प्यारी मीनी – Hindi Sex Kahani

Submit Your Story to Us!

bhauja, hindi sex story, antavasna, kamukta, kamasutra gandi kahani

मेरा नाम मीनी है। मेरी उमर 19 साल कि है और मैं बहुत हि खूबसुरत हून। मेरी दो सहेलियन है जिसका नाम निशा और उशा है। वो दोनो मेरे साथ हि कोलेज में पधति थि। हुम तीनो हि बहुत हि सेक्सी थे। कोलेज में हि हमरा धेर सारे लदको से समबनध था। हुम तीनो हि उनसे खूब चुदवते थे। उशा चुदवने में सबसे जयदा तेज थि। उशा हमेहसा हि खूब लमबे और मोते लुनद कि तलश में रहति थि। निशा को कयि लदको से एक साथ चुदवने में जयदा मज़ा आता था लेकिन उसे जयदा लमबा और मोता लुनद पसनद नहिन था। जहन तक मेरा सवल है तो मुझे एक साथ चुत और गानद दोनो में लुनद लेना पसनद था।

पधयि खतम होने के बाद निशा और मैं 2 साल के लिये दूसरे शहर में पधने चले गये। हमरे जने के 6 महिने के बाद हि उशा कि शादि उसि शहर में जय के साथ हो गयि थि। जय बहुत हि अमीर आदमि था और अययश भि। उशा ने हुम दोनो को भि शदि में बुलया लेकिन हुम उसकि शदि में नहिन आ सके। उशा ने अपनि शदि कि दूसरि सलगिरह पर हुम दोनो को बुलया। मैं निशा के साथ उशा के पास आ गयि। उशा ने हुम दोनो को देखा तो बहुत खुश हो गयि। हुम सब ने आपस में खूब बतेन कि।

उशा ने मुझे बतया कि वो शदि के बाद से और जयदा सेक्सी हो गयि थि और वो कयि आदमियोन से चुदवा चुकि थि। उसकि एक दलल से जान पहचन हो गयि थि जो कि अमीर औरतोन को आदमि सुप्पली करता था। मैं जनति थि कि ये मुमबै के लिये आम बात है। उशा ने हुम दोनो को लगभग 150 आदमियोन के फोतो दिखये और बोलि, मैं इन सब से चुदवा चुकि हून। वो सभि आदमि फोतो में एक दम ननगे थे। उन सब आदमियोन का लुनद एक से बधकर एक था। किसि का लुनद 8″ से कम लमबा नहिन था। मैने उशा से कहा, इन सब का लुनद तो बहुत हि लमबा और मोता है। वो बोलि, तु तो जनति हि है कि मुझे तो खूब मोता और लमबा लुनद हि पसनद आता है और उसि से चुदवने में मुझे मज़ा भि आता है। आज मैने एक परती रखि है। आज हुम सब सारि रात चुदयि का पूरा मज़ा उथयेनगे।

उशा ने 6 मरदो के फोतो हमरे समने रखते हुये कहा, मैं आज इन सब को बुलया है। मैने पुच्चहा, अगर जय आ गया तो। वो बोलि, वो तो महिने 25 दिन बहर हि रहता है। इसि लिये तो मैने दूसरे आदमियोन से चुदवना शुरु किया है। मैने कहा, जय तुझे कुछ कहता नहिन। वो बोलि, वो भि तो आयश है और तमम लदकियोन को चोदता रहता है। मैं उसके समने भि कयि बार चुदवा चुकि हून। मैने कहा, तो फिर तुने आज 6 मरदो को कयोन बुलया है। उशा बोलि, कया तुम सब को चुदवना नहिन है। मैने कहा, चुदवना तो है लेकिन 6 मरद एक साथ। वो बोलि, तो कया हुअ, तभि तो चुदयि का असलि मज़ा आयेगा। मैने कहा, इन सभि का लुनद 11″ से कम नहिन है। वो बोलि, इसि लिये में केवल इनहेन हि बुलया है। मैं तो आज रात इन सब से कम से कम 1 बार जरूर चुदवौनगि।

निशा बोलि, उशा, तु तो जनति है कि मुझे कयि मरदो से एक साथ चुदवना पसनद है लेकिन मैं जयदा लमबा और मोता लुनद पसनद नहिन करति। उशा बोलि, छोद यार, तुने लमबे और मोते लुनद का मज़ा कभि लिया हि नहिन फिर तु कया जने कि खूब लमबे और मोते लुनद से चुदवने का मज़ा कया होता है। आज तो मैं तुझे इन सब जरूर चुदवौनगि। निशा बोलि, तब मेरी हलत एक दम खरब हो जयगि कयोन कि इसमेन से किसि का लुनद 11″ से कम लमबा नहिन है। मैं तो सुबह तक बिसतेर पर से हिलने दुलने के कबिल हि नहिन रहुनगि। उशा बोलि, कयोन तुझे कल सुबह कहिन जना है कया। निशा बोलि, नहिन यार, कहिन नहिन जना है। हुम दोनो तो तेरे पास कम से कम 10 दिनो तक रेहेनगि। उशा बोलि, फिर सारा दिन तु बिसतेर पर हि आरम करना।

उसके बाद उशा ने मुझसे कहा, तेरा कया खयल है, मीनी। मैने कहा, तु तो जनति हि है मुझे एक साथ दो लुनद अनदर लेना पसनद है। मुझे तो कोयि दिक्कत नहिन है। मैं पहले भि 11″ लमबा लुनद अनदर ले चुकि हून। मैं तो इन सब से कम से कम 2 बार जरूर चुदवौनगि। उशा बोलि, फिर थीक है। आज रात हुम सब को चुदवने में खूब मज़ा आयेगा।

सारा दिन हुम गप शप करते रहे। रात के 8 बजे एक सुमो आ कर खदि हुयि। उसमेन से 6 हत्तहे कत्तहे जवन मरद बहर आये। मैं उनहेन देखकर खुश हो गयि। निशा उनहेन देख कर थोदा उदस हो गयि। उशा ने निशा से पुछा, तु कयोन उदस है। वो बोलि, इन सब के लुनद के बारे में सोच कर मैं परेशन हून। उशा बोलि, फिर तो आज सबसे पहले मैं तेरि हि चुदयि करौनगि। निशा बोलि, नहिन, मैं सब से बाद में चुदवौनगि। उशा ने कहा, तु लख कोशिश कर ले लेकिन आज मैं सबसे पहले तुझे हि इन सब के हवले करुनगि। ये सब तेरि चुदयि कर कर के तेरि चुत को एक दम चौदा कर देनगे। निशा बोलि, इसका मतलब आज तु मेरा कतल करवने पर तुलि है। उशा बोलि, कुछ असिअ हि समझ ले। निशा बोलि, ये सब मेरी चुत कि हलत खरब कर देनगे और साथ में मेरा भि। उशा बोलि, मुझसे शरत लगा ले। कल सुबह के पहले अगर तुने खुद हि इन अनिल से दोबरा नहिन चुदवया तो मैं अपना नाम बदल दूनगि। निशा बोलि, ये अनिल कौन है। उशा बोलि, अनिल सबसे जयदा देर तक चोदता है और बहुत तकतवर भि। मैं सबसे पहले उसि से तेरि चुदयि करौनगि। निशा चुप हो गयि।

वो सभि अनदर आ गये। उशा ने कहा, तुम सब कुछ पियोगे। उसमेन से एक बोला, आज रात बहुत मेहनत करनि है। हो सके तो कुछ दरिनक पिला दो। उशा ने उन सब को 1 बोत्तले शरब ला कर दे दि। वो सब शरब पिने लगे। उशा ने निशा कि तरफ़ इशरा करते हुये अनिल से कहा, ये मेरी सहेलि निशा है। आज तक इसने 7″ से जयदा लमबे लुनद से नहिन चुदवया है। तुम सबसे पहले इसकि चुदयि करो। मैं नहिन चहति कि इसे बार बार तकलीफ़ उथनि पदे। तुम इसकि चुत में एक दम बेरहमि से अपना लुनद घुसा देना। अनिल बोला, मदम, फिर तो ये बहुत चिल्लयेगि। उशा ने कहा, तो कया हुअ। एक बार हि तो चिल्लयेगि। उसके बाद इसे इन सब से चुदवने में मज़ा आयेगा। वो बोला, थीक है मदम, मैं एक दम रेअदी हून, आप कहेन तो मैं शुरु कर दून। उशा बोलि, हान, शुरु कर दो।

निशा ने उशा से कहा, तु मुझे मरवयेगि कया। उशा बोलि, नहिन यार, मैं एक बार में हि तेरा कम तमम कर देना चहति हून जिस से हुम सब एक साथ मज़ा ले सकेन। इसि लिये तो मैं सब से पहले अनिल से हि तेरि चुदयि करने को कह रहि हून। तब तक अनिल निशा के पास आ गया। उसका लुनद एक दम तिघत हो चुका था। उसका लुनद लगभग 11″ लमबा और 3″ मोता था और वो बहुत तकतवर भि लग रहा था। उसने निशा के सारे कपदे उतर दिये और उसे बेद के किनरे लिता दिया। उसके बाद वो निशा के पैरो के बीच में ज़मिन पर खदा हो गया। उसने निशा कि चुत के मुह को फैला कर अपना लुनद बीच में रख दिया।

उशा ने बकि के आदमियोन को इशरा कर दिया तो वो सभि निशा के पास आ गये। उन सब ने निशा के हाथ जोर से पैर पकद लिये। एक ने अपना लुनद निशा के मुह में दे दिया। निशा उसका लुनद चूसने लगि। तभि अनिल ने एक धक्का मरा। निशा ने उस आदमि का लुनद अपने मुह से बार निकल दिया और जोर जोर से चिल्लने लगि। उस आदमि ने दूसरा धक्का लगया तो निशा बुरि तरह से चीखने लगि। उशा बोलि, तु इतना चीख कयोन रहि है। 7″ लमबा लुनद तो तु पहले हि अनदर ले चुकि है। इसका लुनद तो अभि तेरि चुत में केवल 5″ हि घुसा है। निशा बोलि, इसका मोता भि तो बहुत है। अनिल जैसे हि रुका तो उशा ने उसे जोर से दनता, कयोन बे, रुक कयोन गया। घुसा अपना पूरा लुनद इसकि चुत में। अनिल बोला, गलति हो गयि मदम। अब मैं नहिन रुकुनगा।

अनिल ने पूरे तकत के साथ बहुत हि जोरदर दो धक्के लगये। इन दो धक्कोन के साथ हि उसका लुनद निशा कि चुत में 8″ तक अनदर घुस गया। निशा कि चुत से खून निकलने लगा और वो बहुत हि बुरि तरह से चिल्लने और तदपने लगि। निशा का सारा बदन पसिने से लथपथ हो चुका था। अनिल ने एक गहरि सनस लेते हुये 2 बहुत हि जोरदर धक्के और लगा दिये। इन दो धक्कोन के साथ हि उसका लुनद निशा कि चुत में 10″ तक अनदर घुस गया। निशा कि चुत बुरि तरह से फैल चुकि थि। उसकि चुत ने अनिल के लुनद को बुरि तरह से जकद रखा था। तभि अनिल ने पूरे तकत के साथ बहुत हि जोर का धक्का मरा। इस धक्के के साथ हि उसका पूरा का पूरा लुनद निशा कि चुत में समा गया। उसके बाद अनिल ने निशा कि चुदयि शुरु कर दि।

उशा ने निशा से कहा, आखिर तुने इसका 11″ लमबा लुनद अनदर ले हि लिया। अब तो तुझे खूब मज़ा आ रहा होगा। वो बोलि, मैं दरद के मारे मरि जा रहि हून और तुझे मज़क सूझ रहा है। उशा बोलि, मेरी जान, बस 10 मिन में हि तु एक दम पक्कि चुदक्कद बन जयेगि और तुझे वो मज़ा आयेगा कि तु भि मेरी तरह कभि छोता और पतला लुनद पसनद हि नहिन करेगि। वो बोलि, ये तो है। लमबा और मोता लुनद अनदर लेने के बाद छोता लुनद भला किसे पसनद आयेगा। अनिल निशा को चोदता रहा और निशा चिल्लति रहि। 10 मिन कि चुदयि के बाद जब निशा शनत हो गयि तो उशा ने अनलि से कहा, अब तु रहने दे। निशा बोलि, अब मुझे मज़ा आ रहा है तो तु इसे मना कयोन कर रहि है। उशा बोलि, अब तुझे रमेश चोदेगा फिर उसके बाद रज। जब तक मैं नहिन कहुनगि तब तक कोयि भि अपने लुनद का जुइसे तेरि चुत में नहिन निकलेगा। निशा बोलि, तु असिअ कयोन कर रहि है। उशा बोलि, बस, तु केवल देखति जा।

अनिल हत गया तो रमेश निशा को चोदने लगा। 15 मिन कि चुदयै के बाद रज ने निशा को चोदना शुरु किया। उसने भि लगभग 15 मिन तक निशा कि चुदयि कि। उसके बाद कमल, केशरि और शिव ने निशा को लगभग 15-15 मिन तक चोदा। निशा को अब मज़ा आने लगा था और उसे अब जरा सा भि दरद नहिन हो रहा था। उशा ने सभि को मना कर रखा था इस लिये किसि ने अपने लुनद का जुइसे उसकि चुत में नहिन निकला।

उशा ने अनिल और रमेश से मुझे चोदने को कहा। उन दोनो का लुनद एक हि सिज़े का था। मैं अनिल के उपर आ गयि और उसका लुनद अपनि चुत में दल लिया। रमेश मेरे पिछे आ गया और उसने अपना लुनद मेरी गानद में दल दिया। उसके बद वो दोनो मुझे चोदने लगे। रज उशा को चोदने लगा। उशा भि खूब मज़े ले ले कर चुदवा रहि थि। मुझे भि खूब मज़ा आ रहा था। बहुत दिनो के बाद मुझे बहुत अच्चहे लुनद से एक साथ चुदवने का मौका मिला था। मैने जोर जोर से सिसकरियन भरते हुये उन दोनो के जोश को बधा रहि थि। वो दोनो भि बहुत तकतवर थे और बहुत हि जोर जोर के धक्के लगा रहे थे।

उधर निशा पूरि मसति के साथ कमल, केशरि से चुदवा चुकि थि। अब उसे शिव चोद रहा था। उसे चुदवते हुये लगभग 1 घनते हो चुके थे। वो अब तक कयि बार झद भि चुकि थि। अनिल और रमेश भि मुझे लगभग 30 मिन तक चोद चुके थे। उन दोनो के हत जने के बाद कमल और केशरि मुझे चोदने लगे। वो दोनो मेरी चुत और गानद कि बुरि तरह से धुनयि कर रहे थे। मैं भि एक दम मसति के साथ चुदवा रहि थि। उशा ने सभि को मना कर रखा था कि किसि के लुनद से जुइसे नहिन निकलना चहिये। वो सभि जब झदने वले होते तो हत जते थे। जब थोदि देर में उनका जोश कुछ थनधा पद जता तो वो फिर से शुरु हो जते थे। वो सभि बारि बारि से हुम तीनो कि चुदयि कर रहे थे।

3 घनते तक हुम सब कि चुदयि चलति रहि। उशा ने उन सब से कहा, अब तुम सब रुक जओ। वो सब हमरि चुत से अपना लुनद बहर निकल कर खदे हो गये तो उशा ने कहा, अनिल, अब तुमहेन मेरी गानद मरनि है। अनिल बोला, मदम, आप ने आज तक कभि गानद नहिन मरवयि है। वो बोलि, तो कया हुअ। आज मेरे साथ मेरी सहेलियन भि है इस लिये आज मैं गानद भि मरवौनगि। तुम मेरी गानद मरना शुरु कर दो। मुझ पर जरा सा भि रहम मत करना और पूरा का पूरा लुनद मेरी गानद में घुसेद कर हि दम लेना। वो बोला, थीक है मदम।

उसके बाद उशा ने रमेश से कहा, रमेह, तुम निशा कि गानद मरो और अपना पूरा लुनद उसकि गानद में हि घुसा कर हि रुकना। नहिन तो समझ लो कि मैं तुमहरे साथ कया सलूक करुनगि। वो बोला, मदम, मैं कोयि गलति नहिन करुनगा। निशा बोलि, तु मुझे कयोन मरने पर तुलि हुयि है। उशा बोलि, मैने इसि लिये 6 आदमियोन को बुलया था। अब तु रमेश का लुनद अपनि गानद के नदर लेगि और मीनी रज से गानद मरवयेगि। उसके बाद हुम सब को 2-2 आदमि एक साथ चोदेनगे।

अनिल ने उशा कि गानद में अपना लुनद घुसना शुरु कर दिया। उशा बहुत जोर जोर से चिल्ला रहि थि। रमेश भि अपने लुनद का सुपदा निशा कि गानद के छेद पर रख चुका था। निशा ने उशा से कहा, खुद तो दरद के मारे मरि जा रहि है और मुझे भि फसा दिया। तभि रमेश का भुत हो जोर का धक्का लगा। निशा जोर जोर से चीखने लगि। मैं खदि हो कर तमशा देख रहि थि। अनिल और रमेश पूरे तकत के साथ जोर जोर के धक्के लगा रहे थे। सारा रूम चीखोन से गूनज रहा था। तभि रज ने मुझसे कहा, मदम मैं भि शुरु कर दून। मैने कहा, मैं तो आदि हून। जरा इन दोनो कि गानद में पूरा लुनद तो घुस जने दो उसके बाद तुम मेरी गानद मरना।

5 मिन में हि उशा और निशा कि गानद में उन दोनो का पूरा का पूरा लुनद समा चुका था। वो दोनो अब उनकि गानद मर रहे थे। मैने रज से कहा, चलो अब तुम भि शुरु हो जओ। रज ने मेरी गानद मरनि शुरु कर दि। उशा और निशा अभि भि बहुत जोर जोर से चीख रहि थि। रज बहुत हि जोर जोर के धक्के लगता हुअ मेरी गानद मर रहा था। मुझे खूब मज़ा आ रहा था। 10 मिन के बाद उशा और निशा शनत हो गयि। अब उन दोनो कि गानद में अनिल और रमेश का लुनद सता सत अनदर बहर होने लगा था। उन दोनो ने 10 मिन तक और गानद मरवयि। उसके बाद उशा बोलि, अनिल और रमेश अब तुम दोनो रुक जओ। उन दोनो ने अपना लुनद उनकि गानद से बहर निकला और हत गये।

उशा बोलि, रमेश तुम लेत जओ। मैं तुमहरे उपर आ कर तुमहरा लुनद अपनि चुत में दल लेति हून और कमल पिछे से मेरी गानद मरेगा। उसके बाद उशा ने अनिल से कहा, तुम भि लेत जओ। निशा तुमहरे उपर आ कर तुमहरा लुनद अपनि चुत में दल लेगि और केशरि उसके पिछे आ कर उसकि गानद मरेगा। उसके बाद उशा ने शिव से कहा, मीनी रज का लुनद अपनि चुत में दल लेगि और तुम पिछे से उसकि गानद मरना। इस बार तुम सब हमरि चुत और गानद को अपने लुनद के जुइसे से भर देना। वो सब बोले, थीक है मदम।

उशा ने जैसा कहा था थीक उसि तरह से हुम सब कि चुदयि शुरु हो गयि। लगभग 1 घनते तक हुमरि खूब जम कर चुदयि हुयि। निशा ने पूरि मसति के साथ 2-2 लुनद का एक साथ मज़ा लिया। उशा ने भि पहलि बार गानद मरवने का पूरा मज़ा उथया। उशा ने निशा से पुछा, कयोन बबी, मज़ा आया। निशा मुसकुरते हुये बोलि, कसम से बहुत मज़ा आया। मैं जयदा लमबे और मोते लुनद से बहुत दरति थि लेकिन आज मेरा सारा दर खतम हो गया। आ तो मैं हेमशा केवल खूब लमबे और मोते लुनद से हि चुदवौनगि। तुम इन सभि से कह दो कि बिना रुके हि खूब जम कर मेरी चुदयि करेन और मेरी चुत और गानद को अपने लुनद के जुइसे से एक दम भर देन। उशा बोलि, ऐसा हि होगा, रनि जि। उशा ने उन सब से कहा, तुमने सुना कि ये कया कह रै है। अब तुम सब शुरु हो जओ और मेरी सहेलि को एक दम मसत कर दो। ये जब तक मना ना करे तुम सब इसे खूब जम कर चोदना।

उन सभि ने सुबह होने तक निशा को तरह तरह के सतयले में खूब जम कर चोदा और उसकि गानद मरि। सुबह को निशा ने उन सभि को खुद हि मना कर दिया। वो एक दम मसत हो चुकि थि और थक कर चूर भि। उसके बाद उशा ने उन सब से कहा, तुम सब 1-2 घनते आरम कर लो। उसके बाद मीनी को भि इसि तरह से चोदना। मैने उशा से कहा, कया तु ऐसे हि रहेगि। उशा बोलि, मेरा कया, मैं तो हमेशा हि चुदवति रहति हून। तुम दोनो मेरी सहेलि हो और मेहमन भि। पहले तुम दोनो का अच्चहि तरह से सवगत होना चहिये।

उन सब ने 2 गहनते तक आरम किया और फिर उसके बाद वो सब मुझ पर तूत पदे। उनहोने 5 घनते तक लगतार खूब जम कर मेरी चुदयि कि और मेरी गानद भि मरि। मैं भि निशा कि तरह से एक दम मसत हो गयि। मुझे बहुत दिनो के बाद चुदयि का मज़ा मिला और वो भि जी भर के।

दोपहर के 3 बजे वो सब जने लगे तो उशा ने अनिल, अमेश और रज से कहा, तुम तीनो रात के 8 बजे आ जना। उसके बाद वो सब चले गये। निशा ने उशा से कहा, अब जब मुझे चुदयि का असलि मज़ा मिल गया है तो तुने आज केवल तीन को हि कयोन बुलया है। उशा बोलि, मेरी रनि, देखति जओ। उशा ने अपने दलल को फोने किया और उस से कहा कि रात के 8 बजे 6 आदमियोन को और भेज देना लेकिन एक बात का धयन रखना कि उन सभि का लुनद 11″ से कम नहिन होना चहिये और साथ में खूब मोता भि होना चहिये। दलल ने कहा कि भेज दूनगा।

रात के 8 बजे सुमो से 9 लोग आ गये। उन सभि का लुनद एक से बध कर एक था। उसमेन से एक का नाम जयनत था। उसका लुनद देखते हि निशा बहुत खुश हो गयि। उशा ने निशा से पोछा, कया बात है, तु जयनत को देख कर बहुत खुश हो रहि है। निशा बोलि, मुझे इसका लुनद बहुत हि शनदर लग रहा है। मैने तो आज सबसे पहले इसि से चुदवौनगि। उशा ने कहा, तु तो जयदा लमबे और मोते लुनद से बहुत दरति थि। आज तुझे कया हो गया। निशा बोलि, तुने खूब लमबे और मोते लुनद से मेरी चुदयि करा कर मेरी चुत और गानद में आग लगा दि है। अब तो मुझे इस आग को बुझना हि है। उशा बोलि, शबश बबी, आखिर तु जान हि गयि कि असलि मज़ा कया होता है।

जयनत का लुनद लगभग 12″ लमबा था और उन सभि के लुनद से बहुत मोता भि। जयनत ने निशा कि चुदयै शुरु कर दि निशा जोर जोर से चीखने लगि। लेकिन आज वो जयदा नहिन चीखि और थोदि हि देर में शनत हो गयि। उसे जयनत से चुदवने में खूब मज़ा आया। जयनत से चुदवने में मैं भि बहुत चीखि और चिल्लयि लेकिन बाद में मुझे भि खूब मज़ा आया। उशा का भि वहि हाल हुअ। वो भि बहुत चीखि और चिल्लयि लेकिन बाद में उसे भि खूब मज़ा आया। सुबह तक उन सभि ने हमरि खूब जम कर चुदयि कि और गानद भि मरि। हुम सब पूरि तरह से मसत हो चुके थे। उसके बाद वो सब चले गये।

मैं निशा के साथ उशा के पास 10 दिनो तक रहि। हुम सब ने खूब जम कर चुदयि का मज़ा लिया। एक दिन तो उशा ने एक साथ 15 आदमियोन को बुला लिया था। उन सभि ने तो हमरा चोद चोद कर बुरा हाल कर दिया। वो सभि रात के 8 बजे आये थे उनहोने दूसरे दिन दोपहर तक हमरि खूब जम कर चुदयि कि और गानद भि मरि। उन सभि ने उस दिन हुम तीनो को चोद चोद कर और हमरि गानद मर मर कर ऐसा बुरा हाल कर दिया था कि उनके जाने के बाद हुम तीनो शम तक बिसतेर पर से उथने के कबिल हि नहिन रह गये थे। मेरी चुत और गानद का मुह पहले से भि जयदा चुअदा हो चुका था। निशा का तो पूछो मत, उसकि चुत और गानद भि एक चौदे सिज़े कि हो चुकि थि। उसे हि सबसे जयदा मज़ा आया। उसके बाद मैं निशा के साथ वपस चलि आयि। वपस आते समय उशा ने कहा, जब कभि भि इच्चहा हो आ जना। मैने कहा, मैं जरूर आउनगि। निशा बोलि, कया तु मुझे अपने साथ नहिन ले आयेगि। मैने निशा से मज़क किया, तुझे तो जयदा लमबा और मोता लुनद पसनद हि नहिन है। फिर तु आकर कया करेगि। निशा ने मेरे गाल कत लिये और बोलि, मेरी चुत और गानद में तो अभि भि आग लगि हुयि है। मैने कहा, चल मैं तेरे लिये फ़िरे बिगरदे बुला दूनगि। मेरी बात सुनकर वो जोर जोर से हसने लगि। ————— bhauja.com

1 Comment

  1. Hi My Dear All,
    Sweet ‘n’ Sexy Bhabhi’s, Aunty’s And Sexy Teen’s,

    If You Want Sexual Pleasure Or Temporary Bed Partner, Then Don’t Be Shy And Don’t Wait ‘n’ Just Put A Mail To Me For Unbelievable Sexual Pleasure With Full Privacy And 100% Safely As You Like.
    I Am Available 24 X 7.
    My mail Id : [email protected],

    Try Only Once And Then Remember Every Time For This Treat… Forever.

    Please Mail Me Only Bhubaneswar, Khordha & Katak Female Person, Because Am From Bhubaneswar.

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*