दिपाली की चुदाई (Dipali Ki Chudai)

Submit Your Story to Us!

हाए भाउज.COM के दोसतो और पयरि सहेलिओ मेरा नाम विक्की मित्तल है और मैने IIT Roorkee से एनगिनीरिनग करनेय केय बद ईम, अहमेदबद सेय मबा किया है और देलहि मेन अपनेय परिवार कि हि एक एक्सपोरत इमपोरत सोमपनी मेन बहुत अस्सह्हि पोसत पर करया करता हून और 7-8 लसस वरशिक सलरी लेय रहा हून। मेरि उमरा 29 वरश है और मैन देखनेय मेन कफ़ि समरत और हनदसोमे हून बुस बोदी थोदि सि बुलकी है परनतु मेरि हेघत 5फ़त 10 इनच होनेय के करन मैन मोता नहि लगता हून।

मैनेय अभि तक शदि नहि कि है इस लिये मे पुरे थत केय सथ सौथ एक्स मेन रेहता हून।वैसे भि मैन उ।प। कि एक बहुत हि बदि ज़मिनदार परिवर सेय समबनध रखता हून और मैने सौथ एक्स मेन हि अपना 4 बेद रूम फ़लत खरिद लिया है और मैं पूरि मौज मसति मैन रेहता हून। मैन भि इस्स का रेगुलर पथक हून और सरि कहनिया बरेय धयन सेय पधता हून। मुझे ये लगभग सरि कहनिया ( बुस कुछ एक 10% कहनिया छोद कर) बिलकुल कलपनिक लगति है। मैनेय कुछ पोइनतस निकलेय हैन अगर उन पर गौर किया जये तो आप भि मनगेय कि वोह कहनिया बिलकुल कलपनिक हैन। उन पोइनतस का जिकरा मैन अगलि दफ़ा करूनगा। मैन भि बरा हि रसिक मिजज का हून 15-16 वरश कि अयु से हि चुदै का मजा लेय रहा हून।अब तक मैं 50 सेय जयदा लरकिया चोद चुका हून जिनकि कहनि मैन अप सब को अवशया सुनौनगा और अज मैन अपको अपनि पहलि वलि सुदयि कि कहनि सुना रहा हून।
बत उन दिनो कि है जब मैन एलेवेनथ सलस्स मेन पधता था। हमरेय पदोस मेन एक पुनजबि फ़मिली रहति थि जिसमेय सिरफ़ तीन हे मेमबेरस थे। एक 70 वरशिया बुजुरग, एक लदका और एक लदकि। लदकेय कि उमरा लगभग 24-25 साल कि रहि होगि और लदकि कि उमरा 20-21 साल कि होगि।बुजुरग वयकति उन दोनो के पिता थे और अकसर बिमर सेय हि रहतेय थे जबकि उन दोनो कि मोथेर कि देअथ हो चुकि थि। वैसेय तो उस परिवार मेन 5-6 लदकिया और भि थि लेकिन वो सब कफ़ि उमरा कि थि और सब कि शदि हो चुकि थि और अपनेय पति के सथ अपनि ससुरल मेन हि रहति थि जो कि कभि-2 अपनेय पितजि को देखनेय परिवर केय सथ 2-3 दिन केय लिये अति रेहति थि। हमरा भि उस पुनजबि फ़मिली मेन कफ़ि अना जना था।
लदकेय का नाम रजेश और लदकि का नम दीपलि था। दीपलि बहुत हि खुबसूरत थि। मैन रजेश को भै सहेब और दीपलि को जिजि कहता था। दीपलि का बदन मनो भगवन नेय सनचेय मेन धल कर बनया हो। गोरा चित्ता रनग हलका गुलबिपन लिये जैसेय कि दूध मेन चुतकि भर केसर दल दि हो। शरिर 36-24-38 सिज़े। चूचि एक दुम सखत और उभरि हुयि और उसकेय चुतद भरि थेय लगता था कि उसकेय चुतद कि जगह दो गोल बदि-2 बल्लस हो। वोह अदिकतर सलवर कुरता पहनति थि और जब चलति थि तो ऐसा मलूम होता था कि दो गेनद अपस मेन रगद खा रहि हो।जब वोह हसति थि तो गलो मेन बदेय पयरेय दिमपले पदतेय थे जिस सेय वोह और भि खूबसूरत लगनेय लगति थि।वोह बोलति बहुत थि और एक मिनुत भि चुप नहि बैथ सकति थि।उसमेय एक खसबत थि कि वोह किसि कि भि चिज मेन कोइ नुकस नहि निकलति थि चहे उसको पसनद हो या ना हो वोह हमेशा यहि कहति थि कि बहुत हि पयरि है। यदि उसको कुच खनेय के लिये दो और वोह उसको पसनद नहि अयि हो पर वोह तब भि उस कि तारिफ़ हि करति कि बहुत हि तसती बनि हैन। इस बत कि हुम सुब हमेशा हि दीपलि कि तरिफ़ किया करतेय थे। हमरि सोलोनेय के सभि उसकेय दीवनेय थे और एक बर बुस उसको चोदना चहतेय थे। मैन भि अकसर सोचता था कि कश मैन दीपलि को चोद सकु और एक दिन ऐसा मोका अ हि गया। सेपतेमबेर का महिना चल रहा था । उस दिन सुनदय कि छुत्ति थि और समय रहा होगा लगभग 11 बजेय सुबहा का। मैन किसि कम सेय अपनि छत पर गया था। हमरि दोनो कि छत अपस मेय मिलि हुयि हैन और छत सेय उनकेय कमरेय और बथरूम बिलकुल सफ़ दिखयि देतेय है। तो उस रोज जब मैन छत पर गया तो दीपलि केय गनेय कि अवज अ रहि थि सो मैन वैसेय हि उनकेय घर कि तरफ़ देखनेय लगा तो मैन चौनक गया कयोनकि दीपलि बिलकुल नुनगि बथरूम मेन पत्रेय पर बैथि थि और तनगेय चौरि कर रखि थि।
सच दोसतो मैन तो देखता हि रहा गया। दीपलि कि चूचियन एक दुम गोरि और तनि हुयि थि और जैसा कि मैन खयलो मेन सोचता था उस सेय भि अधिक सुनदेर थि। उसकि गोरि चूचियोन केय बिच मेन हलकेय गुलबि रनग केय दो छोतेय-2 सिरसले थे और उनमे बिलकुल गुलबि रनग केय निप्पले थे जो कि बहर को निकलेय थे। उसका सरा शरिर बहुत हि चिकना और गोरा था और तनगो केय बिच मेन तो पुछो हि मत। वहा उसकि चूत पर कलेय रेशमि बल नज़र अ रहेय थे और उनकेय बिच हलकि सि गुलबि रनग कि ददर नज़र अ रहि थि। दरर मेन उपेर कि तरफ़ एक छोता सा चनेय जैसा दना चमक रहा था। वोह उस वकत कपदेय धो रहि थि और उसका सरा धयन उस तरफ़ हि था।दीपलि को इस हलत मेन देख कर मेरा लुनद एक दुम सेय तन कर खदा हो गया मनो वोह इस हसीन चूत को सलमि देय रहा हो। मन कर रहा था कि मैन फ़ोरुन हि वहा पहुच जौ और दीपलि को कस अकर चोद दु पर मैन ऐसा नहि कर सका। मैन कफ़ि देर तक वहा खदा रहा और दीपलि को ऐसे हि देखता रहा और उपेर सेय हि अपनेय लुनद को पकर कर सहलता रहा। मेरि हलत बहुत खरब हो रहि थि। मेरा गला एक दुम सेय खुशक हो गया था कि मैन थूक भि थिक सेय नहि निगल पा रहा था। मेरि तनगेय कनप रहि थि और ऐसा लग रहा था कि मेरि तनगो मेन बिलकुल दुम नहि रहा और मैन गिर जौनगा। मैन इस हलत मेन उसको करिब -2 15-20 मिनुत तक देखता रहा। वोह बर -2 सर झुका कर तनगो मेन अपनि चूत कि तरफ़ देख रहि थि और एक कपरेय सेय चूत केय बलो को रगद रहि थि जिस सेय उसकि चूत केय कुछ बल उतर जतेय थेय। मैं समझ गया कि अज दीपलि अपनि चूत केय बल हैर रेमोवेर सेय सफ़ कर रहि है। मैन उसेय बरेय हि गौर सेय देख रहा था कि अचनक उसकि नज़र मेरेय पर पद गयि और उसनेय एक दुम सेय बथरूम का दरवजा बनद कर लिया।
येह देख कर मैन बहुत दर गया और छत से निचेय उतर अया। मैन सरेय दिन इसि उधेदबुन मेन लगा रहा कि अगर जिजि इस बरेय मेन पुछेनगि तो मैन कया जवब दूनगा लेकिन कुछ सुझ हि नहि रहा था। मैनेय सोचा कि मैन 2-3 दिन उसको दिखयी हि नहि पदुनगा और उसकेय बद ममला कुछ शनत हो जयेगा और तभि देखा जयेगा कि कया जवब देना है। मैन एक दिन तो दीपलि सेय बचा हि रहा और उसकि नज़रोन केय समनेय हि नहि अया। अगलेय दिन पपा और मुम्मी को किसि के यहन सुबहा सेय शम तक केय लिये जना था और दरिवेर अया नहि था तो पपा नेय मुझको कहा कि मैन उनको सर सेय छोद अयु और शम को वपस लेय अयु। सो मैन उनको सर सेय छोदनेय जा रहा था कि मैनेय दीपलि को अपनि सर कि तरफ़ तेजि के सथ अतेय हुये देखा तो दर के मरेय मेरा हलक खुशक हो गया। मुम्मी पपा सर मैन बैथ हि चुकेय थे सो मैनेय झुत सेय सर सतरत कि और बधा दि। हलन कि मुम्मी नेय कहा भि के दीपलि हमरि तरफ़ हि अ रहि है कहि कोइ ज़रूरि काम ना हो पर मैनेय सुना उनसुना कर दिया और गदि को तेजि केय सथ ले गया। मैनेय मन हि मन सौचा कि जान बचि तो लखो पये और लौत कर बुद्दहु घर को अये। जब मैन पपा मुम्मी को छोद कर वपिस घर अया तो देखा कि वोह हमरेय गते पर हि खदि है जैसेय हि मैनेय सर रोकि वोह भग कर सर के पस अ गयि और मेरेय से बोलि कि सर को भगा कर लेय जनेय कि कोशिश ना करना वरना बहुत हि बूरा होगा और मैन बहुत बुरि तरहा सेय दर गया और हकलतेय हुये कहा कि जिजि मैन खा भगा जा रहा हून और मेरि इतनि हिम्मत हि कहन हैन कि जो मैन अप सेय भग सकु? इस पर दीपलि नेय कहा अभि जब तुनेय मुझेय देखा था तब तो जलदि सेय भग गया था और अब बत बना रहा है। मैनेय कहा कि जिजि मुझ को सर को एक तरफ़ तो लगनेय दो और फिर अनदर बैथ कर बात करतेय हैन।
वोह बोलि थिक हैन और मैनेय सर को एक तरफ़ लगा दिया और दीपलि केय सथ अनदेर अपनेय घर मैन चला गया। मैनेय अपनेय कमरेय मैन जतेय हि अ।स। ओन कर दिया कयोनकि घबरहत केय मरेय मुझे पसिना अ रहा था। फिर मैन अपनेय होनथो पर जबरदसति हलकि सि मुसकन ला कर बोला कि अ ओ जिजि बैथ जओ और बोलो कि कया कहना है और ऐसा कहतेय -2 मैन रौअन सा हो गया तो वोह बोलि दर मत मैन तुझ को मरुनगि या दनतुगि नहि बौ मैन तो येह कहनेय अयि हून कि तु उस दिन छत सेय कया देख रहा था तो मैन अनजन सा बननेय लगा और कहा कि जिजि अप कब कि बत कर रहि है मुझेय तो कुछ धयन नहि है तो उनहोनेय हलका सा मुसकरा कर कहा कि सलेय बनता है और अभि सुनदय को सुबहा छत सेय मुझेय नुनगा नहि देख रहा था? मनिएय कोइ जवब नहि दिया तो वोह बोलि कि कया किसि जवन लदकि को इस तरहा नुनगा देखना अछा लगता है शरम नहि अति तो मैनेय कहा कि जिजि अप हि इतनि खुबसूरत कि अपको उस रोज अपको नुनगा देखा तो मैन अनखेय हि नहि फेर सका और मैन अपको देखता हि रहा। वैसेय मैन बदा हि शरिफ़ लदका हून और अप को हि पहलि बर मैनेय नुनगा देखा हैन। तो वोह हनस कर बोलि कि हन-हन वोह तो देखयि हि देय रहा है कि तु कितना शरिफ़ लदका है जो जवन लदकियोन को नुनगा देखता फिरता है।
मैने भि झत सेय कहा कि जिजि उस रोज अप तनगो केय बिच बलो को बर-बर कयोन रगद रहि थि तो इस पर वोह शरमा गयि और बोलि धुत कहि जवन लदकियोन सेय ऐसि बत पुछि जति है तो मैनेय पूचा कि फिर किस सेय पूछि जति है तो उसनेय इतना हि कहा कि मुझेय नहि मलूम। अब मैन समझ गया था कि वोह उस रोज देखनेय सेय जयदा नरज़ नहि थि। उस समया तक मेरा दुर कफ़ि हुद तुक कुम होगया था और मेरा लुनद खदा होना शुरु हो गया था।मुझेय फिर मुसति सुझि और मैनेय फिर सेय दीपलि सेय पूछा कि जिजि बतयो ना कि तुम उस रोज कया कर रहि थि? येह सून कर वोह पहलेय तो मुसकरति रहि और फिर एक दुम सेय बोलि कि कया तु मुझेय फिर सेय नुनगा देखना चहेगा? मेरा दिल बहुत जोरो सेय धदकनेय लगा और हलकेय सेय कहा कि हा जिजि मैन फिर सेय अपको नुनगा देखना चता हून। तो वोह बोलि कि कया कभि तुनेय पहलेय भि येह कम किया है तो मैनेय कहा कि नहि तो उसनेय कहा कि अ मेरेय पस अज मैन तुझको सुबकुछ सिखौनगि और येह कहा कर उसनेय मुझेय अपनि बहो मैन जकर लिया और मेरे होनथ चुमनेय लगि। मैनेय भि उस को कस कर पकद लिया और उसकेय होनथ चुमनेय लगा। उसकि जिभ मेरेय मुनह मेन घुसनेय कि कोशिश कसर रशि थि तो मैनेय अपना मोनह खोल कर उसकि जिभ चूसनि शुरु कर दि। इधर मेरा लुनद भि चोत हकये कलेय नग कि तरहा फ़ुनफ़ुना रहा था और पेनत मेन सेय बहर अनेय के लिये मचल रहा था।मैनेय एक हथ बधा कर दीपलि कि तनि हुयि चूचि पर रख दिया और बदि बैतबि के सथ उसको मसलनेय लगा। दीपलि का सरा शरिर एक भत्ति कि तरहा तुप रहा था और हमरि गरम सनसेय एक दुसरेय कि सनस सेय तकरा रहि थि। ऐसा लुग रहा था कि मैन बदलो मैन उदा जा रहा हून।अब मेरे सेय सबरा नहि हो रहा था। मैनेय उसकि चूचि मसलतेय हुये अपना दुसरा हथ उसकेय चूतदो पर रख दिया और उनको बहुत बुरि तरहा मसलनेय लगा।
दीपलि केय मूनह सेय हलकि सि करहनेय कि अवज निकलि ओह्हह्हह्ह।।।।।अयीईई।।। और बोलि जरा अरम सेय मसलो मैन कोइ भगि नहि जा रहि हून। तेजि केय सथ मसलने पर दरद होता हैन लेकिन मैन अपनि धुन मेन हि उसकेय चूतद मसलता रहा और वोह ओह्हह्हह्ह।।।।।।।।।।। अययययीए।।।।। करति रहि। येह अवजेय सुन कर मेरा लुनद बेतब होरहा था और पेनत के अनदेर से हि उसकि नभि के अस पस तक्कर मर रहा था। मैनेय उसकेय कन मेन फ़ुसफ़सतेय हुये कहा कि अपनि सवर कमिज़ उतर दो तो पहलेय तो वोह मना करनेय लगि लेकिन जब मैनेय उसकि कमिज़ उपेर को उथनि शुरु कि तो उसनेय कहा रुको बबा तुम तो मेरे बुत्तोन हि तोद दोगेय मैन हि उतर देति हून और येह कहा कर उसनेय अपनि कमिज़ केय बुत्तोन खोल कर अपनि कमिज़ उतर दि अब वोह सिरफ़ वहिते बरा और सलवर मेन कदि थि। मैन उसको देखता हे रहा गया।उसकि बगल मैन एक भि बल नहि था शयद सुनदय को हि बगल केय भि बल सफ़किये थे। मैनेय अपना दहिना हथ उथा कर उसकि बयि वलि चूचि पर रख दिया और बरा के उपेर सेय दबनेय लगा और दुसरेय हथ को मैन उसकि गनद पर फिरा रहा था। दीपलि का चेहरा लल सुरख हो गया था और उसकेय मूनह सेय सिसकियन निकल रहि थि। वोह अह्हह्ह।।।। अह्हह्ह।।।।। ओह्हह्ह।।।। कर रहि थि। इस समय मेरेय दोनो हथ उसकि चूचि और गनद मसलनेय मेन वयसत थेय और होनथ उसकेय होनथो को चूस रहे थे। मैनेय उसको पलनग पर लिता दिया और मैन उसकेय उपैर चध गया और उसकि कमर के निचेय हथ लेजा कर सर को उपेर उथया और उसकेय होनथ चूसनेय लगा। मैन इतना जोश मेन था कि कयि बर उसनेय कहा कि जरा अहिसतेय चूसो मेरा दुम घुता हैन। कै बर तो एक दुसरेय के होनथ चूसतेय-2 हमरे दोनो के मूनह सेय गूऊ।।।।।।न।।।।।।।।।।गू कि अवज निकल जति। अब मैनेय पिचेय सेय उसकि बरा का हूक खोलनेय लगा था और थोदि सि मेहनत केय बद उसेय भि खोल दिया और हूक खुलतेय हि उसकि चूचियन एक दुम सेय उपेर को उछलि मनो उनको जबरदुसति दबा कर कैद किया गया था और अब उनको अज़दि मिल गयि हो। उसकि चूवहियन बहुत हि गोरिचित्ती और एक दुम सखत और तनि हुयि थि।
निप्पले बहर को उथेय हुये और एक दुम तनेय हुये थे। जैसेय हि मैनेय एक हथ सेय उसकि चूचि मसलनि शुरु कि और दुसरि को अपनेय मूनह सेय चूसनेय लगा तो दीपली हलत खरब हो गयि और वोह जोर सेय कसमसनेय लगि। अब उसकेय मूनह सेय स्ससीईई।।।।।। अह्हह्हह्हह्हह।।।।।।ओह्हह्हह्हह्ह मीएर्रर्रर्रि माआआआआअ मर्रर्रर्र गयीईई रीईई जैसि अवज निकलनेय लगि। इधर मेरा लुनद अभि तक पेनत मेन हि कैद था और उछलकूद कर रहा था और उसकि सलवर केय उपेर सेय हि उसकि चूत पर तक्कर मर रहा था। अब मैनेय मूनह सेय उसकि चूचि चूसतेय हुये
और एक हथ सेय चूचि मसलतेय हुये दुसरेय हथ सेय उसकि सलवर का नदा खोल दिया और उसनेय भि कोइ देर नहि कि तथा अपनि गनद उपेर कर केय मुझेय अपनि सलवर उतरनेय मेन मदद कर दि। अब वोह सिरफ़ पनती मेन हि थि और उसनेय वहिते रनग कि हि पनती पहेन रखि थि जो कि चूत केय उपेर सेय कुच गिलि हो रहि थि। लगता था कि उसकि चूत नेय उत्तेजना केय करन छोदना शुरु कर दिया था। जैसेय हि मैने उसकि चूत को पनती के उपेर सेय सहलना शुरु किया तो वोह कनपनेय सेय लगि और मसति मेन अकर बोलि कि मुझको तो नुनगि कर दिया है और मेरा सुब कुछ देख लिया है लेकिन तुम अपना लुनद अभि तक पेनत मेन छुपये हुये हो और येह कहा केर पेनत कि ज़िप खोल दि और चूनकि मैन पेनत के निचेय या वैसेय उनदेरवेअर नहि पेहेनता हून मेरा लुनद एक दुम फ़ुन फ़नता हुया बहर निकल अया। मेरा लुनद देखतेय हि दीपलि एक दुम मुसत होगयि और बोलि है रम तुमहरा लुनद तो कफ़ि लुमबा और मोता है लग भग 8 इनच लुमबा होगा और 3।5 इनच मोता होगा। वह तुमहरेय सथ तो बहुत हि मज़ा अयेगा। मैन तो तुमहेय अभितक बछा हि समझति थि मगर तुम तो एक दुम जवन हो , एक खूबसुरत लुनद केय मलिक हो और बहुत अछि तरहा सेय चोदनेय कि तकत रखतेय हो।
अब उसनेय मेरे सरेय कपदेय एक एक कर के उतै दिये और मेरे तुनेय हुये लुनद को सहलनेय लगि। मेरेय लुनद का सुपदा एक दुम सेय लल हो रहा था और कफ़ि गरम था। अब मैनेय भि उसकि चूत पर सेय उसकि पनती उतर दि और देखा कि अज उसकि चूत पर एक भि बल नहि है और एक दुम सफ़ा चुत है। मैनेय कहा कि जिजि उस रोज तो तुमहरि चूत पर बहुत झनतेय थि और अज एक दुम सफ़ है और किसि हिरेय (दिअमोनद) कि तरहा चमक रहि है तो वोह हुनस पदि और बोलि कि मैन तुमहरि तरहा नहि हून जो अपनि झनत और बगल का जुनगले सफ़ ना करेय येह मुझको अछा नहि लगता और तुम भि येह सब सफ़ करा करो नहि तो ज़ून हो जयेनगि। मैनेय कहा जिजि मैनेय तो अज तक अपनि झनत और बगल केय बल सफ़ हि नहि किये है और मुझेय दुर लगता है कि कहि बलदे सेय कुत ना जये तो वोह खिलखिला पदि और फिर बोलि अगर ऐसि बत है तो बगल केय बल और लुनद सेय झनत मैन शवे कर दुनगि और हन एक बत और है कि अब तु मुझेय बर बर जिजि ना कहा कर। अब मैन तेरि जिजि नहि रहि हून, तेरि मशूका हो गयि हून इस लिये अब तु मुझको परिया कहा कर। मैने कहा अछा येह कहा कर मैनेय एक उनगली उसकि चूत के छेद मेन दल दि, छेद कफ़ि गिला था और एक दुम चिकना हो रहा था। उसकि चूत एक दुम गुलबि थि पनि निकलनेय केय करन कफ़ि चिकनहत थि। मैनेय उसकि चूत मैन उनगलि अनदर बहर करनि शुरु कर दि और कभि कभि मैन उनगलियोन केय बिच उसकेय दनेय ( सलितोरिएस) को भि मसल देता था। उसकेय मूनह से सिसकरियन निकल रहि थि वोह आह्हह्ह।।।। आह्हह्ह।।।। हैईईईई हैईईईइ उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ कर रहि थि और कहा रहि थि कि जरा जोर सेय उनगलि को अनदेर बहर करेय और मैन और तेजि केय सथ करनेय लगा। उसकेय मूनह सेय सिसकरियोन कि अवज बधति हि जा रहि थि और वोह लगतर उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़।।।।।उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़।।।।ओह्हह्हह्हह्हह्हह।।।।ओह्हह्हह्हह्हह्हह्हह्ह है मर गयि कर रहि थि तभि वोह अपनि कमर तेजि केय सथ हिलनेय लगि और अतक अतक कर बोलि हाआआआआ।।।।।। और्रर्रर्रर्रर्र तेज्जज्जज्जज सेय अनदर बहर करो हैईईई मेर्रर्रर्रर्रर्रर्ररा निकलाआआआआ निकलाआआआआअ कहा कर शनत सि हो गयि और मैनेय देखा किउसकि चूत मैन सेय पनि निकल रहा था जिस सेय चदर गिलि हो गयि थि।
मैनेय कहा जिजि अपका तो निकल गया तो हन मैन झर गयि हून और फिर थोदा दिखवति गुस्सेय सेय बोलि कि मैने अभि कया कहा था भूल गया? कि तु मुझ को अब जिजि नहि बलकि परिया कहा कर बुलया कर और तु फि भि जिजि हि किये जा रहा है। मैनेय कहा सोर्री जिजि ।।। उफ़ नहि परिया। कुच देर हुम ऐसेय हि मज़ा लूत तेय रहे और इस बिच वोह एक बर और झर चुकि थि। वोह अभि तक मेरा लौदा सहला रहि थि अब मेरि बरदशत सेय बहर हो रहा था वोह भि कहनेय लगि कि विक्की और मत तदपओ और अपना लौदा मेरि चूत मेन दल भि दो। येह सून कर मैन उसकि तनगो केय बिच मेन अ गया और उसकि गनद के निचेय एक तकिया रख दिया जिस सेय उसकि चूत उपेर को उथ गयि अब मैनेय उसकि तनगो को चौदा कर केय घुतनो सेय मोद कर उपेर को उथया और अपनेय लुनद का सुपदा उसकि चूत के छेद पर रखा तो मुझेय लगा कि मैनेय लुनद किसि भत्ति पर रख दिया उसकि चूत इतनि गरम थि और भत्ति कि तरहा तुप रहि थि। मैने अपनि कमर को उथा कर एक धक्का मरा और मेरेय लुनद का सुपदा उसकि चूत मेन घुस गया और इसकेय बद मैनेय एक बहुत जोर दर धक्का लगया जिस सेय 5-6 इनच तक मेरा लुनद उसकि चूत मेन घुस गया और उसकेय मूनह सेय एक सिसकी निकलि और बोलि कि तो तो बदा बे दरदि है जो एक हि धक्केय मेन अपनेय लुनद को मेरि चूत मेन गुसना चहता है। अरेय मेरि चूत फदनेय का इरदा हैओ कया ज़रा अरम सेय कर तेरा लुनद बदा हैन ना इस लिये दरद होता है। लेकिन मैनेय उसकि एक भि नहि सुनि और एक और धक्का तेजि के सथ लगा दिया और अब सरा का सरा लुनद उसकि चूत मेन घुस गया था।वोह हलकि सि अवज मेन चिल्लयि कि हययययययी अर्रर्ररेय मर गयि ऊऊऊ मेर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्ररि म्मम्ममाआआआआआअ मेर्रर्रर्रर्रर्ररीईईईईईई चूऊऊओत फाआआआआआआद दीईईईईईई और मेन एक दुम दुर गया कि कुछ गदबद ना हो गयि हो और पुछा कि जयदा दरद हो रहा हो तो मैन निकल लू वोह बोलि अरे नहि जयदा तो नहि मगर तुनेय एक दुम अनदेर कर दिया है इस लिये थोदा सा दरद हो रहा हैन तेरा लुनद कफ़ि लुमबा और मोता हैन ना इस लिये।
अब तो मेरे उपेर लेत जा और चूचि चूस और मैने ऐसेय हि किया और उसकि चूचि चूसनेय और मसलनेय लगा । कुच देर मैन हि उसे मज़ा अनेय लगा और अपनि गनद हिला हिला कर उपेर को उथनेय लगि और बोलि अब धक्केय लगा और मैने अपनि कमर और चूतद उथा उथा कर जोर शोर से धक्केय मरनेय शुरु कर दिये। थोदि हि देर मेन उसकेय मूनह सेय अनत शनत अवजेय निकलनेय लगि। वोह बोल रहि थि अयययययययीईए।र्रर्रेय स्सछह्हह्हह्हह्हूओद्दद्द मूऊउझेय जूऊओर जूऊर सेय चोद फाआअद्द देय मेर्रर्रीईइ छह्हह्हूऊऊऊऊऊऊओत कूओ उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ मेर्रर्रर्रा फह्हह्हहिर्रर्रर सेय निकलनेय वलाआआआआअ है हाअ और जूऊऊओर्रर्र सेय और येह कर कर तेजि सेय कमर हिलनेय लगि और स्सस्सीईईईइस्सस्सस्सीईई करति हुयि झरगयि मेरा लुनद एक दुम गिला होगया था और कफ़ि चिकना हो गया था जिस सेय वोह 2-3 बर बहर भि निकल गया। अब मैनेय धक्केय लगनेय कि सपीद तेज कर दि थि। मुझ को थोदि मसति सुझि और मैनेय धक्केय लगतेय-2 एक उनगलि पर उसका पनि लगया और अचनक उसकि गनद के सुरख पर फेर तेय हुये मैनेय उनगलि को उसकि गनद केय अनदेर कर दिया और वोह एक दुम दुरद सेय चीख उथि और बोलि कि कया शैतनि कर रहा है अरेय मेरे को दरद होता है मेरि गनद सेय उनगलि को फ़ौरन बहर निकलो। मैनेय पूछा कि कया कभि किसि सेय गनद मरयि है? मैन तुमहरि गनद मरना चहता हून। इस पर दीपलि नेय कहा कि नहि उसनेय अपनि गनद कभि नहि मरवयि है और ना हि मेरेय सेय मरवयेगि कयोन कि वोह गनद मरनेय को सहि नहि मनति हैन।
फिर उसनेय पलत कर पूछा कि कया तुमनेय किसि सेय अपनि गनद मरयि है या किसि कि गनद मरि हैन तो मैनेय नहि मेन जवब दिया। इस ओएर उसनेय कहा कि विक्की तु तो बहुत हि सुनदेर और समरत है तुझेय कैसेय छोद दिया कयो कि लदकेय अपस मेन एक दुसरेय कि गनद हि मर कर कम चला तेय हैन। मैनेय कहा कि मैन मैन सेक्सी ज़रूर हून लेकिन मैन ना तो किसि लदकेय कि गनद मरता हून और ना हि मरवता हून मैन तो बुस चूत हि चोदना चहता हून। हा अज तुमहरि गनद पर दिल अ गया है इस लिये मरना चहता हून। दीपलि बोलि कि अभि तक तो उसनेय गनद कभि नहि मरवयि है यदि कभि मरवनेय कि इछा हुयि तो वह मेरेय सेय हि मरवयेगि। हुम बतेन कर हि रहे थे कि वोह फिर सेय अनतशत बकनेय लगि कि ह्हह्हाआआ और जूऊओर्र सेय माआअर्रर्रर निकल देय म्ममीर्ररा स्सस्सस्सस्ससाआआर्रर्रर्रर्रर्रर्रर्रा पनि आअज्जज्जज्जज्जज्ज बनदेय मेरि छह्हह्हह्हह्हह्हहूऊऊत कि चत्तत्तत्तत्तताआन्नन्नन्नीईईईईईई उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़ ह्हह्हाआअ वोह ऐसेय हि करति रहि और इधर मेरेय भि धक्को कि रफ़तर बधति हि जा रहि थि और मैन पसिनेय-2 हो रहा था अब मेरे मूहन सेय भि अनतशनत निकल नेय लगा ह्हह्हाआअ कयूऊओ नहीईईइ मैन अज हि तुमहरि चूत को चोद कर भोसदा बना देता हून हैईईईईईई मेरा अनेययययययी लगा हैईईईईई लगता है कि9 निकलनेय वला है उफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ और लूऊऊओ और लूऊऊऊऊऊऊऊऊ कहतेय हुये फ़ुल्ल सपीद सेय धक्केय मर रहा था कि लगा कि मेरेय लुनद सेय कुच बहर अ रहा है और मैनेय हनफ़तेय हुये उसे कस कर पकद लिया और जोर जोर सेय उसकि चूचि चूसनेय लगा उधेर दीपलि भि अवजेय निकल रहि थि कि हाआऐईईईईईईईइ मैईईईई फिर्रर्रर सेययययययी झर्रर्रर्रर्रर्रर रहीईईईई हून्न ऊऊओ मेरि माआआआआआआआ मेर्रर्रर्रराआआआआआ निकल रहा है और येह कहते -2 उसका सरा शरिर एक बर फिर सेय अकद गया और वोह भि मेरेय सथ सथ झर गयि।
उसनेय झदतेय हुये अपनेय दानत मेरेय कनधेय मेन गदा दिये और मेरेय मूनह सेय एक चीख निकल गयि और वोह जोर सेय हनस पदि। मैन कफ़ि देर तक ऐसेय हि उसकेय उपेर पदा रहा फिर हुम दोनो उथकर बथरूम मेन गये तो उसनेय मुझेय बहर जनेय केय लिये कहा पर मैनेय मना कर दिया और कहा कि परिया मैं तो यहिन रहूनगा और तुमको पेशब करतेय हुये देखुनगा पहलेय तो वोह मना करति रहि लेकिन वोह फिर मन गयि और मेरेय समनेय बैथ कर पेशब करनेय लगि। मैन येह तो नहि जन पया कि उसका पेशब चूत मेन से कहा सेय निकल रहा है लेकिन उसको पेशब करतेय हुये देख कर अछा बहुत लगा। उसकेय पेशब कि धर उसकि चूत सेय कफ़ि मोति बहर अ रहि थि और सुरवे मेन होकर उपेर को उथति हुयि कफ़ि दूर पद रहि थि और दीपलि मेरि तरफ़ देख कर शरमिली हनसि हनस रहि थि। फिर मैने पेशब किया तो उसनेय भि मुझेय बदेय गौर सेय देखा मेरि भि धर कफ़ि मिति थि और कफ़ि दूर तक जा रहि थि। इसि बिच हुम दोबरा उत्तेजित होनेय शुरु हो गये और हुम लोगो नेय एक बर फ़िर सेय चुदै कि । हुम कफ़ि देर तक युहि चिपतेय हुये नुनगेय पदेय रहेय और बत करतेय रहेय। मेरा मन तो उसको एक बर फ़िर सेय चोदनेय को कर रहा था लेकिन दीपलि नेय हि मना कर दिया और कहा कि जयदा चुदयि नहि करनि चहिये नरना कमजोरि अ जयेगि। मैनेय भि उसकि बात मन लि और अपनेय कपरेय पहन कर तैययर हो गये और फ़िर दूसरेय मोकेय कि तलश मेन रहनेय लगेय।
तो दोसतो और सखियोन येह था मेरा चुदै कि पहला तज़ुरबा। उम्मिद है कि अप सब नेय बदेय गोर सेय पधा होगा इस लिये अब बरि अप कि हैन यनि कि अपकि रै कि, कि खनि अप को कैसि लगि।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*