अपने हाथ में उसकी अंगूठी को देखता और कभी उसके साथ बिताये उन मधुर पलों को याद करता तो कभी बस स्टैंड पर उसके चुम्बन को जिसे मैं अभी भी अपने होंठों पर महसूस कर सकता था।
क्या ऐसा भी हो सकता है। अंगूठी को देखकर कोई भी फैसला लेना मुश्किल था। पर सच से भी इन्कार नहीं किया जा सकता था। मैंने अंगूठी की चर्चा किसी से नहीं की।
कभी कभी सोचता कि क्या वह सिर्फ अपना वादा पूरा करने आई थी कि वो अपना तन मुझे ही सौंपेगी। पता नहीं…

3 Comments

  1. Wow dost stori to bahut padi par esi nahi kya cheej hi dost agar ye stori each hi to usse jeevan men ek bar fir jarur milna kyon Ki esi ghatna mere sath bhi ghati thi joki uske bulane per bhi na japaya Kuch samay ka abhab bhi tha jiske liye mujhe usko aaj bhi yaad karke dukhi hota hun thanks for story.

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*