मेघा को होटल में चोदा (Megha Ko Hotel Mein Choda)

Submit Your Story to Us!

Mere sare pyare debar jo ki bhauja.com ki ye kahani padhkar tadapate hen dudh pine ko unh logon ko meri chut ki pranam.

सुशांत चंदन
दोस्तो, मैं एक बार फिर आपके सामने अपने एक नये अनुभव को लेकर हाजिर हूँ। अब तक आपने मेरी 4 कहानियाँ पढ़ी हैं और आपके अत्यधिक ईमेल के द्वारा और नई कहानी की मांग के कारण एक और नया अनुभव लिख रहा हूँ।
राउरकेला में 40 दिन रहने के बाद मुझे रोज चोदने की आदत हो गई थी, सो मैंने नज़र घुमाई कि अब किसको चोदूँ तो मेरे मन में 4 नाम आए जिनको मैं चोद सकता हूँ या पटाने की कोशिश कर सकता हूँ।
एक तो साधना मैम जिनकी अभी शादी नहीं हुई थी, वे बिहार की ही थीं।
दूसरी थी मेरी क्लास की ही अंकिता,
तीसरी थी फ़ातिमा जो कि कश्मीर की थी
और एक मेघा पंजाबी थी।
तो मैंने सोचा, सबसे पहले मेघा से ही शुरूआत करता हूँ।
मेघा सूद 23 साल की लड़की है, देखने में बहुत सुंदर नहीं है लेकिन उसने अपनी फिगर बहुत व्यवस्थित कर रखी है। उसका फिगर 34-28-36 होगा, मम्मे 34 बी और बिल्कुल गोल हैं, वो चलती है तो उसके चूतड़ दोनों तरफ मटकते हैं। छोटी-छोटी काली आँखें, सुतवां नाक और उसके गुलाबी होंठ कमाल के थे।
वो उम्र में मुझसे दो साल बड़ी थी लेकिन लगती नहीं थी।
अब मैं कहानी आरम्भ करता हूँ। मुझे मेघा मेरे कॉलेज में मिली, जब उसने मुझे पहली बार देखा तो मैंने सोचा कॉलेज से जाने से पहले इसकी चूत एक बार तो ज़रूर मारूँगा और अब तो मैं खुद ही अपने लौड़े की भूख शान्त करने के लिए एक लड़की ढूँढ रहा हूँ तो इसी से शुरूआत करता हूँ।
मैंने मेघा के ऊपर डोरे डालने आरम्भ किए वो खुद ही मेरी तरफ खिंची चली आई।
मेरा कमरा कॉलेज से बाहर था और वह हॉस्टल में रहती थी। हम दोनों फोन के ज़रिए सम्पर्क में थे लेकिन अब तो हम लोग और भी ज़्यादा समय बिताने लगे और धीरे-धीरे अपने व्यक्तिगत राज भी एक-दूसरे को बताने लगे।
फिर एक दिन मौका देख कर मैंने उसको प्रपोज़ कर दिया और जैसा मुझे पता था उसने मेरी प्रणय-याचना को स्वीकार कर लिया।
मैंने उसको इस बात के लिए आश्वस्त भी कर लिया कि मैं उससे शादी भी कर लूँगा जबकि मुझसे दो साल बड़ी थी।
दरअसल मेरे भैया की भी लवमैरिज हुई थी और उनकी पत्नी भी उनसे बड़ी थी, सो वो मान गई।
अब हम लगभग रोज़ ही अकेले घूमने जाने लगे। जब भी हम लोग घूमने जाते थे तो मैं उसका हाथ पकड़ कर चलता था तो कभी-कभी उसकी कमर में भी हाथ डाल कर चलता था।
कभी-कभी हम कॉलेज के बाहर भी जाने लगे और मौका मिलने पर उसके चूतड़ और चूची भी दबा देता था।
फिर मैंने एक दिन उसको चोदने का प्रोग्राम बनाया। वो शुक्रवार की शाम थी और हम घूम रहे थे, मैंने मौका देख कर उसकी कमर को पकड़ कर उससे बोला- यार, यहाँ तो हमें रोज़ कोई ना कोई देख लेता है और हम दोनों ज़्यादा वक्त नहीं बिता पाते हैं।
उसने एक शरारती मुस्कान दी।
मेघा- ओह्ह.. फिर क्या चाहिए तुम्हें?
मैं- मतलब कुछ वक्त सिर्फ़ हम दोनों का हो, उस वक्त और कोई ना हो, तुम मैं कैंडल-लाइट डिनर वगैरह, थोड़ी सी शैम्पेन वगैरह।
मेघा- इसमें क्या है… किसी दिन बाहर चलते हैं।
मैं- सच्ची?
मेघा- मुच्ची..।
मैं- कल चलें?
मेघा- कल.. इतनी जल्दी कहाँ का प्रोग्राम बनाएँगे।
मैं- वो तुम मुझ पर छोड़ दो, तुम बस कल सुबह तैयार रहना, कल कॉलेज बस से सुबह शहर चलेंगे, मैं सिनेमा के टिकट ले लूँगा।
मेघा- ओके, अभी तो मुझे हॉस्टल छोड़ आओ।
मैं- जरूर मेरी जान..
अगले दिन सुबह वो एक चुस्त जीन्स और टी-शर्ट पहन कर आई। इन कपड़ों में वो कयामत लग रही थी। हम कॉलेज बस से शहर चले गए और एक मॉल के आगे उतर गए।
फिर उसने कहा- क्या प्लान है?
मैंने उसको कहा- यहाँ पीछे होटल में एक कमरा बुक किया हुआ है, दिन भर वक्त बिताएंगे, रात को वहाँ डिनर करके रात को कॉलेज पहुँच जायेंगे।
उसने मुझे अजीब सी नज़रों से देखा लेकिन कुछ बोला नहीं। मैंने सोचा आज तो मेरा काम हो ही जाएगा, दरअसल मैंने कमरा दो दिन के लिए बुक करवाया था और कोई डिनर-विनर नहीं होना था। मेरे डिनर के मेनू में तो उसकी चूत थी।
दोस्तो, फिर हम होटल चले गए, वहाँ पर जाकर हमने अपने बैग एक तरफ फेंक दिए और मैं उसकी गोद में सिर रख कर बातें करने लगा और वो मेरे सिर पर हाथ फेरने लगी।
सिर के सामने उसकी उठी हुई चूची देख कर मन हो रहा था कि लपक कर पकड़ लूँ, लेकिन सोचा जल्दबाजी सही नहीं है तो हमने करीब एक घंटे तक सिर्फ बातें ही की, फिर मैंने बातों को रोमान्टिक करना आरम्भ कर दिया और उसके हाथों को चूम लिया।
वो कुछ नहीं बोली तो फिर बात करते-करते मैं उसके बहुत करीब आ गया और अचानक मैंने उसके होंठ पर चुम्बन करके पीछे हट गया, उसने मुझे घूरा लेकिन कुछ कहा नहीं।
मैंने हिम्मत करके फिर अपने होंठों को उसके होंठों पर लगा दिए और उसको लंबा सा चुम्बन किया। इस बार उसने भी मेरा साथ दिया, हमारा ये दीर्घ चुम्बन करीब दस मिनट तक चला।
फिर जब ये खत्म हुआ तो मैंने उसको बोला- मेघा मैं तुम्हें प्यार करना चाहता हूँ… बहुत सारा प्यार।
वो बोली- नहीं सुशान्त… यह ग़लत है, हमें शादी से पहले कुछ नहीं करना चाहिए।
मैंने फिर सड़ा हुआ मुँह बना लिया और बोला- कर तो रहा हूँ तुमसे शादी… सिर्फ़ शादी से ही पति-पत्नी बनते हैं क्या? मेघा ये रिश्ता तो मन का होता है, साथ फेरों से कुछ नहीं होता… तुम जानती हो मुझे ये सब ताम-झाम पसंद नहीं हैं।
बहुत देर मनाने के बाद वो मुख-मैथुन के लिए मान गई। मैंने मन ही मन सोचा पहले ये तो कर लूँ.. बाद में गर्म होकर ये अपने आप ही करेगी।
अब मैंने उसको अपनी बाँहों में एकदम जकड़ लिया और एक ज़ोरदार गहरी वाली चुम्मी दी।
चुम्बन करते हुए मैं बीच-बीच में उसके होंठों भी काटता जाता था, कभी ऊपर वाला होंठ, कभी नीचे वाला और साथ ही अपनी जीभ भी उसके मुँह में डालने लगा।
धीरे-धीरे वो भी ऐसा ही करने लगी, चुम्बन करते हुए ही मैंने अपना हाथ पीछे से उसकी टी-शर्ट के अन्दर डाल दिया और उसकी नंगे जिस्म पर हाथ फेरने लगा, धीरे-धीरे वो गरम होने लगी और उसकी साँसें तेज़ होने लगी।
उसको गरम होते देख कर मैं खुश हो रहा था।
इस दौरान मैंने उसकी बेल्ट का बक्कल खोल दिया फिर उसकी जीन्स का बटन भी खोल दिया।
मैंने अपने हाथ पीछे से उसकी जीन्स में डाल दिए और पैन्टी के ऊपर से ही उसकी पिछाड़ी पर हाथ फेरने और उसके चूतड़ दबाने लगा।
ऐसा करते-करते करीब आधा घंटा निकल गया।
फिर मैंने उसकी टी-शर्ट उतार दी और उसके मम्मों को निहारने लगा, क्या लग रहे थे.. उसकी गुलाबी ब्रा में उसके छोटे-छोटे समोसे जैसे उठे हुए मम्मे.. आह्ह..!
मैं तो उनको देख कर पागल ही हो गया और ब्रा के ऊपर से उन्हें चूसने लगा।
मैं अपने मुँह से उसके एक मम्मे को चूस रहा था और दूसरे मम्मे को ब्रा के ऊपर से ही दबा रहा था।
फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी जीन्स में आगे की तरफ डाल दिया और पैन्टी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा।
मैंने ध्यान दिया कि उसकी पैंटी पहले से ही गीली थी, इसका मतलब उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया था।
मैंने थोड़ी देर और उसके मम्मों को चूसना जारी रखा, फिर मैंने उसकी जीन्स उतार दी।
अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में थी, तभी मैंने अपने भी कपड़े उतार दिए अब मैं सिर्फ़ अंडरवियर में उसके सामने खड़ा था।
मैंने धीरे से उसको बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी टाँगों को फैला दिया। अब मैं पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सूँघने लगा।
दोस्तो, उसकी चूत के पानी में भीगी पैन्टी ने मुझे पागल सा कर दिया और मैंने उसकी पैंटी को चाटना और उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया।
अब मुझसे सब्र नहीं हो रहा था और मैंने उसकी ब्रा को निकाल दिया, जैसे ही ब्रा हटी उसके दोनों चूची उछल कर बाहर आ गईं…
जैसे वे कब से बाहर आना ही चाह रही थीं।
मैंने उसके दोनों मम्मे अपने हाथों में ले लिए और एक बार फिर मैं उसके मम्मों पर टूट पड़ा और उन्हें ऐसे चूसने लगा जैसे कि दो साल का बच्चा अपनी माँ का दूध पीता है।
मैं कभी उसके दाएं मम्मे को चूसता, कभी बाएं को और दूसरे मम्मे को अपने हाथ से दबाता।
मम्मे चूसते-चूसते बीच-बीच में मैं उसके निपल्स के चारों तरफ अपनी जीभ घुमा रहा था। मेरे ऐसा करने से वो पागल हो जाती थी।
मैंने काफ़ी देर तक उसके मम्मे चूसे।
उसके मम्मे चूसते वक़्त मैं झड़ गया और मेरा अंडरवियर गीला हो गया, मैं अपनी उत्तेजना ज़्यादा देर तक संभाल नहीं पाया, मुझे गीले अंडरवियर से दिक्कत होने लगी, मैंने सोचा कि यही मौका है और मैंने अपना अंडरवियर उतार दिया।
मेरे लण्ड को देख कर वो घबरा गई और बोली- ये क्या है.. मैंने तो सोचा था सिर्फ़ पॉर्न-स्टार का ही बड़ा होता है.. अच्छा हुआ मैंने मुँह से करने के लिए ही ‘हाँ’ की है।
मैंने भी उसकी ‘हाँ’ में ‘हाँ’ मिलाई और मन ही मन सोचा कि ‘बेटा रुक जा आज इसी लौड़े से तेरी चूत और गाण्ड दोनों मारूँगा और ऐसे मारूँगा कि तुझे इसका नशा सा हो जाएगा, फिर तू ही मेरे आगे हाथ जोड़ेगी कि चोद लो.. चोद लो।’
अब मैं दोबारा उसको चूमने लगा, साथ मैं उसके मम्मे भी दबा रहा था और उसके जिस्म को चूम और चाट भी रहा था।
इसी बीच मेरा लौड़ा फिर खड़ा हो गया और मैंने जानबूझ कर अपने लण्ड को पैंटी के ऊपर से उसकी चूत पर रगड़ना चालू कर दिया।
इससे शायद उसको मज़ा आने लगा और उसने अपनी सिसकारियों की आवाज बढ़ा दी थी।
मैंने सोचा यही सबसे बढ़िया मौका है और मैंने नीचे जाकर अचानक से एक ही झटके में उसकी पैन्टी निकाल दी। वो घबरा गई और उसने अपने पैरों को बंद कर लिया और अपनी चूत को अपने हाथ से ढक लिया और मुझ पर चिल्लाई- सुशांत मैंने बोला ना.. ये सब नहीं..!
मैं- हाँ.. जान मुझे याद है.. मैं कुछ नहीं करूँगा.. अब अपने हाथ हटाओ और अपनी सुंदर चिकनी चूत तो दिखाओ।
मेघा- तुम कैसी गन्दी भाषा बोल रहे हो?
मैं- यार अब जो बोला जाता है वही बोलूँगा ना.. चलो तुम भी क्या याद रखोगी, बेबी प्लीज़ शो मी योर वेजाइना..।
मेघा- तुम वादा करो कि ‘वो’ सब नहीं करोगे।
मैं- ओके पक्का वादा..!
मेघा- ठीक है मेरी जान.. ये लो।
यह बोलते ही मुझे उसकी चूत के दर्शन करा दिए।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
वाह… क्या चूत थी.. नरम-नरम, गुलाबी-गुलाबी, हल्की सी उभरी हुई और बिल्कुल साफ़, एक भी बाल नहीं, ऐसा लग रहा था जैसे वो नियमित रूप से चूत की झांटे साफ़ करती है।
फिर मैंने सबसे पहले उसकी चूत पर प्यारी सी पप्पी दी। उसने ऐसी सिहरन दी, मानो उसके जिस्म को करेंट लग गया हो।
मैंने उससे पूछा- मज़ा आया?
उसने बस ‘ऊउंह’ किया और कुछ बोला नहीं।
मैंने फिर बोला- अब देखो कि कितना मज़ा आएगा।
ये बोलते ही मैंने उसकी चूत को ऐसे चूसना शुरू कर दिया जैसे कि वो शहद का भंडार हो। मेरा ऐसा करते ही उसने मेरा सिर अपने दोनों टाँगों के बीच दबा लिया लेकिन मैंने उसकी चूत को चूसना बंद नहीं किया।
दोस्तो, क्या नरम मुलायम चूत थी और उसके पानी ने मुझे दीवाना सा कर दिया और मैंने अपनी पूरी ताक़त लगा कर चूसने लगा।
वो तो मानो पागल ही हो गई और उसकी साँसों की गति दुगनी हो गई। साथ-साथ उसने सिसकारना भी शुरू कर दिया- ओह सुशान्त.. ओह सुशान्त..
उसके ऐसा करने से मैं और भी उत्तेजित हो गया और मैंने पागलों की तरह उसकी चूत का पानी पीना शुरू कर दिया।
मैं कभी उसकी चूत को चूसता, तो कभी उसकी पूरी चूत में अपनी जीभ घुमाता और कभी-कभी उसकी चूत को हल्का सा काट भी देता था, जिससे वो सिहर जाती थी।
बीच में मैंने सोचा की ऊँगली से चूत की चुदाई शुरू कर दूँ लेकिन मैंने देखा कि इसकी सील नहीं टूटी है, तो मैंने सोचा क्यों उंगली को तक़लीफ़ देनी.. ये काम तो मेरा लण्ड करेगा।
फिर मैंने अपना काम जारी रखा और उसको जीभ से चोदने लगा, अचानक मैंने महसूस किया कि उसके जिस्म में एक अकड़न आने लगी है।
मैं समझ गया कि ये झड़ने वाली है और मैंने अपने जीभ की गति बढ़ा दी।
कुछेक मिनट के बाद वो झड़ गई और उसका सारा जिस्म ढीला पढ़ गया और मैं उसकी चूत से निकला सारा रस पी गया।
इसके बाद मैं मेघा के बगल में आकर लेट गया।
वो बोली- मज़ा आ गया, ऐसा मजा उसको आज तक कभी नहीं आया। मैं कभी हाथ से भी नहीं करती थी और ये मेरा पहली बार था।
मैंने कहा- अभी तो शुरुआत है.. आगे तो देखो… कितना मजा आने वाला है।
अब मुझे उसकी आँखों में वासनामय उत्तेजना दिखने लगी थी।…………………

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*