दिल्ली की आंटी की चुदाई (Delhi Ki Aunty Ki Chudai)

bhabhi ki saheli ki chut chudai
Submit Your Story to Us!

Hi how r u friends ? आज मे आपको जो सतोरी सुनने जा रहा हु वो एक सतोरी रेअदेर और मेरि कहनि हे। पहेले मे आपको मेरा परिचय देदु मे देलहि से हु मेरि हेघत 5।9” इनच।है।

मेरि सतोरी पधकर एक दिन एक एमैल आया जिसमे लिखा था मुजे आपकि कहनि बहुत अच्चहि लगि। मे आपसे सोनतेसत करना चहति हु। और उसने मुने अपना सोनतेसत नुमबेर दिया।मेने उस सोनतेसत नुमबेर पे सोनतेसत किया तो कुछ इस तरह से बत हुयि।

सपरश : हेल्लो

रीदर : हि आप कौन बोल रहे हे।

सपरश : मे सपरश बोल रहा हु कया आपने मुजे एमैल किया

रीदर : ओह येस आप सपरश बोल रहे हे मुजे आपकि सतोरी बहुत अच्चहि लगि।मे आपसे मिलना चहति हु।मे 38 सल कि हु।और मेरा नम वनिता हे।

सपरश : अच्चहा तो मुजे आपका अदरेस्स और तिमे देदो।

बदमे उसने मुजे अपना अदरेस्स दिया वो भि देलहि से हि थि।और मुजे दते और तिमे दिया।

मे उसके बतयि हुयि दते,तिमे और अदरेस्स पर पहुच गया।मेने दोर बेल्ल बजयि तो दरवजा खुला और समने 38 सल कि खुबसुरत आनती खदि थि।उसे मलुम था कि मे आने वला था एस लिये उसने नयि सदि पहनि थि।और मकेउप भि किया था उसके बदन से खुशबु आ रहि थि शयद उसने पेरफ़ुमे लगया था।उसके बूबस बहुत बदे थे।लेकिन तने हुये थे।उसके होथ बहुत गुलबि थे।थोदि देर तो मे उसे देखता हि रह गया।

उसने मुजे अनदर आने को कहा मे उसके घर के अनदर चला गया।अनदर कोइ नहि था।वनिता ने मुजे पनि दिया मेने गलस्स लेते वकत उसकि उनगलि को छु लिया।वो मुसकुरै फ़िर मेरे पस सोफ़े पर बेथ गयि।मेरा लुनद तो पहेले से हि तिघत हो गया था। वनिता ने मुजे कहा मे तो समज रहि थि आप बदि उमर के होगे लेकिन आप तो बहुत हनदसोमे हे।मेने पुछा घर मे कौन कौन रहेता हे।वनिता ने कहा मे और मेरे हुसबुनद वो बहर गये हुये हे।तुम तब तक मेरे सथ जो चहे कर सकते हो। अब मे आपको वो एक दिन मेने उसके सथ कितनि बर और कैसे चुदै कि वो सुनता हु।
Delhi Ki Aunty Ki Chudai on Bhauja
मे उसके थोदा करिब गया और उसके हथो को पकद लिया वो चुप चप थि फिर धिरे धिरे मेने उसके हथो को मसलना शुरु किया।फिरे धिरे धिरे उपर बध रहा था उसके पेत पर हथ फिरने लगा और बलौसे के उपर से उसके बूबस पे हथ फ़िरया फिर उसे दबने लगा उसकि सनसे जोर से चल रहि थि और आनखे बनद थि।मेने उसके बलौसे के बोत्तोन खोलना शुरु किया और बलौसे निकल दिया अब मे उसकि बरा के उपर से बूबस मसल रहा था।फिर उसकि सदि निकल दि और उसका पेतिसोत उपर उथके उसकि जनघ पे हथ फ़िरया।फ़िर उसकि पनती के उपर से उसकि योनि पर हथ फ़िरने लगा अब उसके मुह से आवज़ आने लहि अह्हह्हह उहहह्हह अब मेने उसका पेतिसोत निकल दिया अब वो सिरफ़ पनती और बरा मे हि थि।

अब उसने मेरा शिरत निकला और मेरि चेसत पर हथ फ़िरने लगि उसने कहा तुमहरि बोदी तो बहुत सत्रोनग हे।फ़िर उसने मेरि पेनत भि उतर दि।मेरा लुनद तो निकर फ़द कर बहर आने कि कोशिस कर रहा था।निकर तेनत कि तरह हो गया था उसने मेरा लुनद निकर मेसे निकला तो उसकि आनखे फ़त गयि पुरा 8” इनच का था शयद एतना बदा लुनद उसने पहेलि बर देखा था।अब वो मेरे लुनद को चुसने लगि।और मेने भि उसकि बरा निकल दि और उसके बदे बदे बूबस चुसने लगा उसकि निप्पले बहुत बहि थि।अब मुजसे रहा नहि जा रहा था मेने उसकि पनती उतर दि और पुरा 8” इनच का लुनद दल दिया वो बोलि धिरे मेरि योनि फ़त जयेदि।उसकि योनि पुरि शवे कि हुयि थि।अब मे पुरे जोश मे आ गया था।उसे जोर जोर से धक्के देने लगा करिब आधे घनते बद वो जुर गयि।अब मेरि सपीद बहुत तेज हो गयि थोदि देर बद मेरे लुनद से भि सफ़ेद दहि निकल गया।

थोदि देर बद जब हुम दोनो शनत हो गये तो मैने उसे कहा हुम जब तक सथ हे हुम कपदे नहि पहनेगे पुरे ननगे हि रहेगे तो वो बोलि जो तुम कहो वैसा हि मे करुगि एक दिन के लिये मे तुमहरि विफ़े हु तुम जो चहे करो।

हुम शम तक एक दुसरे कि बहोमे ननगे सोते रहे और एक दुसरे के बदन से खेलते रहे।करिब 8 बजे वो खदि हुयि और खना बनने चलि गयि।उसकि गनद बहुत बदि थि वो चलते वकत उपर निचे हो रहि थि ।वो बिलकुल ननगि खना बना रहि थि मे ननगा त।व। देख रहा था और उसकि तरफ़ बरि बरि देख रहा था उसकि वहिते कुलहे बहुत खुबसुरत लग रहे थे जैसे हि वो कुच लेने आगे बधति उसके कुलहे और बूबस उपर निचे दोलने लगते थे मेरा तो एकदम फ़िरसे तिघत हो गया मे खदा हुवा और उसके पिचे जकर उसकि गनद मे मेरा लनद रगदने लगा और उसे बहो मे भर लिया

वो मुसकुरने लगि वो रोति बना रहि थि और मे उसके बूबस को पिचे से मसल रहा था कया सोफ़त बूबस थे।फ़िर मैने उसके बूबस पर तेल लगया और उसका मसज करने लगा उसके बूबस चमक रहे थे फ़िर मेने उसकि गनद पे तेल लगया उसकि गनद पे तेल लगता जता था और उसे मसलता जा रहा था फ़िर उसकि पिथ पे, उसकि जनघो पे उसके पुरे बदन पे तेल लगया अब वो भि पुरि कमुक हो गयि थि उसने गस बनद किया और पलतकर मुजे बहो मे ले कर मेरे होथो को चुसने लगि और उसकि जिभ मेरे मुह मे दल दि शयद 10 मिनुत तक हुम एक दुसरे के होथो को चुसते रहे।फ़िर उसने मेरे लुनद पर तेल लगना सुरु किया।उसने मेरे पुरे बदन पर तेल लगने लगि और मसज करने लगि हुम दोनो का बदन पुरा चिकना हो गया था अब मेने उसको अपनि बहो मे भर लिया।

अब मेने वनिता को अपनि बहो मे उथकर बथरूम मे ले गया।मेरा लुनद तो पुरा तना हुवा था वनिता बोलि एसको अभि तो खना खिलया था फ़िरसे बुखा हो गया मेने कहा एसकि बुख तो एक दिन के बद हि मितेगि अब वो मेरि गोदि मे बेथ गयि मे उसके बूबस पर पिचेसे सबुन लगा रहथा और मेरा लुनद उसकि गनद के चेद को छु रहा था

अब वो खदि हो गयि और उसने मेने लुनद को हथ मे लिया और उसका सुपरा बहर निकला और उसपे सबुन लगने लगि और उसको आगे पिछे करने लगि तब मे उसकि गोरे गोरे बूबस पर सबुन लगा रहा था और उसे मसल रहा था अब मेने उसकि निप्पले को अपने मुह मे लेकर चुसने लगा उसके मुह से आवज़ निकल गयि उह्हह्हह्हह्हह्ह अह्हह्हह्हह्हह्हह चुसो मेरे रजा पुरा चुसलो मे उसकि निप्पले पे अपनि जिभ रगद रहा था अब उसने मेरे पुरे बदन पर सबुन लगया मेने भि उसके पुरे बदन पर सबुन लगया और गुच्चहे से रगदा तकि जग जयदा हो

अब मेने उसको बथरूम मे लेता दिया बथरूम कफ़ि बदा था और मेरा लुनद उसके बूबस पे रगद ने लगा वो आवज़ निकल रहि थि उईईईमा अब मुजसे नहि रहा जता दल दे पुरा लुनद मेरि योनि मे मेने अपना पुरा लुनद उसकि योनि पे रख दिया सबुन लगा हुवा था एस लिये फ़त से अनदर चला गया सबुन लगकर चुदै करने का मजा हि कुच और होता हे।मे उसको धक्के दे रहा था और वनिता आनखे बद करके पुरा मजा ले रहि थि करिब एक खनते तक चुदै चलति रहि।फ़िर वो बोलि बहुत मज़ा आया और उसने मेरा गल पर चुम्मि देदि।

रत का दिन्नेर भि हुम दोनो ने ननगे हि किया वो मेरि गोदि मे ननगि बैथि थि और मे भि ननगा दिनिनग तबले पे बैथा था हुम दोनो एक दुसरे को खिला रहे थे मेरा लुनद अब धिला था उसने दो बर जो मजा लिया था खना खने के बद उसने बरतन भि ननगे हो कर धोये मे ये सब देख रहा था अब मेरा लुनद धिरे धिरे फ़िर तिघत हो रहा था उसने बरतन धो कर मेरे पस बेद पर आयि और लेत गयि और तव देखने लगि।

अचनक वो खदि हुयि और एक सुपबोअरद मे से सद निकलि और सद पलयेर मे दल दि वो नकेद पिसतुरे कि सद थि अब हुम वैसा हि करने लगे जैसे उस बलुए फ़िलम मे आ रहा था मेने वनिता कि योनि मे उनगलि दलि और अनदर बहर करने लगा और सथ सथ उसको चत भि रहा था वनिता को बहुत मजा आ रहा था अब उसने मेरे लुनद को मुह मे ले लिया और तव मे आ रहा था वैसे उसे अपना थुक मेरे लुनद पे लगया और अनदर बहर करने लगि। फ़िर मे सिधा सो गया और वो मेरे उपर घुतनो के बल चद गयि और मेरा लुनद उसकि योनि मे दल दिया और उपर निचे होने लगि मुजे बहुत अच्चहा लग रहा था मे उसके बूबस दबा रहा था करिब 15 मिनुत तक ऐसे हि चलता रहा फ़िर वो कुतिअ कि तरह हो गयि और मे पिचे से उसकि चुदै करने लगा पहेले मेने उसकि योनि मे लुनद दला और बदमे उसकि अनल (गनद) मे दल दिया वो चिल्लै उईईमा मेरि फ़त गयि अह्हह्हह्हह।।।। उह्हह्हह्हह्ह।।।। जैसे पिसतुरे मे अवज़ आ रहि थि वैसे हि अवज़ निकल रहि थि।

अब मे जोर जोर से चुदै करने लगा वो और मज़े मे आ रहि थि करिब एक घनते बद हुम दोनो का एनद पोइनत आ गया फ़िर हुम दोनो ननगे हि एक दुसरे को बहो मे लेकर सो गये।
Delhi Sexy Ladki Sex Story on Bhauja
दुसरे दिन हुम करिब 10 बजे उथे दोनो ने एक सथ सनन किया और वो ननगि हि बरेअकफ़सत लने चलि गयि उसने कहा आज करिब 3 बजे मेरा हुसबनद आ जयेगा तुम 12 बजे चले जना मेने कहा थिक हे बरेअकफ़सत मे बरेअद और मखन था अब वो मेरि गोदि मे आकर बेथ गयि मेने कनिफ़े मे मखन लिया और उसके बूबस पे लगने लगा फ़िर उसकि निप्पले पे लगया अब वो फ़िर गयि और मेरि गोदि मे मेरे समने मुह रखकर बैथ गयि मेने उसकि निप्पले से और बूबस से मखन चुसना सुरु किया वो पुरि मधोश हो रहि थि

फ़िर उसने भि मेरि चेसत पे मखन लगया मेरि निप्पले पे मखन लगया और चुसने लगि अब उसने मेरे लुनद पे मखन लगकर पुरा लुनद अपने मुह मे दल दिया और चुसने लगि मेने उसकि योनि को चतने लगा अब उसकि योनि पुरि मुलयम हो गयि थि उसने बैथे बैथे हि मेरा लुनद उसकि योनि मे दल दिया मखन लगने से उसकि योनि चिकनि हो गयि थि मेरा लुनद तुरनत अनदर घुस गया अब वो धक्के देने लगि अब मे उसके होथो को चुसने लगा उसने मेरे लुनद का सुपरा मुह मे दल दिया फ़िर मैने केला लिया और उसकि योनि पे रगदने लगा फ़िर केले को उसके मुह पे रखा तो वो केले को चुसने लगि उपर से निचे कि तरफ़ पुरे केले को चुसने लगि केला कफ़ि बदा था करिब 9इनच का फ़िर मेने केले को सोनदोम पहेनया और उसकि योनि मे दल दिया उसके मुह से अवज़ निकल गयि उईईईईईएमा।।। और आनखे फ़त गयि फ़िर मे केले को अनदर बहर करने लगा फ़िर उसने कहा एसमे मजा नहि आता मुजे तो तुमहरा केला पसनद हे फ़िर मेने अपना लुनद उसकि योनि मे पुरा दल दिया और अनदर बहर करने लगा करिब एक खनते बद वो जुर गयि फ़िर मेने लुनद निकल कर उसके मुह मे दल दिया वो मेरे लुनद को चुसने लगि पुरा लुनद मुह मे दल दिया और अनदर बहर करने लगि थोदि देर बद मेरे सफ़ेद दुध निकल गया सरा दहि वो पि गयि।

फ़िर हुम दोनो ने कपदे पहन लिये और उसने मुजसे कहा तुमने मुजे सवरग के दरशन करा दिये थे मुजे ऐसा मज़ा पहले कभि नहि आया अब हुम कभि एक दुसरे को सोनतेसत करने कि भि कोशिस नहि करेगे हुमदोनो एक दुसरे को भुल जयेगे मेने कहा थिक हे मे तुमहे कभि सोनतेसत नहि करुगा फ़िर जोर से मेरे गले लग गयि और हुमदोनो ने लिप किस्स किया एक दुसरे के लिपस को मुह मे लिया और जिभ को चतने लगे

फ़िर मे वहा से चला गया फ़िर कभि मेने उसे सोनतेसत करने कि कोशिश भि नहि कि उसका मोबिले नो।भि मेरे मोबिले से देलेत कर दिया

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*