पड़ोसन भाभी के चूतड़ों पर चुम्बन

Submit Your Story to Us!

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार।
मैंने अन्तर्वासना की सभी कहानियाँ पढ़ी हैं और मैं इसका नियमित पाठक हूँ।
आज मैं आपको एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ। मुझे आशा है कि आपको पसंद आएगी।
मेरा नाम रोहित है, हरियाणा का रहने वाला हूँ, उम्र 27 साल है।
मेरे साथ वाले घर में एक भाभी रहती है.. जिसका नाम मीनू है और वो बहुत खूबसूरत है, उसका फिगर बहुत ही सेक्सी है, तब उसका फिगर 32-26-36 था।

जब मैंने उसे पहली बार देखा था, तभी से मैं मन ही मन में उसे चाहने लगा था और यह सोचता था कि एक बार वो मुझे चोदने के लिए मिल जाए।
मुझे नहीं पता था कि जो मैं सोचता हूँ वो भी मन में मेरे बारे में यही सोचती है। मैंने उसे पटाने के लिए उस पर लाइन मारना शुरू कर दिया और उसने भी कभी मना नहीं किया क्योंकि वो भी मन में मुझे पसन्द करती थी।
धीरे-धीरे वो मेरे पास आने लगी।
एक दिन घर पर कोई नहीं था तो मैंने उसे बुलाया और कॉफ़ी पीने आने के लिए बोला, वो आ गई और हम साथ बैठ कर कॉफ़ी पीने लगे।
कॉफ़ी पीते-पीते मैंने उसे कई बार हाथ लगाया, तो उसने मना नहीं किया, फिर मैंने उसे उसके हाथ पर चुम्बन किया तो उसने कहा- ये क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- चुम्बन कर रहा हूँ और तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो।
उसने कहा- आप भी मुझे अच्छे लगते हो और मैं जानती हूँ कि तुम मेरे साथ क्या करना चाहते हो।
मैंने कहा- जब जानती हो तो कभी कहा क्यों नहीं?
उसने कहा- मैं पहल कैसे करती?
उसकी यह बात सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा और मेरा लंड खड़ा हो गया।
उसने शायद खड़ा लौड़ा देख लिया था क्योंकि मैं घर पर नाईट सूट पहने हुए था।
मैंने देर न करते हुए उसके होंठों को चूम लिया और वो भी मेरा साथ देने लगी।
फिर मैं उसे ऊपर कमरे में ले गया और गले लगाया हम दोनों ने एक-दूसरे को चूमना शुरू कर दिया।
फिर मैंने उसकी चूचियों को दबाना शुरू किया, वो भी गरम होने लगी और मेरा साथ देने लगी।
मैंने उसकी कमीज़ उतारी और ब्रा भी उतार दी और उसकी 32 इंच की चूचियाँ चूसना शुरू कर दीं।
उसने अपना हाथ मेरे लण्ड पर रखा और दबाने लगी, फिर मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया तो सलवार नीचे पैरों में गिर गई..
उसने पैन्टी नहीं पहनी थी।
मैंने उसकी चूत पर हाथ फेरा.. क्या साफ़ चिकनी चूत थी उसकी.. और कसी हुई भी लग रही थी।
मैंने उसको ऊपर से नीचे तक चुम्बन किया और हम दोनों बिस्तर पर लेट गए और चुम्बन करने लगे।
मैंने उसको उल्टा लिटाया और उसके कसे हुए चूतड़ों पर चुम्बन करने लगा।
उसके कसे हुए और बड़े चूतड़ों को देख कर मेरा लंड और ज्यादा कड़क हो गया था।
मैंने अपना अंडरवियर उतार दिया तो वो मेरा लण्ड देखने लगी।
उसने कहा- यह तो काफी मोटा और बड़ा है.. मुझसे रहा नहीं जा रहा, कहीं कोई आ न जाए.. इसलिए जल्दी से डाल दो।
मैंने कहा- थोड़ा और चुम्बन तो करने दो और तुम भी करो।
इस तरह हम 69 की अवस्था में आ गए और मैं उसकी चूत पर चुम्बन करने लगा और वो मेरे लंड पर चुम्मी करने लगी।
उसने मेरे लौड़े को मुँह में लेने से मना कर दिया क्योंकि उसने कहा- मुझे अच्छा नहीं लगता मैं सिर्फ चुम्बन करूँगी।
मैंने कहा- ठीक है।
मैंने सोचा एक बार अच्छी तरह पट जाए फिर धीरे-धीरे चुसवा भी दूँगा।
घर पर कभी कोई आ भी सकता था इसलिए ज्यादा देर लगाना उचित नहीं था।
मैंने उसकी चूत 5-6 मिनट अच्छी तरह चाटी और वो इतनी ही देर में खूब गर्म हो गई।
फिर मैंने उसकी टाँगें उठाईं और अपना 7″ का लंड जो 2.5″ मोटा भी है उसकी चूत में डाल दिया।
उसने एक बार ‘आह’ किया और ‘आई..उई’ करने लगी।
वो भी पूरी तरह से मेरा साथ दे रही थी और मुझे भी भरपूर मज़ा आ रहा था।
मैंने उसे 20-22 मिनट जम कर चोदा होंठों पर चुम्बन किया.. चूचे दबाए.. खूब मज़ा लिया।
इतने में उसने दो बार पानी छोड़ दिया था और अब मैं भी झड़ने वाला था।
उसने पानी अन्दर छोड़ने के लिए मना किया.. पर मुझे मज़ा आ रहा था सो मैंने उसे अन्दर माल लेने के लिए मना लिया और गरम-गरम माल उसकी चूत में छोड़ दिया।
वो भी पूरी तरह से तृप्त हो गई थी और मैं भी।
फिर उसने अगली बार जल्दी मिलने का वादा किया और कपड़े पहन कर चली गई।
उसने कहा- मैं अपने घर जाकर सफ़ाई कर लूँगी। कहीं कोई आ न जाए !
मेरा आज भी उसके साथ सम्बन्ध है, अब तक उसे कई बार चोद चुका हूँ।
अगली मुलाकात के बारे में फिर बताऊँगा।
आपको कहानी कैसी लगी बताना।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*