मेरी बीवी को ट्राई करोगे – 1 (Meri Biwi Ko Try Karoge -1)

Submit Your Story to Us!

प्रेषक : अरमान
हैल्लो में अहमदाबाद का रहने वाला हूँ और मेरा नाम अरमान है और मेरी उम्र 28 साल की है में आज आप सभी के सामने एक सच्ची घटना लेकर आया हूँ जो मेरे जीवन की घटना है। दोस्तों में एक प्राइवेट कम्पनी में नौकरी करता हूँ। दोस्तों मेरी बीवी का नाम जानवी है जो कि एकदम भोली भाली लड़की है और उसे चुदाई के बारे में कुछ ज़्यादा पता नहीं है। जब में मेरी बीवी को चोदता हूँ और फिर लंड को मुहं में लेने के लिए बोलता हूँ तो वो हर बार मुझे मना कर देती है और फिर बोलती है कि ये सब मुझे अच्छा नहीं लगता है। फिर मैंने बहुत बार ट्राई किया लेकिन वो मानती ही नहीं है।

दोस्तों मेरी शादी को अभी दो साल हो गये है और मेरी बीवी जानवी जिसका फिगर 34-26-36 है और वो दिखने में एकदम मस्त सेक्सी लगती है वो बहुत गोरी चिट्टी है अगर उसके गालो पर एक चिकोटी भी ले लो तो लाल दाग हो जाता है। उसके बूब्स एकदम गोरे गोरे है और बहुत बड़े है उस पर सॉफ्ट सॉफ्ट ब्राउन निप्पल और एकदम गोल बूब्स है वो एकदम भोली भाली लड़की है। फिर मेरी जब नयी नयी शादी हुई तो में हर रोज 2-3 बार उसे चोदता था और रात को हम बहुत मज़ा करते थे।
फिर कभी कभी तो में उसे ब्लू फिल्म दिखाता था ताकि वो चुदवाने में और मज़ा ले सके और फिर हम रोज नये नये पोज़ में सेक्स करते थे। ये करीब एक साल पहले की बात है। जब मैंने एक रात को उसे एक ब्लू फिल्म दिखाई जो एक काले अफ्रिकन आदमी और एक गोरी लड़की की थी। फिर उस फिल्म में सीन था कि वो उसे अपने घर पर कुछ रिपेयरिंग के लिए बुलाती है और मज़े लेती है फिर थोड़ी किसिंग के बाद जब उस लड़की ने उसका लंड पेंट से बाहर निकाला तो मेरी बीवी देखती ही रह गयी और मुझे बोली अरमान क्या ये सच में इतना बड़ा हो सकता है? तभी में बोला कि हाँ क्यो नहीं.. मेरा लंड भी तो इतना बड़ा है। तभी वो बोली लेकिन ये तो बहुत बड़ा है। तभी मैंने बोला कि हाँ बड़ा तो है उस लड़की के मुहं में भी पूरा नहीं जा रहा.. अगर तू भी हर रोज मेरा लंड एसे मुहं में लेती तो मेरा भी इतना बड़ा हो जाता। फिर वो बोली मुझे तुम्हारा लंड जितना भी बड़ा है मुझे वो बहुत अच्छा लगता। फिर मैंने उसे कहा कि क्या तुझे बड़े लंड पसंद नहीं है? तभी बोली कि मुझे सिर्फ़ तुम्हारा ही लंड अच्छा लगता। फिर मैंने उसे मज़ाक में कहा कि बोल अगर तुझे ऐसा बड़ा कला लंड चाहिए तो उसे यहीं पर बुलाते है। तुझे भी वो जमकर चोदेगा बोल? तभी वो कहने लगी कि नहीं बाबा में तो मर जाउंगी इतने बड़े से।
फिर मैंने वापस मज़ाक करते हुए कहा कि फिर भी कभी भी मोटा लंड लेने का मन करे तो तू मुझे बोल देना में उसे बुला लूँगा.. मुझे भी मज़ा आएगा तुझे बड़े लंड से चुदते हुए देखने में। तभी वो बोली कि नहीं.. मेरे लिए तो तुम्ही सब कुछ हो.. तुम्हारा लंड जितना भी है बस मुझे वही अच्छा लगता है। फिर हम अहमदाबाद में एक मस्त लाईफ जी रहे थे तभी अप्रेल में मेरा ट्रांसफर दिल्ली में हो गया लेकिन वहाँ पर दिल्ली में रहने का कोई ठिकाना नहीं था, तो में थोड़े दिन होटल में रहा.. में यहाँ पर अकेला था।
मेरे पापा पहले आर्मी में थे तो उनका एक दोस्त जो आर्मी में था वो पंजाबी था और वो भी रिटायर होकर अपनी फॅमिली के साथ दिल्ली में ही रहता था। फिर मैंने अपने पापा को बताया और फिर पापा ने उनसे बात की मेरे लिए कोई किराए पर मकान ढूँढने के लिए। तभी उन्होने बताया कि मेरे ही पास वाला मकान खाली है और फिर पापा ने कहा कि तुम वहीं पर रह लो क्योंकि जान पहचान वाले के साथ रहने में थोड़ी सुरक्षा रहती है। तभी में वहाँ पर शिफ्ट हो गया। फिर थोड़े दिन बाद मैंने अपनी बीवी को भी दिल्ली बुला लिया फिर हम लोग अकेले रहते थे। उन अंकल की उम्र 58 साल की है और उनकी फेमिली में आंटी और दो बेटियाँ है। फिर पापा ने हमसे कहा था कि अगर कोई भी समस्या होती है तो अंकल को बता देना.. दिल्ली में और कोई रिश्तेदार नहीं था.. इसलिए हम अक्सर अंकल के घर आते जाते थे।
फिर हम मज़े से यहाँ पर रह रहे थे और में जब जॉब पर जाता तो आंटी हमारे घर आकर मेरी बीवी के साथ बातें करती रहती थी। वो बताती थी कि अंकल को खाने में क्या क्या पसंद है और मेरी बीवी मेरे बारे में आंटी को सब बताती थी और दोनो एक अच्छे दोस्त की तरह बातें करती रहती थी। फिर मेरी बीवी धीरे धीरे आंटी की एक बहुत अच्छी दोस्त हो गयी थी। फिर आंटी कभी कभी हमारे घर आती थी और मेरी बीवी को पंजाबी खाना बनाना सिखाती थी और फिर दोनो घंटो बैठकर बातें किया करते थे। हमारे और उनके घर जैसे रिलेशन हो गये थे।
फिर कभी कभी हम लोग साथ में उनकी कार में बाहर घूमने भी जाया करते थे। फिर हम दिल्ली में सेट हो गये थे और हमे वहाँ पर रहने का मज़ा भी आ रहा था क्योंकि अब हम अकेले रहते थे तो जब मेरी छुट्टियाँ होती तो में ब्लू फिल्म लगाकर पूरे दिन में 4-5 बार मेरी बीवी को चोदता था और हमे बहुत मज़ा आता था क्योंकि हमें कोई रोकने वाला नहीं था। फिर एक दिन दोपहर को मेरी छुट्टी के दिन में घर पर था और सोने जा रहा था। तभी आंटी हमारे घर पर आई और मेरी बीवी और आंटी बातें कर रहे थे और में सो गया था। तभी करीब एक घंटा हुआ होगा और फिर मुझे गर्मी लग रही थी तो उसके कारण मेरी आंख खुल गई और फिर मैंने देखा कि आंटी और मेरी बीवी दोनों अभी तक बात कर रहे थे। वो कुछ खरीदारी के बारे में बात कर रहे थे। तभी मेरी आंख खुलने के बाद मुझे थोड़ी देर नींद नहीं आई में ऐसे ही पड़ा रहा जैसे में सो रहा हूँ। फिर वो लोग बातें कर रहे थे मुझे थोड़ा थोड़ा याद है कि क्या बात हुई थी।
जानवी : कल आप मेरे साथ चलोगी शॉपिंग पर.. मुझे थोड़ा सामान लाना है।
आंटी : हाँ ठीक है कल दोपहर हम चलेंगे.. जो भी लाना है तुम लिस्ट बना लेना।
जानवी : लेकिन आंटी मुझे वो सब भी लाना है।
आंटी : क्या?
जानवी : मुझे अंडरगार्मेंट्स भी लाना है।
आंटी : ठीक है तो क्या हुआ तुम खरीद लेना तुम्हे जो भी चाहिए वैसे मुझे पता नहीं यहाँ पर अच्छा कहाँ पर मिलता है।

जानवी : लेकिन आप कहाँ से खरीद कर लाते हो?
आंटी : मेरे लिए तो तुम्हारे अंकल ही लेकर आते है क्योंकि वो बड़े रोमेंटिक टाईप के है तो वो उनकी पसंद से ही लाते है में तो कभी लेने नहीं गयी।
जानवी : तो फिर हम कहाँ से लाएँगे?
आंटी : देखेंगे अगर कहीं पर अच्छा मिल जाता है तो ले लेंगे वैसे तुम्हे कैसी चाहिए?
जानवी : वैसे मेरे पति भी बोला करते है कि थोड़ी फैन्सी टाईप की पहना करो।
आंटी : यहाँ पर तो हमे बहुत ढूंढने पर भी नहीं मिलेगी।
जानवी : तो फिर क्या हमे भी मार्केट जाना पड़ेगा?
आंटी : हाँ या तो फिर एक काम करो तुम मुझे पैसे दे दो और अपना साईज़ बता दो.. में तुम्हारे अंकल से बोल दूँगी और वो लाकर दे देंगे।
जानवी : नहीं आंटी.. मुझे शर्म आती है।
आंटी : तो क्या हुआ मेरी एक दोस्त है वो भी मुझसे ही मँगवाती है.. में बोल दूंगी कि मेरी एक और दोस्त है उनके लिए लाना है। में तुम्हारा नाम नहीं बताउंगी ठीक है।
जानवी : हाँ यह ठीक है।
फिर 2-3 दिन बाद जब हम रात को बातें कर रहे थे.. तभी मेरी बीवी ने मुझे बताया कि में आज शॉपिंग के लिए गयी थी तो सारा समान लेकर आ गई। तभी मैंने पूछा क्या क्या लाई हो? तभी उसने मुझे सब दिखाया में वो ब्रा और पेंटी सेट देखकर बहुत खुश हुआ। वाह क्या मस्त सेट था ब्रा पूरे सिल्क के कपड़े से बनी थी और पीछे हुक की जगह लेस दी हुई थी.. वो भी सिल्क की थी। मेरा तो वो देखते ही लंड खड़ा हो गया और पेंटी भी पूरी सिल्क की थी और उसमे भी साइड में लेस लगी हुई थी। तभी मैंने उसे ट्राई करने को बोला तो उसके पहनने के बाद तो वो क्या मस्त लग रही थी जैसे कोई ये बिकिनी सेट मॉडलिंग के लिए है। तभी मैंने बोला कि कहाँ से ली? फिर उसने मुझे बताया कि वो यहाँ पर मॉल में एक शॉप है वहाँ से ली है। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
फिर दो दिन बाद आंटी हमारे घर आई और में बाथरूम में था। तभी थोड़ी देर बात करने के बाद आंटी ने पूछा कि क्या तुम्हारे पति को पसंद आई? फिर मेरी बीवी बोली कि वो तो देखकर पागल हो गए। फिर आंटी ने कहा कि और मंगवानी है तो बता देना। तभी मेरी बीवी ने कहा कि ठीक है में बता दूंगी। तभी मुझे पता चला कि ये वो अंकल ही लाए है। लेकिन मेरी बीवी को मुझे बताने में शायद डर लगता था कि कहीं में कुछ कहूँगा तो इसलिए उसने मुझसे झूठ बोला लेकिन मैंने सोचा कि कोई बात नहीं अंकल को भी पता नहीं है कि किसके लिए लाए है। फिर थोड़े दिन बाद हम आंटी के घर पर गए। वहां अंकल नहीं थे। तो मैंने मेरी बीवी से कहा कि तुम और आंटी बैठो में अभी आता हूँ थोड़ा काम है और में बाहर चला गया। फिर थोड़ी देर बाद आया तो दरवाजा बंद किया हुआ था में बेल बजाने ही वाला था कि मुझे अंदर से दोनों की बातें करने की आवाज़ आ रही थी तो मैंने वहीं पर खड़े रहकर सुना तो आंटी बता रही थी कि..
आंटी : तुम्हे वो ब्रा सेट बराबर फिट आ रहा है ना।
जानवी : हाँ एकदम मस्त।
आंटी : तुम्हारे अंकल पूछ रहे थे।
जानवी : क्या?
अंकल : वो वाला सेट किसको दिया है।
जानवी : तो तुमने क्या कहा?
आंटी : मैंने बताया कि है मेरी एक दोस्त उसे।
जानवी : आंटी कहीं तुमने अंकल को मेरा नाम तो नहीं बताया ना?
आंटी : नहीं पगली.. लेकिन शायद उन्हे पता चल गया है।
जानवी : लेकिन वो कैसे?
आंटी : एक दिन वो मुझसे पूछ रहे थे कि कहीं तुमने वो ब्रा सेट जानवी को तो नहीं दिया है ना?.. फिर मैंने कहा कि तुम्हे किसने बताया? तो वो बोले कि सुबह वहाँ पर सूखते हुए देखा था और उसका बॉक्स भी उनकी छत के छज्जे पर पड़ा हुआ था। फिर मैंने कहा कि हाँ वो उसी ने मँगवाया था लेकिन आप उसे बताना मत.. वो शरमाती है। फिर वो बोले कि ठीक है और मँगवाना है तो बोल देना। मैंने कहा कि ठीक है में उससे पूछकर बता दूंगी।
जानवी : तो उनको पता चल गया कि तुमने मुझे दिया है।
आंटी : हाँ.. वो तुम सब कुछ बाहर सुखाती हो तो उन्होने देख लिया होगा.. लेकिन तुम चिंता मत करो वो तुम्हारे पति को कुछ नहीं बताएगें।
जानवी : ठीक है।
आंटी : तुम्हारे अंकल कह रहे थे कि और भी लानी है तो बोल देना और भी बहुत सारी डिजाईन है।
जानवी : नहीं आंटी अभी तो है.. अगर जरुरत होगी तो में आपको बोल दूँगी।
आंटी : ठीक है।
तभी मैंने बेल बजाई और आंटी ने दरवाजा खोला। मैंने कहा कि अगर तुम्हारी बातें खत्म हो गयी हो तो चलें। तो मेरी वाईफ ने कहा कि ठीक है। फिर जब हम रात को दिन भर के काम से फ्री होकर सोने बेडरूम में गये तो मैंने मेरी वाईफ से बोला कि यार ये ब्रा सेट बहुत मस्त है तुम ऐसे 2-3 और लाओ ना। तभी मेरी वाईफ ने कहा कि ठीक है में लेकर आ जाऊंगी और फिर दो दिन बाद मैंने देखा कि मेरी वाईफ ने 2 सेट और ला दिए जो पहले से भी मस्त थे जिसमे ब्रा पूरी नेट वाली थी और पेंटी भी पूरी नेट वाली थी। लेकिन वो भी सही आकार में नहीं थी, वो आधी जाँघो तक आ रही थी लेकिन उसे पहनने के बाद मेरी बीवी जैसे कोई परी हो वैसी लग रही थी। फिर दूसरे दिन में जब ऑफीस के लिए निकल ही रहा था कि किसी ने दरवाजा खटखटाया तो मेरी वाईफ ने दरवाजा खोल दिया। तभी देखा तो अंकल थे में अंदर कपड़े चेंज कर रहा था। लेकिन मुझे कुछ ठीक से सुनाई नहीं दिया लेकिन मैंने इतना सुना कि..

अंकल : ये लो बिल
जानवी : आंटी को दे दिया होता.. वो देने आ जाती और मैंने देखा कि जानवी के हाथ में पिंक कलर का कुछ कागज था। फिर मैंने बाहर आकर पूछा कि क्या हुआ जानवी.. अंकल क्या बोल रहे थे? तभी मेरी वाईफ ने कहा कि कुछ नहीं वो तो उन्होंने हमारा लाईट का बिल भर दिया है तो उसकी पर्ची देने आए थे। फिर मैंने बोला कि ठीक है और में ऑफीस चला गया। फिर जब में ऑफीस से आया तो मेरे हाथ में बस का टिकट था तो वो में कचरे के डब्बे में फेंकने के लिए गया तो मैंने देखा कि उसमे गुलाबी कलर के कागज के दो टुकड़े थे। मुझे लगा कि शायद वो हमारा लाईट का बिल होगा तो मैंने उठाया और देखा दोनो को जोड़ कर तो अंदर लिखा था ब्यूटी फैन्सी स्टोर का पता था और नीचे 1250 रुपये लिखे थे और पास में लिखा था 2 ब्रा और पेंटी सेट और बिल अंकल के नाम पर था.. तभी में चोंक गया।
फिर हमने खाना खा लिया और फिर सोते वक़्त मैंने मेरी वाईफ से पूछा कि जानवी तुम ये मस्त सेट कहाँ से लाई और कितने के आए? तभी उसने मुझे बताया कि 400 रुपये के दो आए और यहीं पास वाले मॉल से लिए है। उस वक़्त मैंने उसके चहरे पर थोड़ी घबराहट देखी थी लेकिन मैंने कुछ नहीं कहा बस में यही सोचता रहा कि मेरी बीवी क्यों मुझसे झूठ बोल रही है? फिर मैंने सोचा कि जाने दो कोई प्राब्लम नहीं है। शायद वो मुझसे कहने में डर रही हो। फिर अक्टूबर लास्ट वीक में मुझे ट्रैनिंग के लिए मुंबई जाना था तो में 4 दिन के लिए मुंबई चला गया। फिर 4 दिन बाद वापस आया में रात के करीब 9 बजे वापस आया और शावर लेकर फिर फ्रेश होकर खाना खाने बैठ गया और फिर हमने खाना खाया और थोड़ी सी थकान थी इसलिए हम सोने के लिए बेडरूम में गये और मैंने अपनी वाईफ को किस किया और सेक्स के लिए कहा तो वो बोली कि में ज़रा चेंज कर लेती हूँ और उसने नयी ब्रा और पेंटी पहन ली.. जो मैंने पहले कभी नहीं देखी थी। तभी मैंने पूछा कि तुम ये कब लाई? ये तो तुमने उस दिन मुझे दिखाई ही नहीं। फिर वो बोली कि में कल शॉपिंग के लिये गयी थी तो वहां से नयी लेकर आई हूँ। तभी मुझे शक हुआ कि शायद इसका भी बिल होगा..
दोस्तों आगे की कहानी अगले भाग में..
धन्यवाद …

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*